खास खबरें कालिदास समारोह स्थगित होने के आदेश जारी अनंत कुमार का अंतिम संस्कार आज, पीएम ने बेंगलुरु जाकर दी श्रद्धांजलि मार्वल कॉमिक्स के रियल लाइफ 'सुपरहीरो' स्टैन ली का निधन विराट कोहली खो बैठे थे अपना संयम - विश्‍वनाथन आनंद संघ को लेकर मध्‍यप्रदेश में कांग्रेस और बीजेपी में सियासी घमासान, शिवराज बोले 'कोई नहीं रोक सकता' सलमान खान करना चाहते थे जूही से शादी, लेकिन पिता ने ठुकरा दिया था प्रपोजल निफ्टी 10460 के पास, सेंसेक्स 95 अंक कमजोर सॉंप के डसने से हुई बुजुर्ग की मौत, जिंदा करने मुर्दाघर में चलती रही तंत्र क्रिया केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार का आज बेंगलुरू में राजकीय सम्‍मान के साथ अंतिम संस्‍कार छठ पूजा : संतान प्राप्ति और उनकी मंगल कामना के लिए करते है सूर्य की उपासना

कुशल प्रबंधन

कुशल प्रबंधन

Post By : Dastak Admin on 26-Jul-2018 19:35:31

good management


स्वामी श्रद्धानंद सन्यास ले चुके थे। गुरुकुल के मुख्य अधिष्ठाता और आचार्य के पद से भी वह निवृत्त हो चुके थे। आचार्य के शिष्यों ने गुरुकुल की व्यवस्था को संभाल लिया था। इस दौरान गुरुकुल का उत्सव प्रारंभ हो गया। स्वामी श्रद्धानंद गंगा उत्सव के भाग लेने के लिए गंगा तट के बंगले में रुके हुए थे। उत्सव का मुख्य व्याख्यान हो रहा था। इसी बीच दर्शकों को निवास स्थान से धुंआ उठता हुआ दिखाई दिया। क्षणभर में ही यह बात चारों और फैल गई की आग लग गई। पांडाल पूरी तरह से खाली हो गया और सभी लोग कैम्प की तरफ भागे। वहां जाकर देखा तो फूस के छप्पर बारुद के ढेर की तरह धू-धू कर जल रहे थे।

दर्शक पागलों की तरह चारों और भागने लगे और चीखने-चिल्लाने लगे, क्योंकि कई बच्चे आग लगने के वक्त कैंप में सोए हुए थे। प्रश्न यह उठ रहा था कि इस भयानक दावानल में घुसकर कौन उनको बचाएगा ? यह भी नहीं सूझ रहा था कि इस आग पर काबू कैसे पाया जाए? कुछ देर तक शोरगुल और चीख-पुकार के कुछ भी सुनाई नहीं दे रहा था। इसी बीच घटनास्थल पर स्वामीजी आ गए और सारी परिस्थितियों का मुआयना कर कार्यकर्ताओं को फावड़े, गैंती, तगारी और दूसरे सामान लेने के लिए भेजा और खुद सबको लेकर आग के नजदीक पहुंच गए। स्वामीजी ने इसके बाद वहां पर मौजूद लोगों को स्वयंसेवक दलों के रूप में विभक्त कर दिया।

एक दल को उन्होने आज्ञा दी की कपड़ों या हाथों में जैसे भी हो रेत और मिट्टी लेकर आग पर डालो। दूसरे दल को आज्ञा दी की दूसरे छप्परों में जिनमें आग नहीं लगी है, उनका सामान निकालकर बहुत दूरी पर रख दो। उनको आग से दूर ले जाओ। इतनी देर में फावड़ा, टोकरियां, बाल्टियां, घड़े सभी चीज आ पहुंची। स्वयंसेवकों का एक दल मिट्टी खोदने लगा, दूसरा दल मिट्टी को टोकरियों में भरकर आग पर डालने लगा। तीसरे दल ने बाल्टियों में पानी भरकर कतारों में आग लगने वाली जगह पहुंचाना शुरू कर दिया। कुशल प्रबंधन से कुछ ही देर में फैलती आग पर कुछ ही देर में काबू पा लिया गया।

Tags: good management

Post your comment
Name
Email
Comment
 

किताबी दुनिया

विविध