खास खबरें मुंबई की मॉडल ने महाकाल मंदिर समिति से मांगी माफी पीएम मोदी आज सिक्किम में करेंगे पाक्‍यांग एयरपोर्ट का उद्घाटन 'गोल्‍डन ग्‍लोब' रेस में हिस्‍सा ले रहे भारतीय नौसेना के अभिषेक भीषण तूफान में फंसे, बचाव दल रवाना एशिया कप : रोहित-धवन ने जमाया शतक, पाकिस्‍तान पर 9 विकेट से भारत की धमाकेदार जीत पाकिस्‍तान के पूर्व गृह मंत्री रहमान मलिक ने राहुल गांधी को पीएम बनाने की तरफदारी हॉरर फिल्‍मों को लेकर उमिला मतोड़कर ने ऐसा दिया बयान ... मुंबई में पेट्रोल के दाम पहुँचे 90 रूपये के करीब राष्ट्रीय स्कॉलरशिप परीक्षाओं के आवेदन की अंतिम तिथि 25 सितम्बर कुल्‍लू में बादल फटा, बाढ़ में बही वॉल्‍वो बस, पर्यटक फंसे आज से शुरू होगा, पितृों का पूजन-तर्पण, पूर्णिमा का होगा पहला श्राद्ध

मौत से ठन गई

मौत से ठन गई

Post By : Dastak Admin on 17-Aug-2018 08:40:40

अटल बिहारी वाजपेयी

 मौत से ठन गई

ठन गई

मौत से ठन गई.

जूझने का मेरा इरादा न था,

मोड़ पर मिलेंगे इसका वादा न था,

रास्ता रोक कर वह खड़ी हो गई,

यों लगा ज़िन्दगी से बड़ी हो गई

मौत की उमर क्या है? दो पल भी नहीं,

ज़िन्दगी सिलसिला, आज कल की नहीं

मैं जी भर जिया, मैं मन से मरूँ,

लौटकर आऊँगा, कूच से क्यों डरूँ?

तू दबे पाँव, चोरी-छिपे से न आ,

सामने वार कर फिर मुझे आज़मा

मौत से बेख़बर, ज़िन्दगी का सफ़र,

शाम हर सुरमई, रात बंसी का स्वर

बात ऐसी नहीं कि कोई ग़म ही नहीं,

दर्द अपने-पराए कुछ कम भी नहीं

प्यार इतना परायों से मुझको मिला,

न अपनों से बाक़ी हैं कोई गिला

हर चुनौती से दो हाथ मैंने किये,

आंधियों में जलाए हैं बुझते दिए

आज झकझोरता तेज़ तूफ़ान है,

नाव भँवरों की बाँहों में मेहमान है

पार पाने का क़ायम मगर हौसला,

देख तेवर तूफ़ाँ का, तेवरी तन गई

मौत से ठन गई

Tags: अटल बिहारी वाजपेयी

Post your comment
Name
Email
Comment
 

काव्य रचना

विविध