खास खबरें ग्रुप डिस्कशन और सेमिनार से बता रहे भोजन में सब्जियां लें, जंकफूड न खाए 2025 तक इंसानों से ज्यादा काम करेंगी मशीनें : वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम माता-पिता की इस लत के खिलाफ बच्‍चों ने सड़कों पर किया विरोध प्रदर्शन क्रिकेट टीम कप्तान विराट कोहली और वेटलिफ्टर मीराबाई चानू को राजीव गांधी खेल रत्न देने की सिफारिश अजय माकन ने दिया दिल्‍ली कांग्रेस के अध्‍यक्ष पद से इस्‍तीफा कैंसर के मुश्किल जंग जीतने के बाद 46 की उम्र में लीजा बनी जुड़वा बेटियों की मॉं सेंसेक्स 37650 के करीब, निफ्टी 11400 के ऊपर कर्तव्यों का निर्वहन सिखाते हैं विश्वविद्यालय : राज्यपाल श्रीमती पटेल रेवाड़ी गैंगरेप : मुख्‍य आरोपी निशु पहले भी कर चुका है ऐसी वारदात चौथे दिन उत्तम शौच धर्म की पूजा के साथ, अपनी वाणी को अपने मन को अपने कर्मों को उत्तम बनाना ही शौच धर्म है

मुख्यमंत्री युवा उद्यमी योजना से स्वावलंबी बना इंजी. अनूप

मुख्यमंत्री युवा उद्यमी योजना से स्वावलंबी बना इंजी. अनूप

Post By : Dastak Admin on 21-Aug-2018 08:13:12

success story


 
प्रदेश में जरूरतमंदों को स्वयं का कारोबार शुरू कर स्वावलंबी बनने के लिये लगातार प्रेरित किया जा रहा है। इसके लिये उन्हें राज्य शासन की विभिन्न स्व-रोजगार योजनाओं के माध्यम से आर्थिक सहायता और आवश्यक प्रशिक्षण भी दिया जा रहा है। जिन लोगों ने योजना का फायदा उठाया है, आज वे सम्मानपूर्वक अपना स्वयं का व्यवसाय चला रहे हैं।  

मुरैना जिले में महाराजपुर के रहने वाले अनूप जैन ने बताया कि मुख्यमंत्री युवा उद्यमी योजना ने मुझे ही नहीं, मेरे परिवार को भी सम्मान पूर्वक जीवन जीने लायक बना दिया है। आज उनके द्वारा शुरू किये गये व्यवसाय में 4 अन्य लोगों को भी रोजगार मिल रहा है। अनूप कठिन परिस्थितियों में इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी करने के बाद बेरोजगार थे। उन्होंने शुरूआत में तो स्कूल में पढ़ाने की नौकरी की। नौकरी में इतना भी वेतन नहीं था कि अपने परिवार का गुजारा अच्छी तरह से कर सकते।

इलेक्ट्रिकल इंजीनियर अनूप जैन के मन में बिजली ट्रांसफार्मर मरम्मत करने का कारखाना शुरू करने का विचार आया। पूँजी के अभाव में वे अपना इरादा पूरा नहीं कर सकते थे। अनूप ने जिला उद्योग केन्द्र में सम्पर्क किया। उनके प्रकरण में मुख्यमंत्री उद्यमी योजना में 20 लाख रुपये का ऋण मंजूर हो गया। अनूप को ऋण के अलावा राज्य सरकार की ओर से 3 लाख रुपये की सब्सिडी भी मिल गई।

आज अनूप 'अनंत ट्रांसफार्मर'' कारखाना सफलतापूर्वक चला रहे हैं। उन्हें सब खर्च घटाने के बाद 30 हजार रुपये मासिक तक आमदनी हो रही है। आज अनूप के परिवार में पत्नी और दो बच्चे खुशी से अपना जीवन निर्वाह कर रहे हैं।

सक्सेस स्टोरी (मुरैना)

मुकेश मोदी

Tags: success story

Post your comment
Name
Email
Comment
 

सफलता की कहानी

विविध