खास खबरें वाट्सएप पर पोस्ट करने पर पटवारी की शिकायत, कलेक्टर ने उज्जैन किया अटैच पीएम मोदी ने की ट्विटर के सीईओ से मुलाकात, ट्विटर की तारीफ में बोले ये... अफरीदी ने इमरान को दी सलाह, कश्‍मीर को छोड़ पहले अपने 4 राज्‍य संभालें मिताली ने टी-20 में बनाया रिकॉर्ड, रोहित-विराट को भी पीछे छोड़ा राहुल गांधी की मौजूदगी में टिकट बंटवारे को लेकर पायलट और डूडी में कहासुनी लेक कोमो में सात जन्‍मों के बंधन में बंधे रणवीर-दीपिका, करण जौहर ने दी बधाई आज से दिल्‍ली में शुरू होगा ट्रेड फेयर, 18 से मिलेगी आम लोगों को एंट्री पीएम मोदी-राहुल गांधी 16 नवम्‍बर को मध्‍यप्रदेश के एक ही जिले करेगें रैलियां बहू और उसके परिजनों की प्रताड़ना से तंग आ ससुर खुद को गोली मार की आत्‍महत्‍या छठ पूजा : संतान प्राप्ति और उनकी मंगल कामना के लिए करते है सूर्य की उपासना

स्‍कॉलरशिप के पैसों से 14 साल के आयुष दिलवा रहा 14 कैदी को जेल से रिहाई

स्‍कॉलरशिप के पैसों से 14 साल के आयुष दिलवा रहा 14 कैदी को जेल से रिहाई

Post By : Dastak Admin on 14-Aug-2018 08:53:01

boy pays fee for prisoners in jail

 

जेल में अपनी सजा पूरी करने के बाद भी जुर्माना ना भरने की वजह से कई कैदी अभी भी सलाखों के पीछे हैं. भोपाल में रहने वाला महज 14 साल का आयुष ऐसे कैदियों के लिए फरिश्ता बन कर आया है. दरअसल भोपाल के शिवाजी नगर में रहने वाले आयुष ने आने वाले 15 अगस्त के लिए ऐसा काम किया है, जिसकी उम्मीद बहुत कम लोगों को होगी.

दसवीं में पढ़ने वाले आयुष ने इंदौर और भोपाल की जेल में बंद 14 कैदियों और उनके परिजनों के चेहरों पर मुस्कुराहट ला दी है. आयुष ने स्कॉलरशिप में मिले रुपयों को डोनेट कर 14 ऐसे कैदियों की रिहाई का रास्ता साफ कर दिया है, जो सजा तो पूरी कर चुके थे लेकिन जुर्माना ना भर पाने के कारण जेल में बंद हैं. आयुष ने स्कॉलरशिप में मिले रुपयों में से करीब 27 हजार रुपये का जुर्माना भर दिया है और अब 15 अगस्त की सुबह ये सभी 14 कैदी जेल से वाहर खुली हवा में सांस ले सकेंगे.

आयुष के अनुसार उसे ये विचार 2016 में भोपाल जेल ब्रेक के कारण आया जब जेल ब्रेक के दौरान कॉन्स्टेबल की हत्या हो गयी थी. दसवीं कक्षा में पढ़ने वाले आयुष की नेकदिली की तारीफ हर जगह हो रही है. डीजी जेल संजय चौधरी का कहना है कि वैसे तो कई संस्थाएं होती हैं जो जुर्माना की रकम देकर जरूरतमंद कैदियों की मदद करती आई हैं. हालांकि एक 14 साल के स्कूली बच्चे का स्कॉलरशिप डोनेट कर कैदियों को छुड़ाना वाकई काबिले तारीफ है.

आयुष का कहना है कि वो भविष्य में भी जरूरतमंद कैदियों की ऐसे ही मदद करता रहेगा. आयुष इससे पहले इसी साल 26 जनवरी को भी 4 कैदियों को छुड़वा चुका है. पढ़ने में बेहद ही होशियार आयुष को 2016 में तत्कालीन राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी भी सम्मानित कर चुके हैं.

Tags: boy pays fee for prisoners in jail

Post your comment
Name
Email
Comment
 

सफलता की कहानी

विविध