खास खबरें दर्शनार्थी द्वारा मन्दिर गार्ड के साथ मारपीट प्रकरण में एफआईआर दर्ज महाराष्‍ट्र : वर्धा के सैन्‍य डिपो में हुआ ब्‍लॉस्‍ट, 4 की मौत, 6 अन्‍य घायल इंडोनेशिया : मस्जिदों में नमाजियों को दिया जा रहा कट्टरता का पाठ -खुफिया एजेंसी हॉकी वर्ल्‍ड कप : पाकिस्‍तान टीम के कप्‍तान ने किया दावा 'हम खेल के साथ इस बार दिल भी जीतकर आएंगे.’ सुषमा स्‍वराज के चुनाव नहीं लड़ने की बात पर बोले चिदंबरम 'बीजेपी की हालत देख छोड़ रही मैदान' सामने आई नेहा धूपिया-अंगद की बेटी की तस्‍वीर, नेहा ने शेयर किया अपनी का नाम निफ्टी 10750 के नीचे, सेंसेक्स 100 अंक लुढ़का पीएम मोदी आज झाबुआ में करेंगे चुनावी सभा, ये चीजे ले जाना प्रतिबंधित अपनी मांगों को लेकर 20 हजार किसान पहुँचे ठाणे कर्ज से दिलाता है मुक्ति भोम प्रदोष व्रत, जानें कथा .

26 अगस्‍त को मनेगा भाई-बहन का पवित्र पर्व रक्षाबंधन, ये रहेंगे शुभ मुहूर्त

26 अगस्‍त को मनेगा भाई-बहन का पवित्र पर्व रक्षाबंधन, ये रहेंगे शुभ मुहूर्त

Post By : Dastak Admin on 17-Aug-2018 12:20:45

rakhshabandhan muhurat


रक्षाबंधन का शुभ पर्व इस वर्ष 26 अगस्त को है। ज्योतिष पंचांग के अनुसार पूर्णिमा तिथि 25 अगस्त को दोपहर 3.16 मिनट से प्रारंभ हो जाएगी जो 26 अगस्त को सायं 5.25 मिनट तक रहेगी। इस दिन धनिष्ठा नक्षत्र दोपहर 12.35 बजे तक रहेगा।

रक्षाबंधन का मुहूर्त 26 अगस्त को प्रातः 7.43 से दोपहर 12.28 बजे तक रहेगा। इसके बाद दोपहर 2.03 से 3.38 बजे तक रहेगा। सायं 5.25 पर पूर्णिमा तिथि समाप्त हो जाएगी। हालांकि, सूर्योदय व्यापिनी तिथि मानने के कारण रात्रि में भी राखी बांधी जा सकेगी।

शास्त्रों के अनुसार रक्षा सूत्र बांधे जाते समय निम्न मंत्र का जाप करने से अधिक फल मिलता है।

"येन बद्धो बलिराजा, दानवेन्द्रो महाबलः तेनत्वाम प्रति बद्धनामि रक्षे, माचल-माचलः"

अर्थात दानवों के महाबली राजा बलि जिससे बांधे गए थे,उसी से तुम्हें बांधती हूं। हे रक्षे ! (रक्षासूत्र) तुम चलायमान न हो,चलायमान न हो।

पंचक में भी बंधेगी राखी
धनिष्ठा से रेवती तक पांच नक्षत्रों को पंचक कहा जाता है। माना जाता है कि पंचक में कोई भी कार्य नहीं करना चाहिए। हालांकि, सत्यता यह है कि पंचक में अशुभ कार्य नहीं करना चाहिए क्योंकि उनकी पांच बार पुनरावृत्ति होती है। मगर, पंचक में किसी भी शुभ काम को करने में कोई समस्या नहीं है। रक्षाबंधन के दिन धनिष्ठा नक्षत्र होने के कारण पंचक रहेगा, लेकिन राखी बांधने में यह बाधक नहीं बनेगा।

इस साल अच्छी बात यह है कि राखी के दिन भद्रा नहीं है, इसलिए रक्षाबंधन सुबह से लेकर रात तक किया जा सकता है, लेकिन बीच-बीच में कुछ समय को छोड़ना होगा क्योंकि अशुभ चौघड़िया, राहु काल, यम घंटा और गुली काल रहेगा।

यह है शुभ मुहूर्त

प्रातः 7.43 से 9.18 तक चर

प्रातः 9.18 से 10.53 तक लाभ

प्रातः10.53 से 12.28 तक अमृत

दोपहर: 2.03 से 3.38 तक शुभ

सायं: 6.48 से 8.13 तक शुभ

रात्रि: 8.13 से 9.38 तक अमृत

रात्रि: 9.38 से 11.03 तक चर

इस समय में न बांधें राखी

राहु काल प्रातः 5.13 से 6.48

यम घंटा दोपहर 12.28 से 2.03

गुली काल दोपहर 3.38 से 5.13

काल चौघड़िया दोपहर 12.28 से 2.03

Tags: rakhshabandhan muhurat

Post your comment
Name
Email
Comment
 

ज्योतिष

विविध