खास खबरें महर्षि पाणिनि संस्कृत विवि में तीसरा युवा महोत्सव आज से शुरू सुरक्षा बलों की 100 कंपनियों ने की घाटी में कूच, यासीन मलिक को किया गया अरेस्ट पुलवामा हमला : दबाव में आया पाकिस्‍तान ने जैश-ए-मोहम्मद के मुख्‍यालयों का नियंत्रण अपने हाथ में लिया यहॉ शुरू होगा नये नियमों वाला क्रिकेट, टूर्नामेंट में खेली जाएंगी 100 बॉल पीएम मोदी आज राजस्‍थान में करेंगे करेंगे रैली, टोंक से करेंगे चुनावी अभियान की शुरूआत 'दिल चोरी साडा़ हो गया' को मिला सॉन्‍ग ऑफ दि ईयर का अवॉर्ड पीएफ पर बढ़ी ब्‍याज दर, नौकरीपेशा को होगा इतना लाभ मध्‍यप्रदेश में यहा मिला मिला 70 लाख टन सोने का भंडार PRC : अरूणाचल प्रदेश के ईंटानगर में भड़की हिंसा, इंटरनेट बंद संकष्टी चतुर्थी : श्री गणेश दूर कर देते है जीवन के सारे विघ्‍न

दिव्यांग महिला सरपंच का कमाल पंचायत बनी स्वच्छ पंचायत

दिव्यांग महिला सरपंच का कमाल पंचायत बनी स्वच्छ पंचायत

Post By : Dastak Admin on 05-Sep-2018 22:30:08

 शौचमुक्त पंचायत

 (सफलता की कहानी) 
महिला सरपंच का नेतृत्व, खुले में शौचमुक्त हुई पंचायत 
सिंगरौली | समग्र स्वच्छता अभियान देश के बड़े शहरो में नही दूर दराज के गावो में भी असर दिखा रहा है। लोग उत्साह के साथ इस अभियान से जुड़ रहे है। सिंगरौली जिलें के चितरंगी विकास खण्ड के ग्राम मिसिरगवां की उत्साही सरपंच ने इस अभियान से जुड़ कर अपनी पंचायत को खुले में शौच से मुक्त पंचायत घोषित कराया है। दिव्यांग सरपंच श्रीमती फूलमती सिंह को स्वच्छता अभियान में सराहनीय योगदान के लिए जिला पंचायत द्वारा 25 हजार रूपये का पुरस्कार दिया गया है। जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री प्रियंक मिश्रा ने सरपंच को प्रमाण पत्र तथा प्रोत्साहन राशि प्रदान की। 
   कोई भी कार्य असंभव नही होता है। कठिन से कठिन लक्ष्य भी निरंतर प्रयाश से प्राप्त किए जा सकते है। इसे ग्राम पंचायत मिसिरगवां की दिव्यांग महिला सरपंच फूलमती सिंह ने सच करके दिखाया है। सरपंच बनने के बाद उन्होंने अपनी पंचायत को खुले में शौच से मुक्त कराने के लिए लगातार प्रयाश की। उन्होने ने ग्राम पंचायत सचिव अन्य कर्मचारियो तथा रोजगार सहायक संतोष सिंह के साथ मिलकर पंचायत के प्रत्येक वार्ड में बैठके ली। विशेष रूप से महिलाओं को शौचालय के निर्माण तथा नियमित उपयोग के लिए प्रेरित किया गया। धीरे धीरे गाव में अभियान ने जोर पकड़ा कुछ घरो में शौचालय निर्माण से सुरू हुआ यह अभियान हर घर में शौचालय बन जाने पर समाप्त हुआ। स्कूल तथा आगनवाड़ी केन्द्रों में भी शौचालय निर्माण कराके उनके साफ सफाई की व्यवस्था की गई। पंचायत के सभी 531 परिवार अब शौचालय का उपयोग कर रहे है।शौचालय बन जाने के बाद मार्निग फालोअप लगातार करके हर शौचालय के उपयोग के लिए प्रेरित किया गया। सब के सामूहिक प्रयाशो और महिला सरपंच के सफल नेतृत्व से पंचायत खुले मे शौच से मुक्त घोषित हुई।

 

Tags: शौचमुक्त पंचायत

Post your comment
Name
Email
Comment
 

सिंगरौली

विविध