खास खबरें प्रधानमंत्री आवास योजना ने गरीब परिवारों को बनाया पक्के घरों का मालिक इस क्षेत्र में मिलेंगी सबसे ज्यादा नौकरियां, प्रोफेशनल्स की बढ़ रही डिमांड अमेरिकी ने लगाए चीन पर प्रतिबंध, बौखलाहट में उठाया यह कदम 'गोल्‍डन ग्‍लोब' रेस में हिस्‍सा ले रहे भारतीय नौसेना के अभिषेक भीषण तूफान में फंसे, बचाव दल रवाना पाकिस्‍तान के पूर्व गृह मंत्री रहमान मलिक ने राहुल गांधी को पीएम बनाने की तरफदारी सनी लियोन को मिला था 'गेम ऑफ थ्रोन्‍स' में काम करने का मौका, इसलिए कर दिया मना... सेंसेक्स 110 अंक , निफ्टी 11100 के नीचे मिंटो हॉल अन्तर्राष्ट्रीय कन्वेंशन सेंटर के रूप में तैयार पति-पत्नि के बीच हुआ झगड़ा, पति ने की किस करने की कोशिश, पत्‍नी ने काट दी जीभ आज से शुरू होगा, पितृों का पूजन-तर्पण, पूर्णिमा का होगा पहला श्राद्ध

दो दिवसीय राज्य स्तरीय उद्यानिकी संगोष्ठी का शुभारंभ

दो दिवसीय राज्य स्तरीय उद्यानिकी संगोष्ठी का शुभारंभ

Post By : Dastak Admin on 10-Sep-2018 21:31:09

राज्य स्तरीय उद्यानिकी संगोष्ठी


 
धार | राष्ट्रीय बागवानी अनुसंधान एवं विकास प्रतिष्ठान, इंदौर एव कृषि विज्ञान केन्द्र, धार की संयुक्त तत्वाधान में आयोजित "मध्यप्रदेश में किसानों की आय दुगुनी करने के लिए सामरिक प्रबंधन द्वारा प्याज, लहसुन एवं आलू का उत्पादन एवं कटाई उपरान्त तकनीकी" विषय पर दो दिवसीय राज्य स्तरीय उद्यानिकी संगोष्ठी का शुभारंभ कलेक्टर श्री दीपक सिंह द्वारा यहॉं मिलन में किया गया। श्री सिंह ने शुभारंभ अवसर पर अपने उद्बोधन में कृषकों को मधुमक्खी पालन, अंर्तवर्तीय फसलें साथ-साथ प्याज एवं लहसुन की प्रसंस्करण इकाई स्थापित करने पर जोर दिया। जिससे अधिक उत्पादन की स्थिति में कृषक अधिक से अधिक लाभ कमा सकें। साथ ही कृषक कृषि उद्यमी योजना के अंतर्गत प्याज एवं लहसुन की प्रसंस्करण इकाई की 10 लाख से 2 करोड़ के बीच इकाई स्थापित कर योजना का लाभ ले सकते है।
    निदेशक विस्तार सेवाएं, राजमाता विजयाराजे सिंधिया कृषि विश्वविद्यालय, ग्वालियर डॉ. आर.एन.एस. बनाफर ने पोषण वाटिका, संतुलित पोषण आहार, वर्मी कम्पोस्ट का उपयोग, सिंचाई प्रबंधन पर जोर देते हुए कहा कि इन बिन्दुओ पर कार्य करने से जिले के छोटे तथा मध्यम वर्गीय किसानों की आय में वृद्धि की जा सकती है। साथ ही उन्होने फूलों की खेती, मूल्य संवर्धन और सहकारिता समुह के साथ मिलकर विपणन की नई तकनीकों पर भी जोर दिया। 
    अधिष्ठाता, कृषि महाविद्यालय, इन्दौर डॉ. यु.आर. खाण्डकर द्वारा मृदा स्वास्थय कार्ड बनाने के लिए कृषको को जोर दिया। उन्होने कहा कि फसल उत्पादन में होने वाले व्यय को कम किया जा सकें। साथ ही उन्होने संतुलित पोषक तत्व प्रबंधन पर भी अधिक जोर दिया। तकनीकी सत्र में सहायक निदेषक एन.एच.आर.डी.एफ., इंदौर श्री ए.के. पाण्डे ने प्याज एवं लहसुन की कटाई उपरान्त प्रबंधन, वैज्ञानिक कृषि विज्ञान केन्द्र इंदौर डॉ. डी.के. मिश्रा ने आलु उत्पादन की उन्नत करने पर जोर दिया। 
    तकनीक एवं डॉ. मुरली अययर, जैन इरीगेशन द्वारा याज एवं लहसुन का प्रोटेक्टेड कल्टीवेशन एवं माइक्रो इरीगेशन, श्री ए.के. उपाध्याय तकनीकी अधिकारी द्वारा प्याज बीज उत्पादन तथा श्री वी.के. सिंह द्वारा लहसुन बीज उत्पादन के बारे में विस्तार से बताया। कार्यक्रम का संचालन श्री वी.के. सिंह द्वारा किया गया तथा आभार श्री ए.के. उपाध्याय ने माना। इस अवसर पर उपसंचालक कृषि श्री आर.एल. जामरे, उपसंचालक उद्यानिकी श्री के. एस. मण्डलोई सहित अन्य अधिकारी, पदाधिकारी व बड़ी कृषकगण उपस्थित थे। 

Tags: राज्य स्तरीय उद्यानिकी संगोष्ठी

Post your comment
Name
Email
Comment
 

धार

विविध