खास खबरें यूडीए की जमीन से अतिक्रमण हटाने पहुंची पुलिस, युवक ने काट ली हाथ की नस आधार है पूरी तरह सुरक्षित, इससे मिली आम नागरिक को पहचान : सुप्रीम कोर्ट यूएन में ट्रम्‍प ने की भारत की तारीफ 'लाखों लोगों को गरीबी से बाहर निकाला' बैडमिंटन स्‍टार साइन नेहवाल की बैडमिंटन खिलाड़ी पी कश्‍यप के साथ बनी जोड़ी, जल्‍द होने वाली है शादी पीएम मोदी पर अक्रामक हुए राहुल गांधी बोले, पीएम मोदी है 'कमांडर इन थीफ' श्रीदेवी की मौत के बाद इस तरह पिता और बहनों के करीब आये अर्जुन कपूर निफ्टी 11100 के पार, सेंसेक्स 200 अंक मजबूत संबल योजना में 2 करोड़ से अधिक श्रमिक लाभान्वित : राज्यमंत्री श्री पाटीदार टॉपर छात्रा से पहले भी कई लड़कियों को अपना शिकार बना चुके थे रेवाड़ी काण्‍ड के दरिंदे आज से शुरू होगा, पितृों का पूजन-तर्पण, पूर्णिमा का होगा पहला श्राद्ध

1982 के बाद भाला फेंक में नीरज चोपड़ा ने दिलाया भारत को पहली बार गोल्‍ड

1982 के बाद भाला फेंक में नीरज चोपड़ा ने दिलाया भारत को पहली बार गोल्‍ड

Post By : Dastak Admin on 27-Aug-2018 20:18:40

niraj chopra wins gold in asian games


जेवलिन थ्रो (भाला फेंक) के स्टार एथलीट नीरज चोपड़ा ने एशियन गेम्स में गोल्ड मेडल जीतकर इतिहास रच दिया है. जेवलिन थ्रो में यह भारत की तरफ से किसी एथलीट की ऐतिहासिक उपलब्धि है. भारत की तरफ से भाला फेंक में आखिरी बार 1982 में नई दिल्ली एशियाई गेम्स में गुरतेज सिंह ने कांस्य पदक जीता था. इसके बाद अब तक कोई एथलीट भाला फेंक में पदक हासिल नहीं कर पाया था, लेकिन नीरज चोपड़ा ने भारत की तरफ से जेवलिन थ्रो में अब तक का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया. नीरज ने 88.06 मीटर भाला फेंका और जेवलिन थ्रो में भारत को पहला गोल्ड  दिलाया.

कौन हैं नीरज चोपड़ा?
नीरज चोपड़ा मूल रूप से हरियाणा के पानीपत स्थित खंदारा गांव के रहने वाले हैं. उनका जन्म 24 दिसंबर 1997 को हुआ था. उनके पिता सतीश कुमार किसान हैं. खेतीबाड़ी से घर परिवार का खर्च चलता था. नीरज ने स्कूली शिक्षा चंडीगढ़ से पूरी की है. इन्हें पढ़ाई के साथ पिता और चाचा के साथ खेत पर जाकर उनके साथ काम करना पसंद था. नीरज चोपड़ा के मौजूदा कोच ओऊ हॉन हैं. नीरज चोपड़ा हफ्ते में छह दिन छह घंटे ट्रेनिंग करते हैं.

एक नजर डालते हैं नीरज चोपड़ा से जुड़े 10 दिलचस्प फैक्ट्स पर:  

- शुरुआत में नीरज चोपड़ा का पहला प्यार वॉलीबॉल था.  नीरज चोपड़ा शुरू में वॉलीबॉल और क्रिकेट खेलते थे, लेकिन साल 2011 में अपने चाचा के कहने पर उन्होंने जेवलिन को बतौर करियर चुना.

-चोपड़ा की पहली यादगार जीत 2012 में लखनऊ में नेशनल जूनियर चैंपियनशिप में आई थी. उस टूर्नामेंट में चोपड़ा ने अंडर-16 स्पर्धा में 68.46 मीटर भाला फेंककर राष्ट्रीय उम्र-समूह रिकॉर्ड बनाया था और स्वर्ण पदक जीता.

-2013 नेशनल यूथ चैंपियनशिप में नीरज ने एक बार फिर शानदार प्रदर्शन किया. उन्होंने दूसरा स्थान हासिल करते हुए उस वर्ष यूक्रेन में होने वाली आईएएएफ वर्ल्ड यूथ चैंपियनशिप में जगह पक्की की.

- ऑल-इंडिया इंटर-यूनिवर्सिटी चैंपियनशिप में नीरज ने साल 2015 में 81.04 भाला फेंककर इस एज ग्रुप का रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया.

-नीरज चोपड़ा साल 2016 में उस वक्त हाईलाइट हुए थे, जब उन्होंने जूनियर विश्व चैंपियनशिप में 86.48 मीटर भाला फेंककर विश्व रिकॉर्ड बनाते हुए स्वर्ण पदक पर कब्जा किया था. फेडरेशन कप में नीरज ने अपने आखिरी प्रयास में 85.94 मीटर भाला फेंका था.

-साल 2016 में नीरज ने दक्षिण एशियाई खेलों में पहले राउंड में ही 82.23 मीटर भाला फेंककर स्वर्ण पदक अपने नाम किया. ये मार्क सीनियर स्तर पर नया राष्ट्रीय रिकॉर्ड बन गया. इसके अलावा अंडर-20 में एशियाई स्तर पर भी ये सर्वश्रेष्ठ मार्क है.

-हरियाणा के रहने वाले नीरज ने इस साल मई में दोहा में हुए डायमंड लीग में 87.43 मीटर भाला फेंका था.

- नीरज चोपड़ा ने इसी साल पटियाला में हुए 22वीं फेडरेशन कप राष्ट्रीय एथलेटिक्स चैंपियनशिप में अपना दूसरा सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हुए कॉमनवेल्थ खेलों के लिए क्वालीफाई किया था और वहां उन्होंने देश को गोल्ड दिलाया था.

- गोल्ड कोस्ट कॉमनवेल्थ खेलों में नीरज ने 86.47 मीटर भाला फेंका और गोल्ड मेडल अपने नाम किया.

-  एशियन गेम्स में नीरज ने अपना बेस्ट प्रदर्शन करते हुए 88.06 मीटर भाला फेंका और जेवलिन थ्रो में पहला गोल्ड भारत को दिलाया. 

Tags: niraj chopra wins gold in asian games

Post your comment
Name
Email
Comment
 

सफलता की कहानी

विविध