खास खबरें दक्षिण ग्रामीण कार्यालय के शुभारंभ पर भाजपा कार्यकर्ताओं ने ग्रहण की कांग्रेस की सदस्यता विदेशी फंडिंग से घाटी में तैयार हो रहे है आतंकी - सेना प्रमुख यमन में छिड़ा गृहयुद्ध, 24 घण्‍टे में 150 लोगों की हुई मौत बॉक्सिंग के खिलाडि़यों को दिल्‍ली की हवा में हो रही सांस लेने में दिक्‍कत तेलंगाना में कांग्रेस की पहली सूची जारी, 65 प्रत्‍याशियों के नाम शामिल सुपरहीरो हल्‍क, स्‍पाइडरमैन का किरदार बनाने वाले स्‍टेली का निधन निफ्टी 10460 के पास, सेंसेक्स 95 अंक कमजोर आचार संहिता के 35 दिनों में अब-तक लगभग 50 करोड़ की सामग्री और नगदी जब्त : मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार का आज बेंगलुरू में राजकीय सम्‍मान के साथ अंतिम संस्‍कार आज मिलेगा श्री गणेश से सौभाग्‍य का वरदान, लाभ पंचमी पर ऐसे करें विघ्‍नहर्ता की पूजा

सोयाबीन फसल में कीट एवं रोगों की रोकथाम के लिये किसानों को उपयोगी सलाह

सोयाबीन फसल में कीट एवं रोगों की रोकथाम के लिये किसानों को उपयोगी सलाह

Post By : Dastak Admin on 08-Sep-2018 11:04:47

soyabeen farming

 

    उज्जैन । मौसम में आर्द्रता के कारण फसलों में विभिन्न प्रकार की फफूंदजनित बीमारियां एवं सोयाबीन की फसलों में कीटों के प्रकोप होने की संभावना को देखते हुए समुचित एवं समय पर नियंत्रण करने के लिये भारतीय सोयाबीन अनुसंधान संस्थान इन्दौर के द्वारा किसानों को उपयोगी सलाह दी गई है।

    किसान कल्याण तथा कृषि विकास विभाग के उप संचालक ने बताया कि किसान सोयाबीन की फसल में एंथ्रेकनोज एवं पॉडब्लाईट के नियंत्रण के लिये थायोफिनाईट मिथाईल 1 किग्रा प्रति हेक्टेयर अथवा टेबूकोनाझोल 625 एमएल प्रति हेक्टेयर या टेबूकोनाझोल+सल्फर 1 लीटर प्रति हेक्टेयर या हेक्झाकोनाझोल 500 एमएल प्रति हेक्टेयर अथवा पायरोक्लोस्ट्रोबिन 500 ग्राम प्रति हेक्टेयर को 500 लीटर पानी में मिलाकर छिड़काव करें। सोयाबीन की फसल पर लाल मकड़ी के नियंत्रण के लिये ईथियान 1.5 लीटर प्रति हेक्टेयर की दर से 500 लीटर पानी के साथ छिड़काव करें। सोयाबीन की फसल पर चने की इल्ली, सेमीलूपर तंबाकू की इल्ली एवं सफेद मक्खी के नियंत्रण के लिये पूर्वमिश्रित कीटनाशक थायोमिथाक्सम+लेम्बड़ा सायहेलोथ्रिन 125 एमएल प्रति हेक्टेयर अथवा बीटासायफ्लुथ्रिन+इमिडाक्लोप्रिड 330 एमएल प्रति हेक्टेयर या इंडोक्साकार्ब 330 एमएल प्रति हेक्टेयर की दर से 500 लीटर पानी के साथ छिड़काव करें। जिन किसानों की सोयाबीन की फसल में केवल पत्ती खाने वाली इल्लियों का प्रकोप है, वे वहां पर इंडोक्साकार्ब 330 एमएल प्रति हेक्टेयर अथवा क्यूनालफॉस 1.5 लीटर प्रति हेक्टेयर अथवा फ्लूबेंडियामाईड 150 एमएल प्रति हेक्टेयर अथवा स्पाईनेटोरम 450 एमएल प्रति हेक्टेयर में 500 लीटर पानी के साथ छिड़काव करें।

    कृषि वैज्ञानिकों ने किसानों को सलाह दी है कि जिन किसानों की सोयाबीन की फसलों पर गर्डल बिटल का प्रकोप शुरू हो गया हो, वहां पर थाइक्लोप्रिड 21.7 एससी 650 एमएल प्रति हेक्टेयर अथवा ट्राइजोफॉस 40 ईसी 800 एमएल प्रति हेक्टेयर की दर से छिड़काव करें। फसल की सतत निगरानी करते हुए किसान तंबाकू की इल्ली अथवा बिहार की रोएंदार इल्ली के समूह द्वारा ग्रसित पत्तियों या पौधों को पहचान कर नष्ट करें। पीला मोजाइक बीमारी को फैलाने वाली सफेद मक्खी के प्रबंधन के लिये खेत में यलो स्टिकी ट्रेप का प्रयोग करें, जिससे मक्खी के वयस्क नष्ट किये जा सकें। पीला मोजाइक रोग से ग्रसित पौधों को किसान अपने खेत से निकालकर नष्ट कर दें। इससे रोग को फैलने से रोकने में सहायता होगी। जिन क्षेत्रों में अधिक वर्षा हो रही है, वहां पर सोयाबीन के खेत में जलभराव न होने दें।

 

Tags: soyabeen farming

Post your comment
Name
Email
Comment
 

कृषि

विविध