खास खबरें मोगली बाल उत्सव- 2018, एप्को में राज्य स्तरीय ट्रेनर एवं क्विज मास्टर प्रशिक्षण कार्यक्रम आज सीबीएसई ने दी बच्‍चों और अभिभावकों को 'मोमो चैलेंज' से दूर रहने की चेतावनी राफेड विवाद में पाक ने अड़ाई अपनी टांग, कहा- सरकार कर रही पीएम मोदी को बचाने की कोशिश एशिया कप : रोहित-धवन ने जमाया शतक, पाकिस्‍तान पर 9 विकेट से भारत की धमाकेदार जीत समाजवादी पार्टी की ‘सामाजिक न्याय व लोकतंत्र बचाओ’ यात्रा पहुँची जंतर-मंतर, पार्टी संस्थापक और यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव ने भरी हुंकार सनी देओल-साक्षी तंवर स्‍टॉरर 'मोहल्‍ला अस्‍सी' आखिरकार इस दिन होगी रिलीज मुंबई में पेट्रोल के दाम पहुँचे 90 रूपये के करीब राष्ट्रीय स्कॉलरशिप परीक्षाओं के आवेदन की अंतिम तिथि 25 सितम्बर बिहार के मुजफ्फरपुर में पूर्व मेयर समीर कुमार की कार में गोलियां से भून कर हत्‍या आज से शुरू होगा, पितृों का पूजन-तर्पण, पूर्णिमा का होगा पहला श्राद्ध

सीएचसी व सिविल अस्पतालों में भी मिलेगा आयुष्मान भारत योजना में इलाज

सीएचसी व सिविल अस्पतालों में भी मिलेगा आयुष्मान भारत योजना में इलाज

Post By : Dastak Admin on 11-Sep-2018 13:30:41

Ayushman Bharat Scheme,Civil Hospitals

भोपाल। आयुष्मान भारत योजना के तहत इलाज के लिए अब मरीजों को ज्यादा दूर नहीं जाना पड़ेगा। उन्हें सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र (सीएचसी) व सिविल अस्पतालों में भी इलाज मिल सकेगा। इन अस्पतालों से अनुबंध किया जा रहा है। जिला अस्पताल, सीएचसी व सिविल अस्पताल मिलाकर करीब 200 अस्पताल आयुष्मान भारत योजना के दायरे में आएंगे।
शुरू में जिला अस्पताल और मेडिकल कॉलेजों को ही योजना में शामिल करने के लिए अनुबंध किया जा रहा था। ऐसे में छोटी तकलीफ होने पर भी मरीजों को इलाज के लिए काफी दूर जाना पड़ता है। लिहाजा ऐसी व्यवस्था की जा रही है कि सीएचसी और सिविल अस्पताल में इलाज मिल सके।
भोपाल में कोलार, गांधी नगर व बैरसिया सीएचसी, बैरागढ़ सिविल अस्पताल को अनुबंधित किया गया है। काटजू अस्पताल तैयार होने के बाद इसे भी शामिल किया जाएगा। इस तरह भोपाल में मेडिकल कॉलेज समेत सात सरकारी अस्पताल योजना में शामिल हो जाएंगे।

बता दें कि इन अस्पतालों में मेडिसिन, सर्जरी, गायनी, शिशु रोग व एनेस्थीसिया के विशेषज्ञ व मेडिकल ऑफीसर होते हैं। 50 से 100 बिस्तर के अस्पतालों में पांच मेडिकल ऑफीसर व दांत के डॉक्टर भी रहते हैं। लिहाजा, ज्यादातर बीमारियों का इलाज यहां हो जाएगा।
मरीजों को ज्यादा दिक्कत होने पर उसे पास के जिला अस्पताल रेफर किया जाएगा। जो सुविधाएं अस्पतालों में नहीं है उसके रोगी कल्याण समितियां निजी संस्थानों से अनुबंध कर सकेंगी। योजना प्रदेश में 25 सितंबर से शुरू होने जा रही है। इसका जिला अस्पतालों व मेडिकल कॉलेजों में ट्रायल सफल रहा है। अब सीएचसी व सिविल अस्पताल में ट्रायल शुरू किया जाएगा।
योजना के तहत एम्स भोपाल में भी मरीजों को इलाज मिलेगा। एम्स के साथ अनुबंध राष्ट्रीय स्तर पर किया जा रहा है। योजना के तहत एम्स में इलाज की सुविधा होने से भोपाल ही नहीं प्रदेश भर के मरीजों को फायदा मिलेगा। यहां पर जांच व सर्जरी के लिए सभी जरूरी उपकरण के साथ 960 बिस्तर हैं।
योजना के तहत क्लेम सेटल करने समेत सभी तरह की मदद के लिए एक सपोर्ट एजेंसी का चयन कर लिया गया है।
कुछ सीएचसी व सिविल अस्पतालों को योजना में शामिल किया जा रहा है। अभी उन अस्पतालों को लिया गया है जहां जरूरी विशेषज्ञ, ओटी समेत सभी सुविधाएं हैं। 

Tags: Ayushman Bharat Scheme,Civil Hospitals

Post your comment
Name
Email
Comment
 

मध्य प्रदेश विशेष

विविध