खास खबरें मोगली बाल उत्सव- 2018, एप्को में राज्य स्तरीय ट्रेनर एवं क्विज मास्टर प्रशिक्षण कार्यक्रम आज रेवाड़ी गैंगरेप काण्‍ड के दो अन्‍य आरोपी SIT की गिरफ्त में राफेड विवाद में पाक ने अड़ाई अपनी टांग, कहा- सरकार कर रही पीएम मोदी को बचाने की कोशिश खेल मंत्रालय ने दी सफाई, विराट कोहली को क्‍यों चुना गया 'खेल रत्‍न' के लिए समाजवादी पार्टी की ‘सामाजिक न्याय व लोकतंत्र बचाओ’ यात्रा पहुँची जंतर-मंतर, पार्टी संस्थापक और यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव ने भरी हुंकार सनी देओल-साक्षी तंवर स्‍टॉरर 'मोहल्‍ला अस्‍सी' आखिरकार इस दिन होगी रिलीज मुंबई में पेट्रोल के दाम पहुँचे 90 रूपये के करीब राष्ट्रीय स्कॉलरशिप परीक्षाओं के आवेदन की अंतिम तिथि 25 सितम्बर आंध्रप्रदेश : नक्‍सलियों ने की टीडीपी के विधायक और पूर्व विधायक की हत्‍या क्‍यों मनाई जाती है अनंत चतुदर्शी, क्‍या है अंनतसूत्र का महत्‍व

