खास खबरें कलेक्टर ने दी डेड लाइन: सीएम हेल्पलाइन की पेंडिंग शिकायतें एक सप्ताह में हल करें आज भी दो महिलाओं ने की प्रवेश की कोशिश, तनाव सीरिया में पड़ रही मौसम की मार, कड़ाके की ठण्‍ड से 15 बच्‍चों की मौत मनु साहनी बने आईसीसी के नए सीईओ सांसद शत्रुघ्‍न सिन्‍हा के अपनी ही पार्टी के लिए बगावती बोल, कहा- पार्टी में अब 'तानाशाही' अंकिता लोखंडे ने इजहार, बोलीं- 'हां मैं प्यार में हूं' शीर्ष 100 ग्लोबल थिंकर्स की सूची में भारतीय मुकेश अंबानी का नाम मीजल्स की बीमारी को जड़ से खत्म करना जरूरी : जनसम्पर्क मंत्री श्री शर्मा कर्नाटक : दो निर्दलीय विधायकों ने लिया समर्थन वापस, सीएम कुमार स्‍वामी बोले- मेरी सरकार स्थिर संगम का पहला स्नान, उमड़ रहा जनसैलाब

मौत से ठन गई

मौत से ठन गई

Post By : Dastak Admin on 17-Aug-2018 08:40:40

अटल बिहारी वाजपेयी

 मौत से ठन गई

ठन गई

मौत से ठन गई.

जूझने का मेरा इरादा न था,

मोड़ पर मिलेंगे इसका वादा न था,

रास्ता रोक कर वह खड़ी हो गई,

यों लगा ज़िन्दगी से बड़ी हो गई

मौत की उमर क्या है? दो पल भी नहीं,

ज़िन्दगी सिलसिला, आज कल की नहीं

मैं जी भर जिया, मैं मन से मरूँ,

लौटकर आऊँगा, कूच से क्यों डरूँ?

तू दबे पाँव, चोरी-छिपे से न आ,

सामने वार कर फिर मुझे आज़मा

मौत से बेख़बर, ज़िन्दगी का सफ़र,

शाम हर सुरमई, रात बंसी का स्वर

बात ऐसी नहीं कि कोई ग़म ही नहीं,

दर्द अपने-पराए कुछ कम भी नहीं

प्यार इतना परायों से मुझको मिला,

न अपनों से बाक़ी हैं कोई गिला

हर चुनौती से दो हाथ मैंने किये,

आंधियों में जलाए हैं बुझते दिए

आज झकझोरता तेज़ तूफ़ान है,

नाव भँवरों की बाँहों में मेहमान है

पार पाने का क़ायम मगर हौसला,

देख तेवर तूफ़ाँ का, तेवरी तन गई

मौत से ठन गई

Tags: अटल बिहारी वाजपेयी

Post your comment
Name
Email
Comment
 

काव्य रचना

विविध