खास खबरें वाट्सएप पर पोस्ट करने पर पटवारी की शिकायत, कलेक्टर ने उज्जैन किया अटैच पंडित नेहरू की जयंती पर सोनिया गांधी और मनमोहन समेत कई नेताओं ने दी श्रद्धांजलि अमेरिका : कैलिफोर्निया में लगी भीषण आग में अब तक हुई 44 की मौत, कई सेलिब्रिटीज के घर भी जले विराट कोहली खो बैठे थे अपना संयम - विश्‍वनाथन आनंद राहुल गांधी की मौजूदगी में टिकट बंटवारे को लेकर पायलट और डूडी में कहासुनी दीपिका के परिवार ने नारियल दे किया रणवीर का स्‍वागत, कोंकणी रिवाज से हुई सगाई आज से दिल्‍ली में शुरू होगा ट्रेड फेयर, 18 से मिलेगी आम लोगों को एंट्री पीएम मोदी-राहुल गांधी 16 नवम्‍बर को मध्‍यप्रदेश के एक ही जिले करेगें रैलियां केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार का आज बेंगलुरू में राजकीय सम्‍मान के साथ अंतिम संस्‍कार छठ पूजा : संतान प्राप्ति और उनकी मंगल कामना के लिए करते है सूर्य की उपासना

साक्षरता दर बढ़ाने एवं शाला से बाहर बच्चों को शिक्षा की मुख्यधारा से जोड़ने हेतु जिला स्तरीय उन्मुखीकरण कार्यशाला आयोजित

साक्षरता दर बढ़ाने एवं शाला से बाहर बच्चों को शिक्षा की मुख्यधारा से जोड़ने हेतु जिला स्तरीय उन्मुखीकरण कार्यशाला आयोजित

Post By : Dastak Admin on 22-Aug-2018 17:48:21

navachar, shiksha

पन्ना | प्रदेश में नवाचार के रूप में साक्षरता दर बढाने एवं शाला से बाहर के बच्चों को शिक्षा की मुख्यधारा से जोडने के लिए राज्य साक्षरता मिशन, जनअभियान परिषद एवं राष्ट्रीय सेवा योजना (उच्च शिक्षा विभाग) के मध्य प्रशासकीय अनुमोदन के उपरांत त्रिपक्षीय समझौता किया गया है। जिसके संबंध में जिला स्तरीय उन्मुखीकरण कार्यशाला का आयोजन कलेक्टर श्री मनोज खत्री की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभागार में किया गया। 
   कार्यशाला में साक्षर भारत योजना एवं त्रिपक्षीय अनुबंध के बारे में विस्तारपूर्वक जानकारी देते हुए जिला परियोजना समन्वयक श्री विष्णु त्रिपाठी ने बताया कि साक्षर भारत योजना का शुभारंभ अन्तर्राष्ट्रीय साक्षरता दिवस 8 सितंबर 2009 के अवसर पर किया गया था। जिसके तहत 15 वर्ष से अधिक आयु समूह के व्यक्तियों को कार्यात्मक साक्षरता प्रदान की जा रही थी। प्रदेश में मार्च 2018 तक की नव साक्षर परीक्षा में 2001 की जनगणना के अनुसार आयोजित परीक्षा के माध्यम से निर्धारित लक्ष्य को पूरा किया जा चुका है। इसी क्रम में प्रदेश में साक्षरता बढाने एवं शाला से बाहर के बच्चों को शिक्षा की मुख्यधारा से जोडने के लिए राज्य शिक्षा केन्द्र, राष्ट्रीय सेवा योजना उच्च शिक्षा विभाग एवं जनअभियान परिषद के मध्य कार्य समझौता किया गया है। 
    उन्होंने बताया कि इस त्रिपक्षीय समझौते के उद्देश्यों के अनुरूप वर्ष 2022 तक 90 प्रतिशत साक्षरता की दर प्राप्त करना, साक्षरता में लैंगिक अनुपात 10 प्रतिशत तक घटाना, क्षेत्रीय सामाजिक एवं लैंगिक असामनता को घटाना, शाला से बाहर 6 से 14 आयु वर्ग के सभी बच्चों को उनकी आयु के अनुरूप कक्षा में दर्ज कराकर शिक्षा की मुख्यधारा से जोडना तथा कौशल विकास कार्यक्रम एवं भारत सरकार और प्रदेश की योजनाओं की जानकारी देकर उन्हें कार्य रूप में लाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। उन्होंने बताया कि 6 से 14 आयु वर्ग के शाला से बाहर बच्चे मुख्य रूप से 2 प्रकार के होते हैं, पहला अप्रवेशी जो कभी शाला नही गए और दूसरा शाला त्यागी जो कक्षा 1 से 8 के बीच में शाला त्यागी हो गए हैं। ऐसे बच्चों को निःशुल्क एवं अनिवार्य बाल शिक्षा का अधिकार अधिनियम के अन्तर्गत आयु के अनुरूप कक्षा में दर्ज करवाकर उन्हें गैर आवासीय अथवा आवासीय विशेष प्रशिक्षण दिया जाना है। इन उद्देश्यों की पूर्ति एवं लक्ष्य प्राप्ति के लिए शासन द्वारा गतिविधियां निर्धारित की गयी हैं, जिनका जिले में क्रियान्वयन किया जाना है। यह गतिविधियां राज्य स्तर से लेकर ग्राम स्तर तक आयोजित की जाएंगी। जिनमें जिले के नोडल अधिकारी, विभिन्न विभागों के अधिकारी, जिला प्रौढ शिक्षा अधिकारी, जनअभियान परिषद के स्वयं सेवकों एवं एनएसएस के स्वयं सेवकों की भूमिका महत्वपूर्ण होगी।  
    उन्होंने बताया कि इन गतिविधियों के अन्तर्गत ग्रामीण क्षेत्रों में सर्वे कार्य के साथ दीवार लेखन, चित्रकला, गीत, मांडना/ रंगोली आदि प्रतियोगिताएं, साइकिल/मशाल/बेनर रैली, ग्राम सभा, साक्षरता चौपाल, नुक्कड नाटक, इत्यादि आयोजित किए जाएंगे। कलेक्टर श्री मनोज खत्री ने इस संबंध में सभी अनुविभागीय अधिकारी राजस्व, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत, तहसीलदार, जनअभियान परिषद के अधिकारियों को संयुक्त रूप से अपने क्षेत्र के स्वयं सेवकों एवं एनएसएस के विद्यार्थियों के साथ बैठक आयोजित कर साक्षरता दर बढाने एवं त्रिपक्षीय समझौते के उद्देश्यों की पूर्ति के लिए कार्ययोजना तैयार कर क्रियान्वयन करने के निर्देश दिए। इस दौरान कार्यशाला में मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत डॉ. गिरीश कुमार मिश्रा, एसडीएम पन्ना श्री बी.बी. पाण्डेय, मुख्य नगरपालिका अधिकारी श्री अरूण पटैरिया, जिला शिक्षा अधिकारी सहित संबंधित सभी अधिकारीगण मौजूद रहे।

Tags: navachar, shiksha

Post your comment
Name
Email
Comment
 

पन्ना

विविध