खास खबरें वाट्सएप पर पोस्ट करने पर पटवारी की शिकायत, कलेक्टर ने उज्जैन किया अटैच पंडित नेहरू की जयंती पर सोनिया गांधी और मनमोहन समेत कई नेताओं ने दी श्रद्धांजलि अमेरिका : कैलिफोर्निया में लगी भीषण आग में अब तक हुई 44 की मौत, कई सेलिब्रिटीज के घर भी जले विराट कोहली खो बैठे थे अपना संयम - विश्‍वनाथन आनंद राहुल गांधी की मौजूदगी में टिकट बंटवारे को लेकर पायलट और डूडी में कहासुनी दीपिका के परिवार ने नारियल दे किया रणवीर का स्‍वागत, कोंकणी रिवाज से हुई सगाई आज से दिल्‍ली में शुरू होगा ट्रेड फेयर, 18 से मिलेगी आम लोगों को एंट्री पीएम मोदी-राहुल गांधी 16 नवम्‍बर को मध्‍यप्रदेश के एक ही जिले करेगें रैलियां केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार का आज बेंगलुरू में राजकीय सम्‍मान के साथ अंतिम संस्‍कार छठ पूजा : संतान प्राप्ति और उनकी मंगल कामना के लिए करते है सूर्य की उपासना

शहीद संपूर्ण समाज के लिए प्रेरणा स्रोत है- श्री शिवनारायण सिंह

शहीद संपूर्ण समाज के लिए प्रेरणा स्रोत है- श्री शिवनारायण सिंह

Post By : Dastak Admin on 14-Aug-2018 22:51:16

shahid samman diwas


कुछ पल गम के एवं कुछ पल खुशी के छलके आंसू 
उमरिया | शहीद सम्मान दिवस के अवसर पर विधायक श्री शिवनारायण सिंह, कलेक्टर श्री माल सिंह एवं पुलिस अधीक्षक डॉ. असित यादव सहित अन्य प्रबुद्ध व्यक्तियों द्वारा बरहटा ग्राम पंचायत के बंधवाटोला में अमर शहीद नायक सीताराम रघुवंशी एवं हवलदार भूप सिंह के तैल चित्र पर दीप प्रज्जवलन कर श्रद्धा, सुमन अर्पित किया। इस मौके पर शहीद सीताराम रघुवंशी की धर्मपत्नी शांती देवी एवं हवलदार स्व. भूप सिंह की धर्मपत्नी को मुख्यमंत्री जी द्वारा प्रेषित सम्मान पत्र के साथ साथ शाल एवं श्रीफल से सम्मानित किया गया। 
    विधायक बांधवगढ़ श्री शिवनारायण सिंह ने शहीद सम्मान दिवस के अवसर पर कहा कि शहीदों के कारण देश के नागरिक अमन, चैन की जिंदगी जी रहे है। शहीदो ने देश की रक्षा और सम्मान,के लिए  प्राणों की आहूति दे दी है। ऐसे रणबांकुरों एवं बहादुरों को शत शत नमन। विधायक श्री सिंह ने कहा कि वे माता पिता  जिन्होंने इन बहादुर जाबांजों को जन्म दिया है, उन्हें एवं उनके परिवार जनों को सम्मान देकर संबल प्रदान किया गया है। हर अंतरआत्मा में देश की सेवा की भावना जागृत हो इसी उददेश्य को लेकर शहीद सम्मान दिवस आयोजित किया गया है, ताकि देश की रक्षा एवं सुरक्षा के लिए हर दिल में जज्बां हो। 
    इस अवसर पर कलेक्टर श्री माल सिंह ने कहा कि देश का  सम्मान बचाने वालों को यह सम्मान मिला है इससे देश भक्ति के प्रति भाव जागृत होगा, जो बलिदान या शहीद हो गये है उससे पूरा क्षेत्र गौरवान्वित महसूस कर रहा है, उनके परिवार में कमीं की पूर्ति तो नही कर सकते, लेकिन सम्मान देना हम सबका दायित्व है। ऐसे सपूत और पैदा हों जिससे पूरा परिवार समाज, प्रदेश एवं देश गौरान्वित हों। देश के सम्मान एवं रक्षा के लिए माहौल तैयार करने की जरूरत है। 
    शहीद सम्मान के अवसर पर पुलिस अधीक्षक डा असित यादव ने कहा कि प्रदेश के मुख्मंत्री जी ने शहीद परिवारों को सार्वजनिक सम्मान करने का निर्णय लिया है, उससे परिवार को संबल मिलेगा। जीवन की कमी को पूरा तो नही किया जा सकता लेकिन पूरा समाज परिवार के साथ खड़ा रहेगा। ऐसी भावना हर मानव के जेहन में होनी चाहिए।
    इस अवसर पर अमर शहीद सीताराम रघुवंशी ने ग्राम में जिस स्कूल में शिक्षा ग्रहण थी वहां पर भी कार्यक्रम आयोजित किया गया। इस अवसर पर स्कूली छात्र छात्राओं ने उनके तैल चित्र पर माल्यार्पण अर्पित कर उन्हें विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित की। 
    शहीद सीताराम रघुवंशी के सम्मान समारोह मे जब उनके कृतित्व एवं व्यक्तित्व एवं राष्ट्र प्रेम की भावना के संबंध में स्मरण किया जा रहा था उस दौरान कुछ पल में गम के आंसू एवं कुछ पल में खुशी के आंसू छलक पडे। 
सीता राम रघुवंशी सदैव अमर रहेंगे

