खास खबरें यूडीए की जमीन से अतिक्रमण हटाने पहुंची पुलिस, युवक ने काट ली हाथ की नस आधार है पूरी तरह सुरक्षित, इससे मिली आम नागरिक को पहचान : सुप्रीम कोर्ट यूएन में ट्रम्‍प ने की भारत की तारीफ 'लाखों लोगों को गरीबी से बाहर निकाला' बैडमिंटन स्‍टार साइन नेहवाल की बैडमिंटन खिलाड़ी पी कश्‍यप के साथ बनी जोड़ी, जल्‍द होने वाली है शादी पीएम मोदी पर अक्रामक हुए राहुल गांधी बोले, पीएम मोदी है 'कमांडर इन थीफ' श्रीदेवी की मौत के बाद इस तरह पिता और बहनों के करीब आये अर्जुन कपूर निफ्टी 11100 के पार, सेंसेक्स 200 अंक मजबूत संबल योजना में 2 करोड़ से अधिक श्रमिक लाभान्वित : राज्यमंत्री श्री पाटीदार टॉपर छात्रा से पहले भी कई लड़कियों को अपना शिकार बना चुके थे रेवाड़ी काण्‍ड के दरिंदे आज से शुरू होगा, पितृों का पूजन-तर्पण, पूर्णिमा का होगा पहला श्राद्ध

कुशल प्रबंधन

कुशल प्रबंधन

Post By : Dastak Admin on 26-Jul-2018 19:35:31

good management


स्वामी श्रद्धानंद सन्यास ले चुके थे। गुरुकुल के मुख्य अधिष्ठाता और आचार्य के पद से भी वह निवृत्त हो चुके थे। आचार्य के शिष्यों ने गुरुकुल की व्यवस्था को संभाल लिया था। इस दौरान गुरुकुल का उत्सव प्रारंभ हो गया। स्वामी श्रद्धानंद गंगा उत्सव के भाग लेने के लिए गंगा तट के बंगले में रुके हुए थे। उत्सव का मुख्य व्याख्यान हो रहा था। इसी बीच दर्शकों को निवास स्थान से धुंआ उठता हुआ दिखाई दिया। क्षणभर में ही यह बात चारों और फैल गई की आग लग गई। पांडाल पूरी तरह से खाली हो गया और सभी लोग कैम्प की तरफ भागे। वहां जाकर देखा तो फूस के छप्पर बारुद के ढेर की तरह धू-धू कर जल रहे थे।

दर्शक पागलों की तरह चारों और भागने लगे और चीखने-चिल्लाने लगे, क्योंकि कई बच्चे आग लगने के वक्त कैंप में सोए हुए थे। प्रश्न यह उठ रहा था कि इस भयानक दावानल में घुसकर कौन उनको बचाएगा ? यह भी नहीं सूझ रहा था कि इस आग पर काबू कैसे पाया जाए? कुछ देर तक शोरगुल और चीख-पुकार के कुछ भी सुनाई नहीं दे रहा था। इसी बीच घटनास्थल पर स्वामीजी आ गए और सारी परिस्थितियों का मुआयना कर कार्यकर्ताओं को फावड़े, गैंती, तगारी और दूसरे सामान लेने के लिए भेजा और खुद सबको लेकर आग के नजदीक पहुंच गए। स्वामीजी ने इसके बाद वहां पर मौजूद लोगों को स्वयंसेवक दलों के रूप में विभक्त कर दिया।

एक दल को उन्होने आज्ञा दी की कपड़ों या हाथों में जैसे भी हो रेत और मिट्टी लेकर आग पर डालो। दूसरे दल को आज्ञा दी की दूसरे छप्परों में जिनमें आग नहीं लगी है, उनका सामान निकालकर बहुत दूरी पर रख दो। उनको आग से दूर ले जाओ। इतनी देर में फावड़ा, टोकरियां, बाल्टियां, घड़े सभी चीज आ पहुंची। स्वयंसेवकों का एक दल मिट्टी खोदने लगा, दूसरा दल मिट्टी को टोकरियों में भरकर आग पर डालने लगा। तीसरे दल ने बाल्टियों में पानी भरकर कतारों में आग लगने वाली जगह पहुंचाना शुरू कर दिया। कुशल प्रबंधन से कुछ ही देर में फैलती आग पर कुछ ही देर में काबू पा लिया गया।

Tags: good management

Post your comment
Name
Email
Comment
 

किताबी दुनिया

विविध