खास खबरें मोगली बाल उत्सव- 2018, एप्को में राज्य स्तरीय ट्रेनर एवं क्विज मास्टर प्रशिक्षण कार्यक्रम आज सीबीएसई ने दी बच्‍चों और अभिभावकों को 'मोमो चैलेंज' से दूर रहने की चेतावनी राफेड विवाद में पाक ने अड़ाई अपनी टांग, कहा- सरकार कर रही पीएम मोदी को बचाने की कोशिश एशिया कप : रोहित-धवन ने जमाया शतक, पाकिस्‍तान पर 9 विकेट से भारत की धमाकेदार जीत समाजवादी पार्टी की ‘सामाजिक न्याय व लोकतंत्र बचाओ’ यात्रा पहुँची जंतर-मंतर, पार्टी संस्थापक और यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव ने भरी हुंकार सनी देओल-साक्षी तंवर स्‍टॉरर 'मोहल्‍ला अस्‍सी' आखिरकार इस दिन होगी रिलीज मुंबई में पेट्रोल के दाम पहुँचे 90 रूपये के करीब राष्ट्रीय स्कॉलरशिप परीक्षाओं के आवेदन की अंतिम तिथि 25 सितम्बर बिहार के मुजफ्फरपुर में पूर्व मेयर समीर कुमार की कार में गोलियां से भून कर हत्‍या आज से शुरू होगा, पितृों का पूजन-तर्पण, पूर्णिमा का होगा पहला श्राद्ध

भाजपा का एससी/एसटी एक्‍ट में संशोधन बना सवर्णों की नाराजगी की वजह, हो रहा विरोध

भाजपा का एससी/एसटी एक्‍ट में संशोधन बना सवर्णों की नाराजगी की वजह, हो रहा विरोध

Post By : Dastak Admin on 04-Sep-2018 10:45:44

general obc class protest against sc,st act

नई दिल्‍ली: एससी-एसटी एक्‍ट पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले को पलटने के लिए बीजेपी ने न केवल संशोधन विधेयक लाने का फैसला किया बल्कि उसे संसद में पास कराने में भी सफल रही. इसके अलावा बीजेपी ने एससी-एसटी वर्ग के सरकारी कर्मचारियों को प्रमोशन में आरक्षण देने के प्रस्‍ताव पर भी अपनी सकारात्‍मक रुख कोर्ट के समक्ष रखा है. बीजेपी के दोनों फैसले आगामी मध्‍य प्रदेश, राजस्‍थान और छत्‍तीसगढ़ विधानसभा चुनावों में उसके लिए मुसीबत खड़ी कर सकते हैं. दरअसल, केंद्र सरकार के इस फैसले से तीनों राज्‍यों का सवर्ण वर्ग बीजेपी से खासा नाराज है. 

मध्‍य प्रदेश में बीजेपी और कांग्रेस के नेताओं को दिखाए जा रहे हैं काले झंडे
सवर्ण वर्ग की नाराजगी का असर है कि बीते दिनों मध्‍य प्रदेश में बीजेपी और कांग्रेस के वरिष्‍ठ नेताओं को न केवल काले झंडे दिखाए गए बल्कि उनके खिलाफ विरोध प्रदर्शन भी किए गए. समय के साथ सवर्ण दलों का यह विरोध बीजेपी और कांग्रेस के प्रति बढ़ता जा रहा है. बीजेपी के विरोध को लेकर तमाम सवर्ण संगठनों का कहना है कि बीजेपी ने एक खास वर्ग का वोट हासिल करने के लिए यह कदम उठाया है. वहीं कांग्रेस पार्टी के सभी नेता बीजेपी के इस फैसले पर मूक बने रहे. लिहाजा, आगामी विधानसभा चुनावों में वे दोनों ही राजनीतिक दलों का विरोध करेंगे. 

20 सितंबर को ब्राह्मण महासभा लेगी समर्थन पर आखिरी निर्णय
अखिल भारतीय ब्राह्मण महासभा के अध्‍यक्ष राजेंद्र नाथ त्रिपाठी का कहना है कि इस मसले पर विभिन्‍न पार्टियों का रुख देखने के बाद महासभा आगामी विधानसभा में नोटा का इस्‍तेमाल करने की अपीले करेगा. नोटा को लेकर राजेंद्र नाथ त्रिपाठी का तर्क है कि यदि बीजेपी ने इस कानून को संसद में पेश किया है तो दूसरे दलों ने इस कानून का हर्ष ध्‍वनि से स्‍वागत किया है. उन्‍होंने बताया कि इसी मसले पर 20 सिंतबर को महासभा लखनऊ विधानसभा में बड़ा प्रदर्शन करने जा रही है. इसी प्रदर्शन के दौरान तीनों राज्‍यों में होने वाले विधानसभा चुनावों को लेकर महासभा की रणनीति को अंतिम रूप दिया जाएगा. 

जयपुर में क्षत्रिय महासभा ने की बीजेपी को वोट न देने की अपील
अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष अमर सिंह भदौरिया ने जी‍ डिजिटल से बातचीत में बताया कि केंद्र सरकार ने संशोधन विधेयक पास कराकर साफ कर दिया है कि बीजेपी में अब सवर्णों के लिए न ही कोई जगह बची है और न ही उन्‍हें सवर्णों के वोट की जरूरत है. केंद्र सरकार के इस रुख पर रविवार को जयपुर में महासभा के वरिष्‍ठ पदाधिकारियों ने बैठक की, जिसमें आगामी विधानसभा चुनावों में बीजेपी का विरोध करने का फैसला किया है. फैसले के तहत, महासभा ने छत्‍तीसगढ़, मध्‍य प्रदेश और राजस्‍थान में होने वाले विधानसभा चुनावों में बीजेपी को वोट न देने की अपील की है. बीजेपी के अलावा किसी अन्‍य दल को वोट देने के लिए क्षत्रिय समाज स्‍वतंत्र है.

Tags: general obc class protest against sc,st act

Post your comment
Name
Email
Comment
 

राजनीति

विविध