खास खबरें प्रधानमंत्री आवास योजना ने गरीब परिवारों को बनाया पक्के घरों का मालिक इस क्षेत्र में मिलेंगी सबसे ज्यादा नौकरियां, प्रोफेशनल्स की बढ़ रही डिमांड अमेरिकी ने लगाए चीन पर प्रतिबंध, बौखलाहट में उठाया यह कदम 'गोल्‍डन ग्‍लोब' रेस में हिस्‍सा ले रहे भारतीय नौसेना के अभिषेक भीषण तूफान में फंसे, बचाव दल रवाना पाकिस्‍तान के पूर्व गृह मंत्री रहमान मलिक ने राहुल गांधी को पीएम बनाने की तरफदारी सनी लियोन को मिला था 'गेम ऑफ थ्रोन्‍स' में काम करने का मौका, इसलिए कर दिया मना... सेंसेक्स 110 अंक , निफ्टी 11100 के नीचे मिंटो हॉल अन्तर्राष्ट्रीय कन्वेंशन सेंटर के रूप में तैयार पति-पत्नि के बीच हुआ झगड़ा, पति ने की किस करने की कोशिश, पत्‍नी ने काट दी जीभ आज से शुरू होगा, पितृों का पूजन-तर्पण, पूर्णिमा का होगा पहला श्राद्ध

11/84 श्री सिद्धेश्वर महादेव

11/84 श्री सिद्धेश्वर महादेव

Post By : Dastak Admin on 09-Sep-2018 11:30:51

11/84 श्री सिद्धेश्वर महादेव


 
लिङ्गं एकादशं विद्धि देवि सिद्धेश्वरम् शुभम।
वीरभद्र समीपे तु सर्व सिद्धि प्रदायकम्। ।

परिचय:
श्री सिद्धेश्वर महादेव की स्थापना की कथा ब्राह्मणों द्वारा स्वार्थवश सिद्धि प्राप्त करने की दशा में नास्तिकता की ओर बढ़ने और फिर उनकी महादेव आराधना से जुडी हुई है।
पौराणिक आधार एवं महत्व:
पौराणिक ककथाओं के अनुसार एक बार देवदारु वन में समस्त ब्राह्मणगण एकत्रित हो सिद्धि प्राप्त करने हेतु तप करने लगे। किसी ने शाकाहार से, किसी ने निराहार से, किसी ने पत्ते के आहार से, किसी ने वीरासन से, आदि प्रकारों से ब्राह्मणों द्वारा तपस्या की जाने लगी। किन्तु सैकड़ों वर्षों के बाद भी उन्हें सिद्धि प्राप्त नहीं हुई। इसके फलस्वरूप ब्राह्मण बेहद दुखी हुए एवं उनका ग्रंथों, वचनों पर से विश्वास उठने लगा। वे नास्तिकता की ओर बढ़ने लगे। तभी आकाशवाणी हुई कि आप सभी ने स्वार्थवश एक दूसरे से स्पर्धा करते हुए तप किया है इसलिए आपमें से किसी को भी सिद्धि प्राप्त नही हुई। काम, वासना, अहंकार, क्रोध, मोह,लोभ आदि तप की हानि करने वाले कारक हैं। इन सभी कारकों से वर्जित होकर जो तपस्या व देव पूजा करते हैं उन्हें सिद्धि प्राप्त होती है।

अब आप सभी महाकाल वन में जाएं और वहां वीरभद्र के पास स्थित लिंग की पूजा-अर्चना करें। सिद्धि के दाता सिर्फ महादेव ही है। उन्हीं की कृपा से सनकादिक देवता को सिद्धि प्राप्त हुई थी। इसी लिंग के पूजन से राजा वामुमन को खंड सिद्धि, राजा हाय को आकाशगमन की सिद्धि, कृतवीर्य को हज़ार घोड़े, अरुण को अदृश्य होने की, इत्यादि सिद्धियां प्राप्त हुई हैं। उस लिंग की निस्वार्थ आराधना करने से आप सभी को भी सिद्धि प्राप्त होगी।

तब वे सभी ब्राह्मणगण महाकाल वन में आये और सर्वसिद्धि देने वाले इस शिव लिंग के दर्शन किये जिससे उन्हें सिद्धि प्राप्त हुई। उसी दिन से वो लिंग सिद्धेश्वर के नाम से विख्यात हुआ।

दर्शन लाभ:
मान्यतानुसार जो भी मनुष्य ६ महीने तक नियमपूर्वक श्री सिद्धेश्वर का दर्शन करते हैं उन्हें वांछित सिद्धि प्राप्त होती है। कृष्णपक्ष की अष्टमी और चतुर्दशी को जो सिद्धेश्वर महादेव के दर्शन करता है उसे शिवलोक प्राप्त होता है।

कहाँ स्थित है?
श्री सिद्धेश्वर महादेव उज्जैन में भेरूगढ़ क्षेत्र में स्थित सिद्धनाथ के मुख्य द्वार पर स्थित है। सिद्धनाथ जाने वाले श्रद्धालु यहां आकर दर्शन लाभ लेते हैं।

Tags: 11/84 श्री सिद्धेश्वर महादेव

Post your comment
Name
Email
Comment
 

84 महादेव

विविध