खास खबरें यूडीए की जमीन से अतिक्रमण हटाने पहुंची पुलिस, युवक ने काट ली हाथ की नस इन राज्‍यों में कम होंगे पेट्रोल-डीजल के दाम, वैट घटाने पर बनी सहमति यूएन में ट्रम्‍प ने की भारत की तारीफ 'लाखों लोगों को गरीबी से बाहर निकाला' एशिया कप : भारत-अफगानिस्‍तान के बीच हुआ टाई, धोनी ने तोड़ा ये रिकॉर्ड पीएम मोदी पर अक्रामक हुए राहुल गांधी बोले, पीएम मोदी है 'कमांडर इन थीफ' अजय देवगन ने किया कुछ ऐसा, पत्नि काजोल ने दे डाली 'घर न आने की धमकी' सेंसेक्स 110 अंक , निफ्टी 11100 के नीचे भोपाल-इन्दौर मेट्रो रेल परियोजना के लिये 405 पद के सृजन की मंजूरी लेह-लद्दाख : भारी बर्फबारी में फंसे 311 पर्यटकों को सुरक्षा निकाला गया, अब भी कई फंसे आज से शुरू होगा, पितृों का पूजन-तर्पण, पूर्णिमा का होगा पहला श्राद्ध

आजीविका मिशन की ताकत से महिलाओं के लिये प्रेरणा बनी किरणदीप कौर

आजीविका मिशन की ताकत से महिलाओं के लिये प्रेरणा बनी किरणदीप कौर

Post By : Dastak Admin on 24-Sep-2018 11:21:55

ajivika mission

 

मन में आगे बढ़ने की ललक और चुनौतियों से लड़ने का हौसला हो, तो व्यक्ति अपना मुकाम हासिल कर ही लेता है। ऐसी ही सच्ची कहानी है गुना जिले के बमौरी की किरणदीप कौर की, जो कभी पेट भरने के लिए दो वक्त की रोटी जुटा पाने में असमर्थ थीं। आज वह 5 बीघा से अधिक जमीन की मालकिन हैं। इनका दो कमरे का मकान है। घर में ट्रेक्टर और स्कूटी है। एक बेटी की शादी कर दी है और एक बच्चा अच्छे स्कूल में पढ़ रहा है। ट्रेक्टर से स्वयं अपने खेतों की जुताई करती हैं और गाँव के खेतिहर मजदूरों की मदद भी कर रही हैं। किरणदीप कौर ने अपनी तरक्की की कहानी खुद ही गढ़ी है और इसमें मददगार साबित हुआ है ग्रामीण आजीविका मिशन, जिसने घर के चूल्हा-चौका और गाँव से बाहर निकलकर आगे बढ़ने की राह दिखाई। 

किरणदीप कौर एक गरीब परिवार की महिला थीं, जो पूर्व में चूल्हे चौके तक ही सीमित थीं। पति की मृत्यु के बाद परिवार की जिम्मेदारी उन्हीं पर आ गई थी। किरणदीप की शादी कम उम्र में हो गई थी। उन्होंने पारिवारिक जिम्मेदारियों को पूरा करने के लिए कुछ पैसे उधार लिये और सिलाई मशीन खरीदी। इससे आय बढ़ने से उनका आत्म-विश्वास बढ़ा। फिर तो उन्होंने पीछे मुड़कर नहीं देखा। सिर्फ अपने समूह का गठन ही नहीं किया, बल्कि गाँव में 4 और समूहों का गठन भी करवाया।

किरणदीप कौर आजीविका मिशन के सहयोग से प्रगति के पथ पर बढ़ती रहीं। समूह के माध्यम से छोटी-छोटी बचत करने लगीं। उन्हें समाज और बाजार के बारे में भी जानकारी होने लगी। अब वह परिवार की जिम्मेदारी निभाने के साथ-साथ समाज में अपनी सक्रिय भागीदारी द्वारा लोगों में जागरूकता भी पैदा कर रही हैं। अपने खेत में अच्छी किस्म की धान की फसल लेती हैं और घर का पूरा काम भी स्वयं ही करती हैं। किरणदीप कौर अब आजीविका मिशन द्वारा बनाये गए ग्राम संगठन की अध्यक्ष हैं और ग्राम संगठन को बहुत बढ़िया तरीके से चला रही हैं।


सक्सेस स्टोरी (गुना)


मुकेश मोदी/अशोक द्विवेदी

Tags: ajivika mission

Post your comment
Name
Email
Comment
 

कृषि

विविध