    उमरिया जिले के करकेली विकासखण्ड अंतर्गत ग्राम पंचायत बरहटा के बंधवाटोला में 7 जून 1976 को जन्में होनहार अमर शहीद सीताराम रघुवंशी 20 वर्ष की उम्र में 26 राजपूत बटालियन फतेगढ़ में भर्ती हुए। देश की सेवा के दौरान 17 जनवरी 2006 को आपरेशन मणिपुर हिफाजत के समय वे शहीद हुए। तब उनकी उम्र मात्र 30 वर्ष की थी। 
    शहीद के पिता श्री भंवर सिंह, माता सुखमंती बाई, चार भाई, पांच बहने, पत्नी एवं 20 वर्षीय बेटा सोनू, 18 वर्षीय बेटी कु. प्रिया है। श्री रघुवंशी ने प्राथमिक माध्यमिक शाला की शिक्षा खैरभार में, 10वी की शिक्षा विलायतकला में तथा 12 वीं की शिक्षा कोठिया मोहगवां में ली थी। होनहार सीताराम रघुवंशी बचपन से ही सबके चहेते एवं दुलारे रहे और देश की सुरक्षा का जज्बां होने के साथ साथ राष्ट्र प्रेम कोटि कोटि भरा हुआ था। 
    अपने पांच भाई एवं पांच बहनो मे से सीताराम तीसरे नंबर के थे। उनका पूरा परिवार खेती किसानी पर निर्भर है। सीताराम ही ऐसे लाडला सपूत रहा, जो 26 राजपूत बटालियन मे भर्ती होकर देश की सुरक्षा के लिए हाथ बढ़ाया था,  वे आज हम सबके बीच में तो नही है लेकिन उनकी स्मृतियां हमें याद रहेगी और राष्ट्र प्रेम का जज्बां प्रदान करेगी। 
    सीआरपीएफ में हवलदार के पद पर रहे भूप सिंह पिता लक्ष्मण सिंह ने जम्मू कशमीर के पुलबामा में 2007 में बम ग्रेनेड ब्लास्टिंग होने से मृत्यु हुई थी। श्री भूप सिंह इलाहाबाद, पंजाब, त्रिपुरा, भोपाल एवं पुलबामा में अपनी सेवाएं दी है। उनकी धर्मपत्नी मोहवती  सिंह को भी शहीद दिवस पर सम्मानित किया गया।

Tags: shahid samman diwas

Post your comment
Name
Email
Comment
 

उमरिया

विविध