खास खबरें मोगली बाल उत्सव- 2018, एप्को में राज्य स्तरीय ट्रेनर एवं क्विज मास्टर प्रशिक्षण कार्यक्रम आज रेवाड़ी गैंगरेप काण्‍ड के दो अन्‍य आरोपी SIT की गिरफ्त में राफेड विवाद में पाक ने अड़ाई अपनी टांग, कहा- सरकार कर रही पीएम मोदी को बचाने की कोशिश खेल मंत्रालय ने दी सफाई, विराट कोहली को क्‍यों चुना गया 'खेल रत्‍न' के लिए समाजवादी पार्टी की ‘सामाजिक न्याय व लोकतंत्र बचाओ’ यात्रा पहुँची जंतर-मंतर, पार्टी संस्थापक और यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव ने भरी हुंकार सनी देओल-साक्षी तंवर स्‍टॉरर 'मोहल्‍ला अस्‍सी' आखिरकार इस दिन होगी रिलीज मुंबई में पेट्रोल के दाम पहुँचे 90 रूपये के करीब राष्ट्रीय स्कॉलरशिप परीक्षाओं के आवेदन की अंतिम तिथि 25 सितम्बर आंध्रप्रदेश : नक्‍सलियों ने की टीडीपी के विधायक और पूर्व विधायक की हत्‍या क्‍यों मनाई जाती है अनंत चतुदर्शी, क्‍या है अंनतसूत्र का महत्‍व

एशियन गेम्‍स में जीता पदक, अब दिल्‍ली में बेच रहा चाय

एशियन गेम्‍स में जीता पदक, अब दिल्‍ली में बेच रहा चाय

Post By : Dastak Admin on 08-Sep-2018 16:55:11

asian games medalist harish kumar making tea

 

इंडोनेशिया की राजधानी जकार्ता में हुए एशियन गेम्स में भारत ने अब तक का अपना सबसे अच्छा प्रदर्शन करते हुए 69 मेडल जीते. इनमें से कुछ खिलाड़ियों को जहां इनाम के तौर पर करोड़ों  का राशि देने का वादा किया गया है, जिससे वे खेल में अपने सपने को पूरा कर सकेंगे. वहीं कुछ को अपने पुराने काम पर लौटना पड़ा है. ऐसी ही एक कहानी भारत को कांस्य पदक दिलाने वाले हरीश कुमार की है.

हरीश कुमार एशियन गेस्म में सेपक टकरा में कांस्य पदक जीतने वाली टीम के सदस्य थे. हरीश दिल्ली के मजनू का टीला में अपने पिता की दुकान पर चाय बेचते हैं. इंडोनेशिया से लौटने के बाद हरीश अपने काम में जुट गए हैं और अपने पिता का हाथ बंटा रहे हैं. उनके घर की आजीविका इस चाय की दुकान पर टिकी है.

हरीश कुमार के मुताबिक उनका परिवार बड़ा है और आय का स्रोत कम है. हरीश ने कहा कि मैं चाय की दुकान पर पिता की मदद करता हूं. इसके साथ ही 2 बजे से 6 बजे तक चार घंटे खेल का अभ्यास करता हूं. उन्होंने कहा कि परिवार के बेहतर भविष्य के लिए अच्छी नौकरी करना चाहता हूं.

हरीश की मां ने कहा कि हमने बड़े संघर्ष से अपने बच्चों को बड़ा किया है. हरीश के पिता ऑटो ड्राइवर हैं और साथ में हमारी एक चाय की दुकान है. जिसमें पति के साथ बेटा भी काम करता है. मैं अपने बेटे की सफलता में सहयोग के लिए सरकार और कोच हेमराज का धन्यवाद देती हूं.

यह बताते हुए कि वह इस खेल में कैसे पहुंचे, हरीश ने कहा कि 2011 की बात है जब उन्होंने अपने कोच के साथ पहली बार यह खेल खेला था. मैंने 2011 से इस खेल को खेलना शुरू कर दिया.  मेरे कोच हेमराज ने मुझे इस खेल में लाया.

हरीश ने कहा कि हम भी टायर के साथ खेला करते थे जब मेरे कोच हेमराज ने मुझे देखा और मुझे स्पोर्ट्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया (SAI) में ले गए. इसके बाद मुझे मासिक फंड और किट मिलना शुरू हुआ. मैं हर दिन अभ्यास करता हूं और अपने देश के लिए और अधिक पुरस्कार लाने के लिए इसे जारी रखूंगा.

Tags: asian games medalist harish kumar making tea

Post your comment
Name
Email
Comment
 

खेल

विविध