खास खबरें न्यायालयीन प्रकरणों में समय-सीमा में जवाब प्रस्तुत किया जाये डूडल कर रहा मतदान के लिए लोगों को प्रेरित अमेरिका में आज जारी होगी रूसी दखल की जांच से जुड़ी मुलर रिपोर्ट भारतीय टीम के चयन पर बोले रवि शास्‍त्री 'मैं 16 खिलाडियों की टीम चुनता', खिलाडियों को दी निराश न होने की सलाह जेल के दिन याद करके रोई साध्‍वी प्रज्ञा, बोली-पीटने वाले बदलते थे पर पिटने वाली मैं वही रहती थी दो साल तक स्‍क्रीन से इसलिए गायब रहे आदित्‍य रॉय कपूर सोने की कीमत में गिरावट का दौर जारी विज्ञापन ‘‘चौकीदार चोर है‘‘ पर लगी रोक वाराणसी में मोदी के खिलाफ उतर सकती है प्रियंका गांधी, राहुल बोले-सस्‍पेंस बुरा नहीं हनुमान जी के इन मंत्रों का पाठ करने से मिलती है शारीरिक पीड़ा से मुक्ति

टूट सकते हैं मगर हम झुक नहीं सकते।

टूट सकते हैं मगर हम झुक नहीं सकते।

Post By : Dastak Admin on 15-Jun-2018 08:59:33

अटल बिहारी वाजपेयी

टूट सकते हैं मगर हम झुक नहीं सकते।
सत्य का संघर्ष सत्ता से,
न्याय लड़ता निरंकुशता से,
अंधेरे ने दी चुनौती है,
किरण अंतिम अस्त होती है।

दीप निष्ठा का‍ लिए निष्कम्प,
वज्र टूटे या उठे भूकंप,
यह बराबर का नहीं है युद्ध,
हम निहत्थे, शत्रु है सन्नद्ध
हर तरह के शस्त्र से है सज्ज,
और पशुबल हो उठा निर्लज्ज।

किंतु फिर भी जूझने का प्रण,
पुन: अंगद ने बढ़ाया चरण,
प्राण-पण से करेंगे प्रतिकार,
समर्पण की मांग अस्वीकार।

दांव पर सब कुछ लगा है, रुक नहीं सकते।
टूट सकते हैं मगर हम झुक नहीं सकते।

Tags: अटल बिहारी वाजपेयी

Post your comment
Name
Email
Comment
 

काव्य रचना

विविध