खास खबरें शुरू हुई गरबों की तैयारी, नवरंग डांडिया की युवतियों का प्रशिक्षण प्रारंभ पीएम और गृह मंत्री ले पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री की मृत्यु के दस्‍तावेजों पर फैसला - केंद्रीय सूचना आयोग यूएन में ट्रम्‍प ने की भारत की तारीफ 'लाखों लोगों को गरीबी से बाहर निकाला' विराट कोहली-चानू को मिला खेल रत्‍न, राष्‍ट्रपति कोविंद के हाथों मिला सम्‍मान पीएम मोदी पर अक्रामक हुए राहुल गांधी बोले, पीएम मोदी है 'कमांडर इन थीफ' ' यहां पैसा भगवान नहीं लेकिन भगवान से कम भी नहीं।' सैफ अली खान की 'बाजार' का ट्रेलर रिलीज सेंसेक्स 110 अंक , निफ्टी 11100 के नीचे भोपाल-इन्दौर मेट्रो रेल परियोजना के लिये 405 पद के सृजन की मंजूरी पश्चिम बंगाल में बंद के दौरान हुई हिंसा, बसों में तोड़फोड़, टैने रोकी आज से शुरू होगा, पितृों का पूजन-तर्पण, पूर्णिमा का होगा पहला श्राद्ध

सोलर पंप से बची बिजली, कम हुई खेती की लागत

सोलर पंप से बची बिजली, कम हुई खेती की लागत

Post By : Dastak Admin on 10-Sep-2018 10:40:52

solar pump for farming


 
प्रदेश में खेती को लाभ का धंधा बनाने के लिए राज्य सरकार विभिन्न योजनाओं में किसानों को मदद कर रही है। किसानों को कृषि की आधुनिक तकनीक की जानकारी भी दी जा रही हैं। किसानों ने योजनाओं का लाभ लेकर खेती की आमदनी को दोगुना करने का रास्ता अपना लिया है।

रायसेन जिले के ग्राम सदालतपुर के किसान तैयब खान उन प्रगतिशील किसानों में शामिल हैं, जिन्होंने मुख्यमंत्री सोलर पंप योजना का लाभ लेकर अपने खेत में 5 एचपी सोलर सब-मर्सिबल पंप लगवाया है। इसके लिए उन्हें मात्र 72 हजार रूपये ही देने पड़े। वे अपने 22 एकड़ के खेत में सौर ऊर्जा से बिजली बनाकर सोलर मोटर पंप से सिंचाई कर रहे हैं। 

तैयब खान ने अपने खेत में आम का बगान लगाया है, जिसमें सोलर पंप से सिंचाई करते हैं। सोलर पंप लगाने के लिए उन्हें कुल कीमत का 85 प्रतिशत भाग सब्सिडी के रूप में मिला है। सोलर पंप से सिंचाई सस्ती हुई है और इससे उनकी खेती की लागत में भी काफी कमी आई है।

 विदिशा किसान कल्याण विभाग की मदद से ग्राम नागौर के किसान मुकेश रघुवंशी ने रासायनिक खेती की जगह जैविक खेती को अपनाया है। उन्होंने अपने खेत में पाँच नाडेप पिट्स भी बनवाये हैं, जिसमें गोबर, मिट्टी, भूसा का भण्डारण करते हैं ताकि जरूरत पड़ने पर अपने खेत में जैविक खाद का उपयोग सुगमता कर सकें।

कृषक मुकेश ने परम्परागत फसलों के साथ-साथ सब्जी उत्पादन की ओर भी कदम बढ़ाये हैं। इसके लिए उन्हें उद्यानिकी विभाग की मदद से प्रशिक्षण दिलवाया गया। किसान मुकेश की गिनती क्षेत्र में प्रकृतिशील किसान के रूप में होती है। वे अपने क्षेत्र के अन्य किसानों को भी सोलर सिंचाई पंप लगाने का मशवरा देते हैं।


सक्सेस स्टोरी ( रायसेन, विदिशा )

Tags: solar pump for farming

Post your comment
Name
Email
Comment
 

कृषि

विविध