खास खबरें हाईकोर्ट ने शासन पर लगाया 25 हजार का जुर्माना पीएम और गृह मंत्री ले पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री की मृत्यु के दस्‍तावेजों पर फैसला - केंद्रीय सूचना आयोग डोनाल्‍ड ट्रंप बोले, जल्द होगी किम के साथ दूसरी बैठक एशिया कप 2018 : आज आमने-सामने होगी भारत-अफगानिस्‍तान की टीमें पीएम मोदी पर अक्रामक हुए राहुल गांधी बोले, पीएम मोदी है 'कमांडर इन थीफ' 'कॉफी विद करण' में भाई अर्जुन के साथ आएंगी जाहन्‍वी सेंसेक्स 110 अंक , निफ्टी 11100 के नीचे भोपाल-इन्दौर मेट्रो रेल परियोजना के लिये 405 पद के सृजन की मंजूरी बीएसयू में हुआ हंगामा, बूथ में लगाई आग, डॉक्‍टर-मरीज के परिजनों में हुई हाथापाई आज से शुरू होगा, पितृों का पूजन-तर्पण, पूर्णिमा का होगा पहला श्राद्ध

बचपन में गुब्‍बारों पर निशाना लगाकर जीता एशियाड में गोल्‍ड

बचपन में गुब्‍बारों पर निशाना लगाकर जीता एशियाड में गोल्‍ड

Post By : Dastak Admin on 22-Aug-2018 15:43:58

saurabha choudhary wins gold in asian games

मेरठ. जिले के कलीना गांव में रहने वाले 16 साल के निशानेबाज सौरभ चौधरी ने मंगलवार को एशियन गेम्स में 10 मीटर एयर पिस्टल स्पर्धा में गोल्ड जीतकर इतिहास रच दिया है। एशियाड में गोल्ड जीतने वाले सौरभ सबसे युवा शूटर हैं। सौरभ बागपत जिले के बरनावा के स्कूल से कक्षा 10 की पढ़ाई कर रहे हैं। सौरभ के बड़े भाई नितिन ने बताया कि सौरभ को बचपन से ही निशाने लगाने का शौक था। वह गांव और आसपास लगने वाले मेलों में जाकर गुब्बारों पर निशाना लगाता था और वहां से इनाम जीतकर लाता था। 2015 में 13 साल की उम्र में उसने पहली बार शूटिंग की प्रैक्टिस शुरू की।

साधारण किसान परिवार से है सौरभ: सौरभ के पिता जगमोहन सिंह साधारण किसान है। जबकि माता ब्रजेश देवी गृहिणी है। सौरभ के परिवार में कोई भी शूटिंग का खिलाड़ी नहीं है। भाई नितिन के मुताबिक गांव के कुछ लड़के शूटिंग की प्रैक्टिस के ​लिए जाते थे, उन्हें देखकर सौरभ ने भी उनके साथ शूटिंग की प्रैक्टिस करने का निर्णय लिया। इसके बाद उसने 2015 में बड़ौत के पास बिनौली में वीरशाहमल राइफल क्लब में प्रैक्टिस शुरू की। वो रोज करीब 7 से आठ घंटे प्रैक्टिस करते थे। 

बेहद शांत स्वभाव है सौरभ का: सौरभ के कोच अमित के मुताबिक सौरभ के इस प्रदर्शन की उन्हें पूरी उम्मीद थी। बताया कि सौरभ शांत स्वभाव का है जो शूटिंग के लिए सबसे जरूरी होता है। यदि वह विफल भी होता था तो अपनी कोई प्रतिक्रिया नहीं देता था, वह अपने गेम में लगातार सुधार करने पर जोर देता था। उसकी इसी लगन को देखकर सभी को उम्मीद थी कि वह गोल्ड जरूर लेकर आएगा। उसने ऐसे खिलाड़ी को हराया है जो ओलंपिक खेल चुका है।

कोच की गन से की प्रैक्टिस: सौरभ के परिजनों का कहना है शुरू में सौरभ ने अपने कोच की गन से ही प्रैक्टिस की। जब सभी को लगा कि उसकी गेम में रूचि बढ़ रही है और जरूर कामयाब होगा तब उसे पहली बार जो गन दिलायी गई वह 1 लाख 75 हजार रुपए की थी। सौरभ ने स्टेट और नेशनल लेबल की कई प्रतियोगिताओं में अपने कोच की गन से प्रैक्टिस करने के बाद ही जीती। सौरभ के गोल्ड जीतने पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बधाई दी है। सीएम योगी ने उत्तर प्रदेश सरकार की तरफ से 50 लाख रुपए का पुरस्कार व राजपत्रित नौकरी देने का भी ऐलान किया है।

Tags: saurabha choudhary wins gold in asian games

Post your comment
Name
Email
Comment
 

सफलता की कहानी

विविध