जिलों की स्वच्छता की स्थिति का आंकलन करने स्वच्छ सर्वेक्षण ग्रामीण 2018

जिलों की स्वच्छता की स्थिति का आंकलन करने स्वच्छ सर्वेक्षण ग्रामीण 2018

Post By : Dastak Admin on 01-Aug-2018 22:11:33

स्वच्छ सर्वेक्षण ग्रामीण 2018


सर्वश्रेष्ठ जिले को 02 अक्टूबर 2018 को देश के प्रधानमंत्री द्वारा, पुरूस्कृत किया जायेगा-कलेक्टर डॉ. जे.विजय कुमार 
दमोह | कलेक्टर एवं अध्यक्ष जिला जल एवं स्वच्छता मिशन डॉ. जे.विजय कुमार ने कहा है देश के प्रदेशों एवं जिलों की स्वच्छता की स्थिति का आंकलन करने हेतु पेयजल एवं स्वच्छता मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा स्वच्छ सर्वेक्षण ग्रामीण 2018 आयोजित किया जा रहा हैं। यह सर्वेक्षण भारत सरकार द्वारा नियत स्वतंत्र एजेन्सी द्वारा 01 से 31 अगस्त के मध्य प्रत्येक जिले के रेण्डमली (Randomly) चयनित 10 ग्रामों में किया जाएगा। जिले की स्वच्छता रैंकिंग सर्वेक्षण के माध्यम से की जाकर सर्वश्रेष्ठ जिले को 02 अक्टूबर 2018 को देश के प्रधानमंत्री द्वारा पुरूस्कृत किया जायेगा। इस हेतु सरकार ने मानक निर्धारित किये हैं।
स्वच्छता रैंकिंग हेतु तीन मानक निर्धारित
   इस संबंध में सीईओ जिला पंचायत डी.एस. रणदा ने बताया स्वच्छता रैंकिंग हेतु सरकार ने तीन मानक निर्धारित किये हैं, सर्विस लेवल प्रोग्रेस (Service Level Progress) के तहत भारत सरकार की डप्ै में दर्ज जिले की स्थिति इसका आधार होगी। इस मानक को 35 प्रतिशत वेटेज दिया जाएगा इसके अन्तर्गत स्वच्छता कवरेज, ओडीएफ स्टेटस सत्यापन, डिसफंक्षनल शौचालयों की स्थिति एवं जियो टेंगिंग के प्रतिशत के आधार पर अंक दिये जायेंगे।
   जनता से फीडबैक (Citizen Feedback) के तहत इस मानक को भी 35 प्रतिशत वेटेज दिया जाएगा। इसके अन्तर्गत चयनित ग्रामों में आमजन से चर्चा कर अभिमत लिया जाना, ग्राम के मुख्य कार्यकारी (Key Influencers) जैसे सरपंच, सचिव, शिक्षक, आंगनवाड़ी कार्यकर्ता आदि का अभिमत लिया जाना एवं चयनित गांव को छोड़कर अन्य गांवों की जनता से ऑनलाईन फीडबैक लिया जाना शामिल हैं।
   प्रत्यक्ष अवलोकन (Direct Observation) के तहत इस मानक को 30 प्रतिशत वेटेज दिया जाएगा। इसके अन्तर्गत सर्वेक्षण हेतु चयनित ग्राम में स्वच्छता सुविधाओं की उपलब्धता, स्वच्छता सुविधाओं के उपयोग की स्थिति, कचरे के निपटान की स्थिति, अपशिष्ट जल के निपटान की स्थिति प्रमुख घटक हैं। प्रत्यक्ष अवलोकन प्रमुखतः 05 सार्वजनिक स्थलों, स्कूल, आंगनवाड़ी, स्वास्थ्य केन्द्र, हाट बाजार एवं धार्मिक स्थल का किया जाएगा।
   उन्होंने कहा है राज्य स्तर से (IEC) गतिविधयां संचालित करने के निर्देश दिये गये हैं। जिनमें विभिन्न स्तर पर किये जाने वाली गतिविधियां निर्धारित की गई है।
जनपद स्तर पर की जाने वाली गतिविधियां
   ग्राम पंचायतों के समस्त अमले, स्थानीय धर्मगुरूओं, स्कूलों के प्रधानाध्यापकों, आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं, आशा कार्यकर्ता, स्वच्छाग्राही, स्व-सहायता समूह आदि को सर्वेक्षण के संबंध में जागरूक एवं उन्मुखीकृत करना।
   स्थानीय प्रतिष्ठित व्यक्तियों एवं धर्मगुरूओं को अभियान में नेतृत्व हेतु प्रोत्साहित करना। स्वच्छता रथ का संचालन। स्वच्छता ग्राहियों के माध्यम से वैयक्तिक संपर्क एवं संवाद (IPC) के द्वारा घर-घर तक जानकारी प्रसारित करना। सोशल मीडिया जैसे व्हाटसएप, फेसबुक आदि के माध्यम से अभियान को लोकप्रिय बनाना। शासन द्वारा प्रदत्त प्रिंटेड मटेरियल जैसे पोस्टर, किताबे आदि का वितरण एवं उपयुक्त स्थलों पर प्रदर्षन सुनिश्चित करना तथा निर्दिष्ट स्थलों पर प्रचार सामग्री का दीवार लेखन कराना।
ग्राम पंचायत स्तर पर की जाने वाली गतिविधियां
   कार्यक्रम के तहत समस्त वार्ड मेम्बर के साथ बैठकर जागरूकता सुनिश्चित करना। सर्वेक्षण हेतु नियत स्कूल, आंगनवाड़ी, स्वास्थ्य केन्द्र, हाट बाजार एवं धार्मिक स्थलों के प्रमुखों के साथ नियमित बैठक कर उक्त स्थलों पर नियमित साफ-सफाई एवं कचरे तथा अपशिष्ट जल का समुचित निपटान सुनिश्चित करना। स्कूलों, आंगनवाड़ी के बच्चों तथा स्व-सहायता समूह की महिलाओं को विशेष जागरूक कर प्रचार-प्रसार में उनकी प्रमुख भुमिका सुनिश्चित करना।
   मोहल्ला सभाओं एवं घर-घर संपर्क (IPC) के माध्यम से आमजन को जागरूक करना एवं सर्वेक्षणकर्ता एजेन्सी द्वारा पूछे जाने वाले प्रश्नों एवं समूची प्रक्रिया की जानकारी प्रदान करना। सोशल मीडिया जैसे व्हाट्सएप, फेसबुक आदि के माध्यम से अभियान को लोकप्रिय बनाना तथा शासन द्वारा प्रदत्त प्रिटंड मटेरियल जैसे पोस्टर, किताबे, आदि का वितरण एवं उपयुक्त स्थलों पर प्रदर्षन सुनिश्चित करना।
निर्दिष्ट स्थलों का प्रचार सामग्री का दीवार लेखन कराना
   कलेक्टर एवं अध्यक्ष जिला जल एवं स्वच्छता मिशन डॉ. जे.विजय कुमार ने निर्देशित किया हैं कि जिला शिक्षाधिकारी एवं परियोजना समन्वयक सर्वशिक्षा अभियान सभी स्कूलों एवं आंगनवाड़ी शौचालयों को साफ-सुथरा एवं उपयोग करने लायक बनाए, उनमें पानी की उचित व्यवस्था करें। मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद समस्त सभी पंचायतों के सार्वजनिक स्थलों एवं धार्मिक स्थलों को साफ-सुथरा बनाए, जिला कार्यक्रम अधिकारी महिला एवं बाल विकास आंगनवाड़ी केन्द्रों की सफाई पर विशेष ध्यान दें तथा मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों की नियमित साफ-सफाई सुनिश्चित करें। जन अभियान परिषद इस पूरे अभियान की मॉनीटरिंग तथा प्रतिदिवस रिर्पोटिंग करेंगे तथा मार्गदर्षिका अनुसार अन्य विभाग भी आवश्यक कार्यवाही सुनिश्चित करेंगें।

Tags: स्वच्छ सर्वेक्षण ग्रामीण 2018

Post your comment
Name
Email
Comment
 

दमोह

विविध