खास खबरें माहौल बिगाड़ने वालों के विरूद्ध होगी रासुका की कार्रवाई तीन तलाक अध्यादेश को मोदी कैबिनेट ने दी मंजूरी, कानून मंत्री ने की पुष्टि ईलाज के बहाने पत्नि को भेजा भारत, फिर वाट्सएप पर दे दिया तलाक एशिया कप में आज भारत-पाक का होगा आमना-सामना नीतीश-मोदी के खिलाफ राहुल-तेजस्‍वी करेंगे 'MY+BB' फॉर्मूले पर काम मैडम तुसाद में नजर आएंगी सनी लियोन निफ्टी 11300 के ऊपर, सेंसेक्स 100 अंक मजबूत पत्रकारों के लिये स्वास्थ्य एवं दुर्घटना समूह बीमा की राशि बढ़कर 4 लाख हुई दिल्‍ली : 7 साल की मासूम के साथ हुई हैवानियत, आरोपी ने प्राइवेट पार्ट में डाला प्‍लास्टिक का पाइप क्‍यों मनाई जाती है तेजा दशमी, कौन थे तेजाजी महाराज ?

आज फिर वहीँ से गुजरा

आज फिर वहीँ से गुजरा

Post By : Dastak Admin on 12-Jul-2018 23:18:48

जितेन्द्र जोशी

आज फिर वहीँ से गुजरा
जहां हम मिले थे
मुझे आज वो दोनों मिले
जो बिछड़े थे
वो गुस्साए
अलसाये
ऊब चुके
दर्द में रुके
कारवाई में लगे थे

मैं खामोश था..
नज़र दोनों की
कुछ बयाँ कर रही
छुपा रही थी कुछ
कुछ बीत गया था
बचा हुआ था
बहोत कुछ
वो नासमझ थे
मैं अब समझ रहा था
वो गुमशुदा थे
मैं अब ढूंढ रहा था
उन्हें जाना था कहीं
मुझे यहीं आना था
उनके आज को
कल आकर मुझे
फिर मनाना था
कस्मे वादे
छुअन छलावा
रातें बातें
बहोत सजाया
बस्स भी हुआ अब
वो कहते हैं
बस्स अब ना कटेगी
क्यों सहते हैं
झगड़ रहे थे
अकड़ रहे थे
देख के पानी
आँख में मेरे
कहा उन्होंने
जो नादानी
हम करते हैं
उसपे हाए
तुम क्यों रोते हो
मैंने उनका
हाथ पकड़ फिर
ये बतलाया
घूम के फिर
जब यहां आता हूँ
गुजरा हुआ कल
फिर पाता हूँ
गुज़र गया था
यहीं से मैं भी
और यहीं से
फिर एक बार
गुज़र जाता हूँ

 

Tags: जितेन्द्र जोशी

Post your comment
Name
Email
Comment
 

काव्य रचना

विविध