खास खबरें सिखाया मत गणना का तरीका, दी ईवीएम और वीवीपेट की जानकारी लंदन कोर्ट आज सुना सकती है माल्‍या के भारत प्रर्त्‍यपण पर फैसला बढ़ाने के विरोध में 'मैक्रों इस्तीफा दो' की बनियान पहन प्रदर्शनकारियों ने किया विरोध भारत बनाम ऑस्‍ट्रेलिया : भारतीय ने जीता एडिलेड टेस्‍ट, रचा इतिहास शीतकालीन सत्र से पहले विपक्ष की आज महाबैठक, शीर्ष विपक्षी नेता होगें शामिल शाहिद कपूर को हुआ कैंसर, परिवार ने किया खबर पर खुलासा ... सेंसेक्स 600 अंक नीचे, निफ्टी 10520 के करीब देश का दूसरा सबसे बड़ा राज्‍य मध्‍यप्रदेश इसलिए बना है देश का दिल ... केरल बना चार एयरपोर्ट वाला देश का पहला राज्‍य, कन्‍नूर एयरपोर्ट हुआ शुरू श्रीमद् भागवत ज्ञानयज्ञ महोत्सव में क्षिप्रा तट से निकली कलश यात्रा

महँगे रत्‍नों के समान ही कारगर होते है सस्‍ते उपरत्‍न

महँगे रत्‍नों के समान ही कारगर होते है सस्‍ते उपरत्‍न

Post By : Dastak Admin on 28-Aug-2018 15:28:50

upratna


कुंड़ली में दोष के निवारण के लिए कई बार ज्योतिषय उपाय के तौर पर कोई रत्न पहनने की सलाह देते हैं। वैसे ज्योतिष शास्त्र के हिसाब से मुख्य रूप से नौ रत्न बताए गए हैं परन्तु ये रत्न काफी महंगे होते हैं और इनके नकली होने का भी डर रहता है। इसके लिए रत्नों के स्थान पर उपरत्न भी पहने जाते हैं जो सस्ते भी होते हैं और कारगर भी। इसलिए आज हम आपको रत्नों के उप रत्नों के बारे में बताने जा रहे हैं।

क्या होता है अंतर?
- उपरत्न और रत्न में मुख्य अंतर यही है कि रत्न ज्यादा लम्बे समय तक काम करते हैं जबकि उपरत्न उनकी तुलना में कम समय के लिए प्रभावशाली होते हैं।

- एक ग्रह के लिए मुख्य रूप से एक रत्न और कई सारे उपरत्न होते हैं. सही उपरत्न का चुनाव करके धारण किया जाय तो निश्चित लाभ होता है।

सूर्य
- सूर्य का मुख्य रत्न माणिक्य है। इसके स्थन पर तामड़ी , लालड़ी , लाल तुरमली और गार्नेट भी पहन सकते हैं।

- माणिक्य का सबसे अच्छा उपरत्न "स्पाइनल" होता है। इसे अनामिका अंगुली में ताम्बे में धारण करना चाहिए।

चन्द्रमा
- चन्द्रमा का मुख्य रत्न मोती है। मोती के उपरत्न मून स्टोन और ऐगेट हैं।

- मोती के स्थान पर चांदी में मूनस्टोन धारण करना सबसे ज्यादा उत्तम होता है।

मंगल
- मंगल का मुख्य रत्न मूंगा है। मूंगे का उपरत्न लाल हकीक है । इसे ताम्बे में धारण कर सकते हैं।
बुध
- बुध का मुख्य रत्न पन्ना है। पन्ने के उपरत्न हरा बैरुज , ओनेक्स , मरगज होते हैं।

- हालांकि इसका सबसे अच्छा उपरत्न मरगज माना जाता है इसे चांदी में धारण करना शुभ होता है।

बृहस्पति
- बृहस्पति का मुख्य रत्न पीला पुखराज होता है। इसके उपरत्न पीला बैरुज , सुनहला , येलो सिट्रीन होते हैं।

- पीला बैरुज सबसे अच्छा उपरत्न है। इसे पीतल या सोने के साथ पहना जाता है।

शुक्र
- शुक्र का मुख्य रत्न हीरा है। हीरा काफी महंगा होता है इसलिए आप इसकी जगह इसके उपरत्न जरकन , अमेरिकन डायमंड और ओपल भी पहन सकते हैं।

- इनमे ओपल सबसे अच्छा उपरत्न है। इसे चांदी में धारण करना चाहिए।

शनि
- शनि का मुख्य रत्न नीलम हैं। नीलम के उपरत्न नीली , नीला टोपाज , लाजवर्त,तंजनाईट और सोडालाइट हैं।

- लेकिन इसका सबसे अच्छा उपरत्न तंजनाईट माना जाता है। इसे चांदी में धारण करने की सलाह दी जाती है।

Tags: upratna

Post your comment
Name
Email
Comment
 

ज्योतिष

विविध