खास खबरें बंगाल की खाड़ी में बने सिस्टम से 24-25 को बारिश के आसार जेट की फ्लाइट में कैबिन प्रेशर कम हुआ, यात्रियों के नाक-कान में आने लगा खून खाने से डर रहे है लोग, फलों में निकली रही है सुईयॉं एशिया कप : भारत ने पाकिस्‍तान को मात, 8 विकेट से रौंदा भोपाल में भाजपा कार्यकर्ता के महाकुंभ में आएंगे पीएम मोदी बेटी पूजा-आलिया के साथ महेश भट्ट फिर से बनाएंगे फिल्‍म 'सड़क' अब नौकरी जाने पर सरकार देगी पैसा, सीधे आऐगा आपके बैंक खाते में धान के समर्थन मूल्य पर इस वर्ष भी दिया जायेगा बोनस : मुख्यमंत्री श्री चौहान यूपी में दिमागी बुखार ने ली अब 71 जानें क्‍यों मनाया जाता है मोहर्रम, रमजान के बाद दूसरा सबसे पाक महीना

गुरु स्वाति योग में विराजेंगे प्रथम पूज्‍य गौरी पुत्र गणेश, इस दिशा में करें स्‍थापना...

गुरु स्वाति योग में विराजेंगे प्रथम पूज्‍य गौरी पुत्र गणेश, इस दिशा में करें स्‍थापना...

Post By : Dastak Admin on 05-Sep-2018 09:46:53

ganesh chaturthi, ganpati sthapana, shubh muhurat


उज्जैन। भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी पर 13 सितंबर को गौरी पुत्र गणेश गुरु स्वाति योग में विराजमान होंगे। ज्योतिषियों के अनुसार भाद्रपद मास की चतुर्थी पर ऐसा योग दुर्लभ माना जाता है। शुभ योग व श्रेष्ठ नक्षत्र में पार्थिव गणेश की स्थापना सुख समृद्धि के साथ रिद्धिसिद्धि प्रदान करेगी।

ज्योतिषाचार्य पं.अमर डब्बावाला के अनुसार चतुर्थी पर गुरुवार के दिन स्वाति नक्षत्र का योग आ रहा है। शास्त्रीय मान्यता के अनुसार शुभ दिवस, शुभ नक्षत्र में श्री गणेश का आगमन सर्वत्र शुभफल प्रदाता माना गया है। गुरुवार का दिन, चतुर्थी तिथि तथा स्वाति नक्षत्र, जिनका आपसी अनुक्रम में क्रमश: बृहस्पति, गणपति तथा वायु देवता से संबंध है।

भाद्रपद मास की चतुर्थी पर इस प्रकार का संयोग सालों में बनता है। क्योंकि चतुर्थी तिथि के देवता भगवान गणेश हैं, जो रिद्धि सिद्धि प्रदान करते हैं। बृहस्पति जिन्हें ज्ञान का प्रदाता माना गया है। वायु देवता जो मनुष्य में पंच प्राण को संतुलित रखते हैं। इस दृष्टि से ज्ञान बुद्धि का संतुलन कार्य में सिद्धि प्रदान करता है। अत: गुरु स्वाति योग में दस दिवसीय गणेशोत्सव विभिन्न् प्रकार की आराधना से भक्तों को मानोवांछित फल प्रदान करने वाला रहेगा।

मूर्ति स्थापना के लिए यह दिशा श्रेष्ठ
पूर्व दिशा : पूर्व दिशा के ईशान कोण में विधि विधान से भगवान गणेश की मिट्टी की मूर्ति स्थापित कर दस दिन तक नियमित आराध्ाना करने से भक्तों के निवास में स्थिर लक्ष्मी का वास होता है। साथ ही कार्य मे सफलता मिलती है।

उत्तर दिशा : मध्य उत्तर दिशा से वायव्य कोण में मूर्ति स्थापना कर पूजा करने से आर्थिक प्रगति, सही गलत को पहचानने की क्षमता तथा सुरक्षा कवच की प्राप्ति होती है। रुके हुए कार्य की शुरुआत के लिए भी यह दिशा शुभ है।

पश्चिम दिशा : पश्चिम दिशा में गणपति स्थापना कर पूजा अर्चना करने से संकट तथा बाधाओं का निवारण होता है। मनोवांछित फल की प्राप्ति के लिए भी इस दिशा में गणपित पूजन को श्रेयष्कर माना गया है।

Tags: ganesh chaturthi, ganpati sthapana, shubh muhurat

Post your comment
Name
Email
Comment
 

धर्म

विविध