खास खबरें ग्रुप डिस्कशन और सेमिनार से बता रहे भोजन में सब्जियां लें, जंकफूड न खाए 2025 तक इंसानों से ज्यादा काम करेंगी मशीनें : वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम माता-पिता की इस लत के खिलाफ बच्‍चों ने सड़कों पर किया विरोध प्रदर्शन क्रिकेट टीम कप्तान विराट कोहली और वेटलिफ्टर मीराबाई चानू को राजीव गांधी खेल रत्न देने की सिफारिश अजय माकन ने दिया दिल्‍ली कांग्रेस के अध्‍यक्ष पद से इस्‍तीफा कैंसर के मुश्किल जंग जीतने के बाद 46 की उम्र में लीजा बनी जुड़वा बेटियों की मॉं सेंसेक्स 37650 के करीब, निफ्टी 11400 के ऊपर कर्तव्यों का निर्वहन सिखाते हैं विश्वविद्यालय : राज्यपाल श्रीमती पटेल रेवाड़ी गैंगरेप : मुख्‍य आरोपी निशु पहले भी कर चुका है ऐसी वारदात चौथे दिन उत्तम शौच धर्म की पूजा के साथ, अपनी वाणी को अपने मन को अपने कर्मों को उत्तम बनाना ही शौच धर्म है

पति को खोने के बाद भी दुलसिया के आत्मनिर्भर रहने की सोच को मिला आजीविका का साथ

पति को खोने के बाद भी दुलसिया के आत्मनिर्भर रहने की सोच को मिला आजीविका का साथ

Post By : Dastak Admin on 28-Aug-2018 16:34:18

ajivika mission


स्वयं के रोजगार से कर रही हैं परिवार का लालन पालन 
अनुपपुर | महिलाएँ जितनी संवेदनशील, भावुक एवं सरल होती हैं उतनी ही वो दृढ़ निश्चयी एवं कर्तव्यपरायण होती हैं यह सब हमने कहानियों में तो बहुत पढ़ा है। अक्सर ही हम उनके साहस से मुखातिब भी होते रहते हैं। शायद इसीलिए ये कहानियाँ अब कहानियाँ न होकर एक सच्चाई हैं सामाजिक आइना है। ऐसे ही दृढ़ निश्चय की कहानी है अनूपपुर नगरपालिका की निवासी दुलसिया बाई की। जब दुलसिया से उनके पति का साथ छूटा तब उनके ऊपर तीन बच्चों की जिम्मेदारी थी। स्वावलंबी दुलसिया  नही चाहती थीं कि बच्चों के लालन पालन के लिए वे किसी के सामने हाथ फैलाएँ। परंतु घर को कैसे चलाएँ ये उन्हें नहीं समझ आ रहा था। तभी दीनदयाल अन्त्योदय शहरी आजीविका मिशन के कार्यकर्ताओं ने उन्हें सिलाई मशीन के प्रशिक्षण के बारे में बताया। दुलसिया ने एक माह चले सिलाई कोर्स में सिलाई का प्रशिक्षण प्राप्त किया। आजीविका कार्यकर्ताओं द्वारा उन्हें मुख्यमंत्री आर्थिक कल्याण योजना के बारे में बताया गया। दुलसिया ने आर्थिक कल्याण योजना के माध्यम से 50 हजार रुपए का ऋण लिया इस राशि में से 12 हजार 500 रुपए उन्हें अनुदान के रूप में प्राप्त हुए। दुलसिया बाई ने नगरपालिका अनूपपुर द्वारा स्थापित हॉकर्स जोन में सिलाई एवं प्लास्टिक के सामान की दुकान खोली। आज दुलसिया आत्मनिर्भर होकर बिना किसी दबाव के अपना एवं अपने परिवार का भरण पोषण कर रही हैं। अब वे अपने बच्चों के भविष्य के लिए किसी पर आश्रित नही हैं। दुलसिया शासन को धन्यवाद देते हुए कहती हैं कि अगर सोच अच्छी हो तो किसी भी समस्या से बाहर निकला जा सकता है शासन सभी लोगों को समस्याओं से निकालने के लिए सदैव खड़ी है। आप कहती हैं मनुष्य को कभी भी हार नही माननी चाहिए समस्याओं से निकलने के कई रास्ते होते हैं बस सही मार्गदर्शक मिलना चाहिए। आप शहरी आजीविका मिशन एवं नगरपालिका अनूपपुर को धन्यवाद देती हैं।

Tags: ajivika mission

Post your comment
Name
Email
Comment
 

अनूपपुर

विविध