खास खबरें ग्रुप डिस्कशन और सेमिनार से बता रहे भोजन में सब्जियां लें, जंकफूड न खाए 2025 तक इंसानों से ज्यादा काम करेंगी मशीनें : वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम माता-पिता की इस लत के खिलाफ बच्‍चों ने सड़कों पर किया विरोध प्रदर्शन क्रिकेट टीम कप्तान विराट कोहली और वेटलिफ्टर मीराबाई चानू को राजीव गांधी खेल रत्न देने की सिफारिश अजय माकन ने दिया दिल्‍ली कांग्रेस के अध्‍यक्ष पद से इस्‍तीफा कैंसर के मुश्किल जंग जीतने के बाद 46 की उम्र में लीजा बनी जुड़वा बेटियों की मॉं सेंसेक्स 37650 के करीब, निफ्टी 11400 के ऊपर कर्तव्यों का निर्वहन सिखाते हैं विश्वविद्यालय : राज्यपाल श्रीमती पटेल रेवाड़ी गैंगरेप : मुख्‍य आरोपी निशु पहले भी कर चुका है ऐसी वारदात चौथे दिन उत्तम शौच धर्म की पूजा के साथ, अपनी वाणी को अपने मन को अपने कर्मों को उत्तम बनाना ही शौच धर्म है

कुशग्रहणी अमावस्‍या पर करें ये उपाय, घर में होगा सुख-समृद्धि का वास

कुशग्रहणी अमावस्‍या पर करें ये उपाय, घर में होगा सुख-समृद्धि का वास

Post By : Dastak Admin on 09-Sep-2018 11:29:35

kushgrahni amavasya


आज यानी रविवार को कुशग्रहणी अमावस्या है। आज के दिन भादो के पहले रविवार को यानी आज 9 सितंबर 2018 को अमावस तिथि पड़ी है। आज के दिन का विशेष महत्व होता है। इसे भाद्रपद कृष्ण अमावस्या के नाम से भी जाना जाता है।
 
भाद्रपद माह की अमावस्या की भी अपनी खासियत हैं। इस माह की अमावस्या पर धार्मिक कार्यों के लिये कुश एकत्रित की जा सकती है। मान्यता है कि श्राद्ध कर्म, धार्मिक कार्यों आदि में इस्तेमाल की जाने वाली घास यदि इस दिन एकत्रित की जाये तो वह वर्षभर तक पुण्य फलदायी होती है।

कुछ लोगों की कुंडली में शनि, राहु और केतु का प्रकोप बार -बार होता है और वे इससे परेशान रहते है। इससे बचने के लिए भी भाद्रपद कृष्ण यानी कुशोत्पाटिनी अमावस्या को खास बताया गया है। दक्षिण में पिठौरी अमावस्या का व्रत तो उत्तर भारत में कुशोत्पाटिनी अमावस्या का पर्व मनाया जाता है। इस दिन साल भर के पूजा पाठ में काम आने वाला कुश तोड़ा जाता है।
 
आज के दिन ये उपाय करने से आपके घर में सुख-समृद्वि और धन की वर्षा होगी और आपके जीवन में खुशहाली भी आएगी। 
 
रविवार को सूर्य अपनी सिंह राशि में है इसलिए आज के दिन का महत्व बहुत बढ़ गया है। साथ ही आज चंद्रमा के साथ युति बनी है। शुक्र का 8 बजे के बाद पूर्वाफाल्गुनी नक्षत्र भी है। इस दौरान पितरों को प्रसन्न करने से अच्छी पढ़ाई, धन और सुखी जीवन का वरदान मिलता है।
 
कुशग्रहणी अमावस्या पर करें ये उपाय 
सबसे पहले स्नान कर सूर्य भगवान को स्टील के लोटे में जल और चावल डालकर जल चढ़ाएं।
 
सूर्य भगवान को धूप और दीपक दिखाने के बाद उनकी अराधना करें।
 
सभी कार्य सूर्योदय होने के बाद ही प्रारंभ करें।
 
सफेद वस्त्र धारण कर पितरों का तर्पण और श्राद्व करें।
 
पितरों के नाम पर पका भोजन, चावल, सब्जी दान करें। चांदी भी दान कर सकते हैं। 
 
दूध और जल का मिश्रण एक लोटे में लेकर शिव जी को चढ़ाएं और दीपक भी जलाएं।

Tags: kushgrahni amavasya

Post your comment
Name
Email
Comment
 

धर्म

विविध