खास खबरें सिखाया मत गणना का तरीका, दी ईवीएम और वीवीपेट की जानकारी लंदन कोर्ट आज सुना सकती है माल्‍या के भारत प्रर्त्‍यपण पर फैसला बढ़ाने के विरोध में 'मैक्रों इस्तीफा दो' की बनियान पहन प्रदर्शनकारियों ने किया विरोध भारत बनाम ऑस्‍ट्रेलिया : भारतीय ने जीता एडिलेड टेस्‍ट, रचा इतिहास शीतकालीन सत्र से पहले विपक्ष की आज महाबैठक, शीर्ष विपक्षी नेता होगें शामिल शाहिद कपूर को हुआ कैंसर, परिवार ने किया खबर पर खुलासा ... सेंसेक्स 600 अंक नीचे, निफ्टी 10520 के करीब देश का दूसरा सबसे बड़ा राज्‍य मध्‍यप्रदेश इसलिए बना है देश का दिल ... केरल बना चार एयरपोर्ट वाला देश का पहला राज्‍य, कन्‍नूर एयरपोर्ट हुआ शुरू श्रीमद् भागवत ज्ञानयज्ञ महोत्सव में क्षिप्रा तट से निकली कलश यात्रा

पन्द्रह अगस्त का दिन कहता

पन्द्रह अगस्त का दिन कहता

Post By : Dastak Admin on 15-Aug-2018 10:13:22

अटल बिहारी वाजपेयी

पन्द्रह अगस्त का दिन कहता - आज़ादी अभी अधूरी है।
सपने सच होने बाक़ी हैं, राखी की शपथ न पूरी है॥

जिनकी लाशों पर पग धर कर आजादी भारत में आई।
वे अब तक हैं खानाबदोश ग़म की काली बदली छाई॥

कलकत्ते के फुटपाथों पर जो आंधी-पानी सहते हैं।
उनसे पूछो, पन्द्रह अगस्त के बारे में क्या कहते हैं॥

हिन्दू के नाते उनका दुख सुनते यदि तुम्हें लाज आती।
तो सीमा के उस पार चलो सभ्यता जहाँ कुचली जाती॥

इंसान जहाँ बेचा जाता, ईमान ख़रीदा जाता है।
इस्लाम सिसकियाँ भरता है,डालर मन में मुस्काता है॥

भूखों को गोली नंगों को हथियार पिन्हाए जाते हैं।
सूखे कण्ठों से जेहादी नारे लगवाए जाते हैं॥

लाहौर, कराची, ढाका पर मातम की है काली छाया।
पख़्तूनों पर, गिलगित पर है ग़मगीन ग़ुलामी का साया॥

बस इसीलिए तो कहता हूँ आज़ादी अभी अधूरी है।
कैसे उल्लास मनाऊँ मैं? थोड़े दिन की मजबूरी है॥

दिन दूर नहीं खंडित भारत को पुनः अखंड बनाएँगे।
गिलगित से गारो पर्वत तक आजादी पर्व मनाएँगे॥

उस स्वर्ण दिवस के लिए आज से कमर कसें बलिदान करें।
जो पाया उसमें खो न जाएँ, जो खोया उसका ध्यान करें॥

 

Tags: अटल बिहारी वाजपेयी

Post your comment
Name
Email
Comment
 

काव्य रचना

विविध