खास खबरें त्रिवेणी कला एवं पुरातत्व संग्रहालय की वर्षगाँठ पर उज्जैन में होगा तीन दिवसीय समारोह आज पेट्रोल और डीजल दोनों हुए महंगे, जानिए कितने बढ़े दाम किम जोंग उन और पुतिन के बीच सम्‍पन्‍न हुई पहली शिखर वार्ता BCCI लोकपाल ने भेजा सचिन तेंदुलकर-लक्ष्‍मण को नोटिस, ये है मामला.. गुरदासपुर में सनी देओल के खिलाफ बीजेपी से सांसद रहे विनोद खन्‍ना की पत्‍नी लड़ सकती है चुनाव अरबाज खान के शो पर भावुक हुई सनी लियोन, निकल आऐं ऑंखो में ऑंसू भारतीय सेना में पहली बार शुरू हुई महिलाओं की भर्ती, शुरू हुआ ऑनलाइन रजिस्‍ट्रेशन साध्‍वी प्रज्ञा का प्रचार करने पर भाजपा के मुस्लिम कार्यकर्ता को मिली जान से मरने की धमकी कश्‍मीर : सेना ने अनंतनाग में मार गिराऐ दो आतंकी असुरों के भक्‍तों की रक्षा के लिए श्री गणेश ने लिए थे आठ अवतार

मौत से ठन गई

मौत से ठन गई

Post By : Dastak Admin on 17-Aug-2018 08:40:40

अटल बिहारी वाजपेयी

 मौत से ठन गई

ठन गई

मौत से ठन गई.

जूझने का मेरा इरादा न था,

मोड़ पर मिलेंगे इसका वादा न था,

रास्ता रोक कर वह खड़ी हो गई,

यों लगा ज़िन्दगी से बड़ी हो गई

मौत की उमर क्या है? दो पल भी नहीं,

ज़िन्दगी सिलसिला, आज कल की नहीं

मैं जी भर जिया, मैं मन से मरूँ,

लौटकर आऊँगा, कूच से क्यों डरूँ?

तू दबे पाँव, चोरी-छिपे से न आ,

सामने वार कर फिर मुझे आज़मा

मौत से बेख़बर, ज़िन्दगी का सफ़र,

शाम हर सुरमई, रात बंसी का स्वर

बात ऐसी नहीं कि कोई ग़म ही नहीं,

दर्द अपने-पराए कुछ कम भी नहीं

प्यार इतना परायों से मुझको मिला,

न अपनों से बाक़ी हैं कोई गिला

हर चुनौती से दो हाथ मैंने किये,

आंधियों में जलाए हैं बुझते दिए

आज झकझोरता तेज़ तूफ़ान है,

नाव भँवरों की बाँहों में मेहमान है

पार पाने का क़ायम मगर हौसला,

देख तेवर तूफ़ाँ का, तेवरी तन गई

मौत से ठन गई

Tags: अटल बिहारी वाजपेयी

Post your comment
Name
Email
Comment
 

काव्य रचना

विविध