खास खबरें यूडीए की जमीन से अतिक्रमण हटाने पहुंची पुलिस, युवक ने काट ली हाथ की नस आधार है पूरी तरह सुरक्षित, इससे मिली आम नागरिक को पहचान : सुप्रीम कोर्ट यूएन में ट्रम्‍प ने की भारत की तारीफ 'लाखों लोगों को गरीबी से बाहर निकाला' बैडमिंटन स्‍टार साइन नेहवाल की बैडमिंटन खिलाड़ी पी कश्‍यप के साथ बनी जोड़ी, जल्‍द होने वाली है शादी पीएम मोदी पर अक्रामक हुए राहुल गांधी बोले, पीएम मोदी है 'कमांडर इन थीफ' श्रीदेवी की मौत के बाद इस तरह पिता और बहनों के करीब आये अर्जुन कपूर निफ्टी 11100 के पार, सेंसेक्स 200 अंक मजबूत संबल योजना में 2 करोड़ से अधिक श्रमिक लाभान्वित : राज्यमंत्री श्री पाटीदार टॉपर छात्रा से पहले भी कई लड़कियों को अपना शिकार बना चुके थे रेवाड़ी काण्‍ड के दरिंदे आज से शुरू होगा, पितृों का पूजन-तर्पण, पूर्णिमा का होगा पहला श्राद्ध

मध्‍यप्रदेश की बेटी भावना डेहरिया ने पाई 21631 फीट ऊंची हिमालय की मनिरंग चोटी पर फतह

मध्‍यप्रदेश की बेटी भावना डेहरिया ने पाई 21631 फीट ऊंची हिमालय की मनिरंग चोटी पर फतह

Post By : Dastak Admin on 31-Aug-2018 08:50:27

bhawna dehriya, manirang mountain


भोपाल. अगर हौसला हो तो हर मंजिल पाई जा सकती है। इसी मूलमंत्र को फालो करने वाली मध्य प्रदेश की बेटी भावना डहेरिया ने मनिरंग (हिमाचल, हिमालय) की 21631 फीट ऊंची चोटी फतह कर ली है। भावना ने 7 अगस्त को 19 सदस्यीय टीम के साथ मनिरंग पर चढ़ाई शुरू की थी। भावना छिंदवाड़ा ज़िले के तामिया की रहने वाली हैं और भोपाल के वीएनएस कॉलेज की छात्रसंघ अध्यक्ष हैं। 

केंद्रीय खेल एवं युवा मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर ने महिला पर्वतारोहियों के इस दल को दिल्ल्ली में फ्लैग ऑफ कर रवाना किया था। भावना डहेरिया भारत सरकार के खेल एवं युवा कल्याण विभाग के इंडियन माउंटेन फेडरेशन के लिए हुआ था। टीम ने टीम ने 6593 मीटर की चढ़ाई कर मनिरंग की चोटी फतह कर ली। 

पापा ने बनाया स्ट्रॉन्ग : भावना डेहरिया बताती हैं कि मैं छिंदवाड़ा के तामिया जिले की रहने वाली हूं। बचपन से पापा ने हम भाई बहन को काफी स्ट्राॅन्ग बनाया है। उन्होंने मुझे हर काम में हमेशा सपोर्ट किया। 12 वर्ष की उम्र से आज तक मैं अकेले ही ट्रेवल कर रही हूं। जब मैं आठवीं क्लास में थी, तब पापा मुझे पहली बार स्टेशन ड्रॉप करने आए थे। 

14 की उम्र से वालीबॉल प्लेयर : साल 2009 में मैंने पहली बार पातालकोट में आयोजित एडवेंचर कैंप में हिस्सा लिया। वहां मुझे पर्वतारोही बनने के बारे में सारी जानकारी मिली। बचपन से ही सोचा था कि एवरेस्ट के पर्वतों पर चढ़ाई करके फतह हासिल करूं। मैं 14 वर्ष की उम्र से ही वालीबॉल खेल रही हूं। मेरा सपना एवरेस्ट पर चढ़ाई करके फतह हासिल करना है। अपने इस सपने को साकार कर सकूं इसके लिए मैंने काफी मेहनत की है।

Tags: bhawna dehriya, manirang mountain

Post your comment
Name
Email
Comment
 

सफलता की कहानी

विविध