खास खबरें कलेक्टर ने 5 व्यक्तियों को जिला बदर किया पत्नी को शॉपिंग के लिए बताया एटीएम का पिन, क्या आप बता सकते हैं वो 4 नंबर प्‍ले स्‍टोर पर गेम की जगह लोगों ने डाउनलोड कर लिया वायरस INDvsAUS पहला टी20: ये 12 खिलाड़ी बने टीम का हिस्‍सा, BCCI ने घोषित किया नाम सुषमा स्‍वराज के चुनाव नहीं लड़ने की बात पर बोले चिदंबरम 'बीजेपी की हालत देख छोड़ रही मैदान' प्रियंका ने दोस्‍तों को भेजी शादी की मिठाई, सामने आया वेडिंग कॉर्ड मार्क जुकरबर्ग नहीं देंगे फेसबुक के चेयरमैन पद से इस्‍तीफा मंच से बोली हेमा मालिनी 'ये बसंती की इज्‍जत का सवाल है' ओडिशा : भैंस बचाने में पुल से नीचे गिरी यात्रियों से भरी बस, 12 की हुई मौत हरि-हर मिलन: श्रीहरी को राजपाठ सौंपकर महादेव करते हैं तपस्या के लिए प्रस्थान

मुख्यमंत्री ऋण समाधान योजना में देवास जिला प्रदेश में प्रथम

मुख्यमंत्री ऋण समाधान योजना में देवास जिला प्रदेश में प्रथम

Post By : Dastak Admin on 05-Sep-2018 22:46:29

मुख्यमंत्री ऋण समाधान योजना में देवास जिला प्रदेश में प्


अड़तालीस करोड़ कालातीत मूलधन जमा 
देवास | प्रदेश के व्यतिक्रमी (डिफाल्टर) किसानों को शून्य प्रतिशत ब्याज दर पर कृषि ऋण उपलब्ध कराने तथा पचास प्रतिशत मूलधन जमा कराने पर पूरा ब्याज माफ करने की महत्वकांक्षी योजना के क्रियान्वयन में देवास जिले ने विगत कई वर्षों से कालातीत 48.67 करोड़ रुपए मूलधन जो कुल कालातीत राशि का 54.92 प्रतिशत हैं, वसूल कर प्रथम स्थान प्राप्त किया। भोपाल जिला 53 प्रतिशत पूर्ति कर द्वितीय स्थान पर तथा बैतूल 46 प्रतिशत पूर्ति कर तृतीय स्थान पर रहा।
   जिला सहकारी बैंक प्रशासक एवं कलेक्टर देवास डॉ. श्रीकान्त पाण्डेय द्वारा जिले की 124 प्राथमिक कृषि साख संस्थाओं एवं 20 शाखाओं के शाखा प्रबंधको को साप्ताहिक लक्ष्य, समिति स्तर पर न्यूनतम 2 शिविर, व्यतिक्रमी किसानों को व्यक्तिगत नोटिस तामीली, 30 प्रतिशत से कम लक्ष्य पूर्ति वाले प्रषासको को नोटिस, 15 प्रतिशत से कम लक्ष्य पूर्ति वालों की सेवा समाप्ति जैसे कड़े निर्णय पाक्षिक समीक्षा बैठको में लिये गये। उपायुक्त सहकारिता डॉ. मनोज जायसवाल द्वारा सहकारी संस्थाओं के 17 प्रशासकों को कारण बताओ सूचना-पत्र जारी कर वसूली में सहयोग की अपेक्षा की गई।
   बैंक के मुख्य कार्यपालन अधिकारी डॉ. के.एन. त्रिपाठी ने बताया कि, ऐसे कृषक जो किसी प्राकृतिक आपदा, ओला, पाला, कीटव्याधि, बाढ़ इत्यादि के कारण नष्ट फसल का उत्पादन न मिलने के कारण, समिति से लिया फसल ऋण समय पर नहीं चुका पाते थे ’’डिफाल्टर’’ की श्रेणी में आकर शून्य प्रतियशत ब्याज पर ऋण लेने हेतु अपात्र हो गये थे, उनको पुनः ऋण उपलब्ध कराना बड़ी चुनौती थी।
   सहकारिता विभाग की “मुख्यमंत्री ऋण समाधान योजना’’ ऐसे किसानों के लिये वरदान साबित हुई, जो ऋण चुकाने में विश्वास रखते थे। देवास जिले के 34608 डिफाल्टर किसानों पर 88.98 करोड़ ब्याज बकाया था। मुख्यमंत्री ऋण समाधान योजना में 48.67 करोड़ मूलधन 17476 किसानों ने जमा किया, इन किसानों को तत्काल नया ऋण समितियों द्वारा स्वीकृत किया गया, ब्याज की राषि 31.16 लाख शासन द्वारा माफ की गई हैं।   
   डबलचौकी शाखा के अकबरपुर, नारियाखेड़ा में 85 एवं 81 प्रतिशत डिफाल्टर किसान मुख्य धारा में आकर नवीन ऋणों का लाभ ले रहे हैं। टोंकखुर्द के 50 डिफाल्टर किसानों में से 46 ने मूलधन चुका कर ब्याज माफी का फायदा प्राप्त किया। बेहरी में मात्र 16 प्रतिशत वसूली होने से समिति प्रबंधक को कलेक्टर डॉ. श्रीकान्त पाण्डेय के आदेश से सेवा से बर्खास्त कर दिया गया। प्रमुख सचिव सहकारिता एवं आयुक्त सहकारिता द्वारा निरन्तर विडियो कान्फ्रेंस कर डिफाल्टरों से मोबाईल पर सम्पर्क, योजना के लाभों को किसानों तक पहुंचाने के निर्देश दिये गये।

Tags: मुख्यमंत्री ऋण समाधान योजना में देवास जिला प्रदेश में प्

Post your comment
Name
Email
Comment
 

देवास

विविध