खास खबरें कलेक्टर ने दी डेड लाइन: सीएम हेल्पलाइन की पेंडिंग शिकायतें एक सप्ताह में हल करें आज भी दो महिलाओं ने की प्रवेश की कोशिश, तनाव सीरिया में पड़ रही मौसम की मार, कड़ाके की ठण्‍ड से 15 बच्‍चों की मौत मनु साहनी बने आईसीसी के नए सीईओ सांसद शत्रुघ्‍न सिन्‍हा के अपनी ही पार्टी के लिए बगावती बोल, कहा- पार्टी में अब 'तानाशाही' अंकिता लोखंडे ने इजहार, बोलीं- 'हां मैं प्यार में हूं' शीर्ष 100 ग्लोबल थिंकर्स की सूची में भारतीय मुकेश अंबानी का नाम मीजल्स की बीमारी को जड़ से खत्म करना जरूरी : जनसम्पर्क मंत्री श्री शर्मा कर्नाटक : दो निर्दलीय विधायकों ने लिया समर्थन वापस, सीएम कुमार स्‍वामी बोले- मेरी सरकार स्थिर संगम का पहला स्नान, उमड़ रहा जनसैलाब

पड़ोसी देशों के नेताओं के संबंध पड़ोसियों जैसे हों : पीएम मोदी

पड़ोसी देशों के नेताओं के संबंध पड़ोसियों जैसे हों : पीएम मोदी

Post By : Dastak Admin on 11-Sep-2018 13:11:15

PM Modi,Neighboring neighbors like neighbors

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को कहा कि पड़ोसी देशों के नेताओं के बीच पड़ोसियों जैसे संबंध ही होने चाहिए जो किसी प्रोटोकॉल से न बंधे हों। प्रधानमंत्री ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये बांग्लादेश में तीन आधारभूत परियोजनाओं का संयुक्त रूप से शुभारंभ करते हुए यह टिप्पणी की।
तीनों परियोजनाओं का मोदी, उनकी बांग्लादेशी समकक्ष शेख हसीना, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब देब ने संयुक्त रूप से उद्घाटन किया। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और उनके बांग्लादेशी समकक्ष भी इस मौके पर उपस्थित थे। इन परियोजनाओं में वर्तमान भेरामार (बांग्लादेश)-बहरामपुर (भारत) इंटरकनेक्शन के जरिये भारत द्वारा बांग्लादेश को 500 मेगावाट की अतिरिक्त बिजली मुहैया कराना, अखौरा-अगरतला रेल लिंक और बांग्लादेश रेलवे के कुलौरा-शाहबाजपुर खंड का पुनरुद्धार शामिल है।
इस मौके पर मोदी ने काठमांडू में बिम्सटेक सम्मेलन, शांति निकेतन और लंदन में राष्ट्रमंडल सम्मेलन सहित शेख हसीना से हुईं कई हालिया मुलाकातों को याद किया। प्रधानमंत्री ने कहा कि उनकी और बांग्लादेशी प्रधानमंत्री के बीच अक्सर होने वाली बातचीत से निकटता जाहिर है।
मोदी ने 1965 से पहले की तरह दोनों देशों के बीच संपर्क बहाल करने के हसीना के विजन को याद करते हुए कहा कि पिछले कुछ साल में इस लक्ष्य की प्राप्ति में हुई क्रमिक प्रगति से वह खुश हैं। प्रधानमंत्री ने कहा कि जब परियोजनाओं की शुरुआत वीडियो लिंक के जरिये की जाती है तो वे वीआइपी यात्राओं की टाइमिंग में नहीं फंसतीं।

पीएम मोदी ने कहा, 'हमने अपने ऊर्जा संपर्क को बढ़ाया और अपने रेल संपर्क को बढ़ाने के लिए दो परियोजनाएं शुरू कीं।' उन्होंने याद किया कि 2015 में उनकी बांग्लादेश यात्रा के दौरान यह फैसला किया गया था कि भारत बांग्लादेश को 500 मेगावाट अतिरिक्त बिजली की आपूर्ति करेगा। इसे पश्चिम बंगाल और बांग्लादेश के बीच ट्रांसमिशन संपर्क का इस्तेमाल करते हुए किया जा रहा है। इस काम को पूरा करने में मदद करने के लिए उन्होंने ममता बनर्जी का शुक्रिया अदा किया।
प्रधानमंत्री ने कहा कि इस परियोजना के पूरी होने से अब भारत से बांग्लादेश को 1.16 गीगावाट बिजली की आपूर्ति की जा रही है। मेगावाट से गीगावाट के बीच यह उछाल दोनों देशों के बीच संबंधों में एक 'स्वर्णिम युग' का संकेत है। अखौरा-अगरतला रेल लिंक दोनों देशों के बीच सीमा के आर-पार एक और संपर्क प्रणाली मुहैया कराएगा।
प्रधानमंत्री ने सोमवार को भारत और श्रीलंका के लोगों के बीच संपर्क बढ़ाने का आह्वान करते हुए कहा कि इससे दोनों देशों के बीच संबंध मजबूत होंगे। प्रधानमंत्री ने यह टिप्पणी श्रीलंकाई संसद में विभिन्न पार्टियों के प्रतिनिधिमंडल से मुलाकात के दौरान की।

Tags: PM Modi,Neighboring neighbors like neighbors

Post your comment
Name
Email
Comment
 

राष्ट्रीय

विविध