खास खबरें वाट्सएप पर पोस्ट करने पर पटवारी की शिकायत, कलेक्टर ने उज्जैन किया अटैच पीएम मोदी ने की ट्विटर के सीईओ से मुलाकात, ट्विटर की तारीफ में बोले ये... अफरीदी ने इमरान को दी सलाह, कश्‍मीर को छोड़ पहले अपने 4 राज्‍य संभालें मिताली ने टी-20 में बनाया रिकॉर्ड, रोहित-विराट को भी पीछे छोड़ा राहुल गांधी की मौजूदगी में टिकट बंटवारे को लेकर पायलट और डूडी में कहासुनी लेक कोमो में सात जन्‍मों के बंधन में बंधे रणवीर-दीपिका, करण जौहर ने दी बधाई आज से दिल्‍ली में शुरू होगा ट्रेड फेयर, 18 से मिलेगी आम लोगों को एंट्री पीएम मोदी-राहुल गांधी 16 नवम्‍बर को मध्‍यप्रदेश के एक ही जिले करेगें रैलियां बहू और उसके परिजनों की प्रताड़ना से तंग आ ससुर खुद को गोली मार की आत्‍महत्‍या छठ पूजा : संतान प्राप्ति और उनकी मंगल कामना के लिए करते है सूर्य की उपासना

इस तरह एंड्राइड फोन से गूगल करता है आपकी लोकेशन ट्रेस

इस तरह एंड्राइड फोन से गूगल करता है आपकी लोकेशन ट्रेस

Post By : Dastak Admin on 26-Aug-2018 15:26:55

google trace your location on android


नई दिल्ली। इन दिनों लोकेशन ट्रेकिंग को लेकर गूगल लोगों के निशाने पर है। ये विवाद अभी थमा भी नहीं था कि एक रिसर्च पेपर ने सर्च इंजन गूगल की मुश्किलें और बढ़ा दी हैं।

इस रिसर्च पेपर के मुताबिक एंड्रॉयड फोन में इस्तेमाल होने वाला क्रोम ब्राउजर में लोकेशन ट्रैक होने की आशंका ऐपल के सफारी ब्राउजर के मुकाबाले पचास गुना ज्यादा होती है।

वेंडरबिल्ट यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर डगलस स्मिड का ये रिसर्च पेपर एक डिजिटल कंटेंट बनाने वाली एजेंसी ने छापा है। अपने रिसर्च पेपर में उन्होंने सफारी ब्राउजर के बारे में लिखा है कि, इससे गूगल डाटा नहीं ले सकता, जबतक यूजर सक्रिय रुप से इसका इस्तेमाल नहीं करता है। इस पेपर के मुताबिक, अगर एंड्रॉयड फोन इस्तेमाल नहीं हो रहा है और बैकग्राउंड में क्रोम खुला है, तो भी 24 घंटे के भीतर वो यूजर की लोकेशन से जुड़े आंकड़े गूगल को 340 बार भेजता है।

आपको बता दें कि एसोसिएटेड प्रेस द्वारा की गई जांच में ये पाया गया था कि, एंड्रॉयड फोन और आईफोन के इस्तेमाल के दौरान गूगल आपकी लोकेशन से जुड़े डाटा को सुरक्षित रख लेता है। य़ूजर के फोन में प्राइवेसी सेटिंग्स होने पर भी ऐसा हो जाता है, जबकि ऐसा कहा जाता है कि अगर आप अपने फोन में प्राइवेसी सेटिंग्स को रखेंगे तो आपकी लोकेशन ट्रैक नहीं होगी।

इस जांच के सामने आने के बाद प्रिंसटन यूनिवर्सिटी के रिसर्चर्स ने भी इस पर अपनी मुहर लगाई, जिसके बाद गूगल के खिलाफ केस दर्ज कराया गया था।

गूगल के खिलाफ जो शिकायत की गई थी, उसके मुताबिक उसने लोगों को झूठा विश्वास दिलाया कि, अगर वो अपने फोन में लोकेशन हिस्ट्री फीचर को बंद कर देते हैं तो उन्हें ट्रैक नहीं किया जाएगा। लेकिन ये हकीकत नहीं थी। शिकायतकर्ता ने सैन फ्रांसिस्को की संघीय कोर्ट में जो शिकायत की थी, उसमें ये दावा किया था कि गूगल ने पहले एंड्रॉयड फोन और बाद में आईफोन पर गैरकानूनी ढंग से उसे ट्रैक किया था।

Tags: google trace your location on android

Post your comment
Name
Email
Comment
 

ज्ञान/ विज्ञान

विविध