खास खबरें माहौल बिगाड़ने वालों के विरूद्ध होगी रासुका की कार्रवाई तीन तलाक अध्यादेश को मोदी कैबिनेट ने दी मंजूरी, कानून मंत्री ने की पुष्टि ईलाज के बहाने पत्नि को भेजा भारत, फिर वाट्सएप पर दे दिया तलाक एशिया कप में आज भारत-पाक का होगा आमना-सामना नीतीश-मोदी के खिलाफ राहुल-तेजस्‍वी करेंगे 'MY+BB' फॉर्मूले पर काम मैडम तुसाद में नजर आएंगी सनी लियोन निफ्टी 11300 के ऊपर, सेंसेक्स 100 अंक मजबूत पत्रकारों के लिये स्वास्थ्य एवं दुर्घटना समूह बीमा की राशि बढ़कर 4 लाख हुई दिल्‍ली : 7 साल की मासूम के साथ हुई हैवानियत, आरोपी ने प्राइवेट पार्ट में डाला प्‍लास्टिक का पाइप क्‍यों मनाई जाती है तेजा दशमी, कौन थे तेजाजी महाराज ?

एक व्यक्ति के नेत्रदान से दो नेत्रहीनों के जीवन में आएगा प्रकाश

एक व्यक्ति के नेत्रदान से दो नेत्रहीनों के जीवन में आएगा प्रकाश

Post By : Dastak Admin on 05-Sep-2018 22:35:45

eye donation

 

छतरपुर | नेत्रदान से प्राप्त कॉर्निया के उपयोग से दो नेत्रहीन व्यक्तियों के जीवन में प्रकाष लाया जा सकता है। इसके लिए राष्ट्रीय दृष्टिहीनता नियंत्रण कार्यक्रम के अंतर्गत 33वां राष्ट्रीय नेत्रदान पखवाड़ा मनाया जा रहा है। यह 25 अगस्त से शुरू होकर 2 अक्टूबर तक चलेगा। जो व्यक्ति नेत्रदान करता है उसे न तो बेचा जाता है और न ही खरीदा जाता है।  
    मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी छतरपुर ने नेत्रदान के संबंध में कुछ जरूरी बातें ध्यान रखने की सलाह दी है। कोई भी वयस्क पुरूष-स्त्री नेत्रदान करने का वचन पत्र भर सकता है। नेत्रदान के लिए केवल स्वस्थ्य कॉर्निया की जरूरत होती है। नेत्रदान मृत्यु के 6 घंटे में ही संभव है। ऐसी स्थिति में इसकी सूचना आई-बैंक को तुरंत देना चाहिए। यदि समय पर सूचना देना सम्भव न हो, तो निकटतम विकासखण्ड चिकित्साधिकारी को भी सूचना दी जा सकती है। यह अधिकारी इसे प्राप्त करने की सुरक्षित व्यवस्था करेंगे। इसके लिये संबंधित परिवार से किसी तरह की फीस लेने का प्रावधान भी नहीं है। 
    नेत्रदान की कार्यवाही 10 से 15 मिनट में पूर्ण होती है, इससे दिवंगत व्यक्ति का चेहरा खराब नहीं होता है। नेत्रदान कभी भी अस्वीकार नहीं किया जाता है। 
    आई-बैंक में पहुंचने के बाद नेत्रदान में प्राप्त ऑखों का परीक्षण कर उनको सुरक्षित रखने की व्यवस्था की जाती है। जिनकी नामावली नेत्र बैंक के पास वरीयताक्रम में रखी जाती है, इन्हें 36 घंटे में उन नेत्रहीनों को निःशुल्क प्रत्यारोपित कर दिया जाता है। यदि किसी व्यक्ति ने वचन पत्र भी नहीं भरा हो तब भी उसका उत्तराधिकारी संबंधित का कानून के मुताबिक नेत्रदान कर सकता है। बशर्ते दिवंगत व्यक्ति ने अपने जीवन में इसकी स्पष्ट मनाही न की हो। नेत्रदान का घोषणा पत्र जिला चिकित्सालय में उपलब्ध है।

Tags: eye donation

Post your comment
Name
Email
Comment
 

छत्तरपुर

विविध