खास खबरें मुख्य सचिव आज वीसी लेंगे बीजेपी को फिर झटका, चुनाव आयोग ने लगाया पीएम मोदी पर बनी वेब सीरीज पर बैन मैक्सिकों में अज्ञात हमलावरों ने पारिवारिक कार्यक्रम में चलाई गोलियां, 13 की मौत हार्दिक और लोकेश पर लगा जुर्माना, बीसीसीआई लोकपाल ने दिया 20-20 लाख जमा करने का फरमान साध्‍वी प्रज्ञा ठाकुर के बयान पर बोले शिवसेना के उद्धव ठाकरे, कहा-किसी को नहीं शहीद के अपमान का अधिकार 'हेट स्‍टोरी 2' की अभिनेत्री के घर गूंजी किलकारी, दिया बेटी को जन्‍म UMANG एप से घर बैठे इस तरह अपडेट करे अपनी पैन कार्ड डिटेल्‍स भोपाल लोकसभा सीट से दिग्विजय सिंह ने दाखिल किया अपना नामांकन एनडी तिवारी के बेटे रोहित शेखर और पत्‍नी के बीच था तनाव, क्राईम ब्रांच कर रही मौत की जांच महाभारत के उद्योग में बताऐं गये है ये सफलता के सूत्र

सुविचार

सुविचार

Post By : Dastak Admin on 25-Jun-2018 22:45:09

अशोक चक्रधर


मन में इसी सुविचार का सुविचार हो
सन चार में बस प्यार का संचार हो 
जनतंत्र के जज़्बात को जीमें नहीं
जोगी की या जुदेव की नाराज़गियाँ
नभ में कबूतर तो दिलेरी से उड़ें
ना हो दलेरों की कबूतर बाजियाँ
कौवों का गिद्धों का न स्वेच्छाचार हो
सन चार में बस प्यार का संचार हो

रूखे पड़े दिल बेरुखी से भर गए
पड़ती नहीं है प्रेम की परछाइयाँ
सब तेल घी तो तेलगी जी पी गए
बाकी कहाँ है स्नेह की चिकनाइयाँ
चिकनाइयों पर यों ना अत्याचार हो
सन चार में बस प्यार का संचार हो

खंदक में खुंदक से किया बंधक जिसे
लो तेल लेकिन गंध गंधक की न हो
सहमे हुए दहले हुए दिल में कभी
आतंक से बढ़ती हुई धक-धक न हो
दिल में गुणों की गुनगुनी गुंजार हो
सन चार में बस प्यार का संचार हो

Tags: अशोक चक्रधर

Post your comment
Name
Email
Comment
 

काव्य रचना

विविध