खास खबरें महर्षि पाणिनि संस्कृत विवि में तीसरा युवा महोत्सव आज से शुरू सुरक्षा बलों की 100 कंपनियों ने की घाटी में कूच, यासीन मलिक को किया गया अरेस्ट पुलवामा हमला : दबाव में आया पाकिस्‍तान ने जैश-ए-मोहम्मद के मुख्‍यालयों का नियंत्रण अपने हाथ में लिया यहॉ शुरू होगा नये नियमों वाला क्रिकेट, टूर्नामेंट में खेली जाएंगी 100 बॉल पीएम मोदी आज राजस्‍थान में करेंगे करेंगे रैली, टोंक से करेंगे चुनावी अभियान की शुरूआत 'दिल चोरी साडा़ हो गया' को मिला सॉन्‍ग ऑफ दि ईयर का अवॉर्ड पीएफ पर बढ़ी ब्‍याज दर, नौकरीपेशा को होगा इतना लाभ मध्‍यप्रदेश में यहा मिला मिला 70 लाख टन सोने का भंडार PRC : अरूणाचल प्रदेश के ईंटानगर में भड़की हिंसा, इंटरनेट बंद संकष्टी चतुर्थी : श्री गणेश दूर कर देते है जीवन के सारे विघ्‍न

आज फिर वहीँ से गुजरा

आज फिर वहीँ से गुजरा

Post By : Dastak Admin on 12-Jul-2018 23:18:48

जितेन्द्र जोशी

आज फिर वहीँ से गुजरा
जहां हम मिले थे
मुझे आज वो दोनों मिले
जो बिछड़े थे
वो गुस्साए
अलसाये
ऊब चुके
दर्द में रुके
कारवाई में लगे थे

मैं खामोश था..
नज़र दोनों की
कुछ बयाँ कर रही
छुपा रही थी कुछ
कुछ बीत गया था
बचा हुआ था
बहोत कुछ
वो नासमझ थे
मैं अब समझ रहा था
वो गुमशुदा थे
मैं अब ढूंढ रहा था
उन्हें जाना था कहीं
मुझे यहीं आना था
उनके आज को
कल आकर मुझे
फिर मनाना था
कस्मे वादे
छुअन छलावा
रातें बातें
बहोत सजाया
बस्स भी हुआ अब
वो कहते हैं
बस्स अब ना कटेगी
क्यों सहते हैं
झगड़ रहे थे
अकड़ रहे थे
देख के पानी
आँख में मेरे
कहा उन्होंने
जो नादानी
हम करते हैं
उसपे हाए
तुम क्यों रोते हो
मैंने उनका
हाथ पकड़ फिर
ये बतलाया
घूम के फिर
जब यहां आता हूँ
गुजरा हुआ कल
फिर पाता हूँ
गुज़र गया था
यहीं से मैं भी
और यहीं से
फिर एक बार
गुज़र जाता हूँ

 

Tags: जितेन्द्र जोशी

Post your comment
Name
Email
Comment
 

काव्य रचना

विविध