खास खबरें न्यायालयीन प्रकरणों में समय-सीमा में जवाब प्रस्तुत किया जाये डूडल कर रहा मतदान के लिए लोगों को प्रेरित अमेरिका में आज जारी होगी रूसी दखल की जांच से जुड़ी मुलर रिपोर्ट भारतीय टीम के चयन पर बोले रवि शास्‍त्री 'मैं 16 खिलाडियों की टीम चुनता', खिलाडियों को दी निराश न होने की सलाह जेल के दिन याद करके रोई साध्‍वी प्रज्ञा, बोली-पीटने वाले बदलते थे पर पिटने वाली मैं वही रहती थी दो साल तक स्‍क्रीन से इसलिए गायब रहे आदित्‍य रॉय कपूर सोने की कीमत में गिरावट का दौर जारी विज्ञापन ‘‘चौकीदार चोर है‘‘ पर लगी रोक वाराणसी में मोदी के खिलाफ उतर सकती है प्रियंका गांधी, राहुल बोले-सस्‍पेंस बुरा नहीं हनुमान जी के इन मंत्रों का पाठ करने से मिलती है शारीरिक पीड़ा से मुक्ति

राष्ट्रीय पोषण सप्ताह एवं प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना अन्तर्गत मीडिया कार्यशाला सम्पन्न

राष्ट्रीय पोषण सप्ताह एवं प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना अन्तर्गत मीडिया कार्यशाला सम्पन्न

Post By : Dastak Admin on 08-Sep-2018 17:28:54

राष्ट्रीय पोषण सप्ताह


पौष्टिकता की चर्चा के साथ पौष्टिक व्यंजनों का लुत्फ उठाया गया 
देवास | प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के 01 वर्ष पूर्ण होने के उपलक्ष्य में दिनांक 01 से 07 सितम्बर 2018 तक मातृ वंदन सप्ताह मनाया गया एवं 01 सितम्बर 2018 से राष्ट्रीय पोषण माह का आगाज हुआ। प्रधानमंत्री जी की महत्वकांक्षी योजनायें मातृ वंदना योजना एवं पोषण अभियान की सही जानकारी हर लाभार्थी तक पहुंचाने में मीडिया एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। इस हेतु दिनांक 07 सितम्बर 2018 को जिला पंचायत देवास के सभाकक्ष में कलेक्टर डॉ. श्रीकांत पांडेय एवं मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत राजीव रंजन मीणा की उपस्थिति में मीडिया कार्यशाला का आयोजन किया गया। 
    जिला कार्यक्रम अधिकारी महिला एवं बाल विकास श्रीमती सुनिता यादव द्वारा पावर पांईट प्रेजेन्टेशन के माध्यम से मीडियाकर्मियों को उक्त दोनो योजनाओं से अवगत कराया गया। प्रधान मंत्री मातृवंदना के अंतर्गत पहली बार गर्भ धारण करने वाली महिलाओं को प्राप्त होने वाले लाभों की मीडियाकर्मियों को विस्तृत जानकारी दी गई। 01 जनवरी 2018 जबसे यह योजना लागू हुई है तबसे अब तक जिले ने 65.2 प्रतिशत लक्ष्य हासिल कर प्रदेश में 12वॉ स्थान प्राप्त कर लिया है। 
    इसी लय में पोषण माह के उद्देश्य एवं गतिविधियों की भी चर्चा की गई। सही पोषण में समन्वित गतिविधियॉ महत्व रखती है अतः यह केवल महिला एवं बाल विकास की जिम्मेदारी न होकर सभी संबधित विभागों के मिले जुड़े प्रयासों का परिणाम है। पोषण अभियान को जन आंदोलन का रूप देने के लिये मीडिया कर्मियों से जन जन तक दोनों योजनाओं को पहुचॉने का अनुरोध किया गया साथ ही यह भी बताया कि  घरों में बनाई जाने वाली पोषण वाटिका में एक ही प्रकार के पौधे लगाने के बजाय विविध प्रकार के पौधे लगाये जावें, जिनसे पौष्टिक फल व सब्जियॉ आसानी से प्राप्त हो सकें। सुरजना से सुपोषण अभियान की सफलता के कारण आज देवास जिला पूरे प्रदेश में जाना जाता है। जिले को सोयाबीन, जो प्रोटीन से भरपूर है, उत्पादन करने वाले अग्रणी जिलो में गिना जाता है। महिला एवं बाल विकास विभाग ने जो बताया वही खाया और खिलाया के अनुक्रम में सोयाबीन से बने पकवान जैसे सोयाबीन का हलवा, टोफू से बने पकौड़े व अकुंरित मोटे अनाजो से बनी चाट परोसी गई। मीडिया कर्मियों के अनुरोध पर आंगनवाडी केन्द्रों में सोयाबीन से टोफू बनाये जाने की कार्यशाला शीघ्र आयोजित करने का आश्वासन दिया गया।

Tags: राष्ट्रीय पोषण सप्ताह

Post your comment
Name
Email
Comment
 

देवास

विविध