खास खबरें एसआई सहित 90 पुलिसकर्मियों की अदला-बदली आयुष्मान योजना : हर 12 सेकेंड में हो रहा है एक गरीब का मुफ्त इलाज शटडाउन : 'भूखे' अमेरिकियों को मुफ्त में खाना खिला रहा है टेक्सास का गुरुद्वारा कल मेलबर्न में खेला जाएगा भारत बनाम ऑस्‍ट्रेलिया तीसरा वनडे मैच BSP और SP के गठबंधन में राष्ट्रीय लोकदल भी शामिल, इस तरह हुआ सीटों का बंटवारा सरेआम हुई दीपक कलाल की पिटाई, राखी सावंत ने किया था शादी का ऐलान वर्ल्ड रैंक में भारत की 49 यूनिवर्सिटी ने बनाई जगह, यहॉं देखे सूची एप्टीट्यूड टेस्ट दो पारी और पात्रता परीक्षा एक पारी में होगी सबसे बड़े स्‍लम धारावी के आएंगे अच्‍छे दिन, 70 हजार परिवारों को मिलेगा पक्‍का घर पौष मास की पुत्रदा एकादशी का व्रत रखने से मिलता है संतान प्राप्ति का वरदान

भूमिस्वामी स्वयं भू-राजस्व का निर्धारण कर जमा करेगा : कलेक्टर

भूमिस्वामी स्वयं भू-राजस्व का निर्धारण कर जमा करेगा : कलेक्टर

Post By : Dastak Admin on 01-Aug-2018 22:14:18

land diversion

नयी संशोधित म.प्र. भू-राजस्व संहिता आज से लागू हुई 

टीकमगढ़ | कलेक्टर श्री अभिजीत अग्रवाल ने बताया है कि शासन के निर्देशानुसार अब धारा 104 के तहत पटवारी हल्कों का निर्माण और धारा 105 के तहत राजस्व निरीक्षक मंडल के निर्माण का अधिकार कलेक्टर से वापस लेकर आयुक्त भू अभिलेख को दिया गया है। उन्होंने बताया कि इसी प्रकार नामांतरण पंजी ब्यवस्था अब समाप्त होगी, सारे प्रकरण तहसीलदार न्यायालय में जमा होंगे। उन्होंने बताया कि जब तक आदेश की कॉपी और अभिलेख सुधार की कॉपी आवेदक को नहीं मिलती प्रकरण समाप्त नहीं होगा।
      श्री अग्रवाल ने बताया कि रजिस्ट्री रजिस्टार से सीधे तहसीलदार को भेजी जाएगी भूमि स्वामी किसी को नहीं देगा। उन्होंने बताया कि जिले मे पटवारी की पोस्टिंग अनुविभागीय अधिकारी से न होकर कलेक्टर द्वारा की जाएगी।
भू राजस्व का भूमिस्वामी स्वयं निर्धारण जमा करेगा
      श्री अग्रवाल ने बताया कि धारा 59 के तहत भू राजस्व का भूमिस्वामी स्वयं निर्धारण जमा करेगा। धारा 172 शून्य कर दी गई है। उन्होंने बताया कि धारा 172 शून्य हो जाने से डायवर्सन के प्रचलित सारे प्रकरण समाप्त हो जायेंगे, इस हेतु नियम बनाया गया है। साथ ही आवेदक तहसीलदार की कार्यवाही से ब्यथित होकर अनुविभागीय अधिकारी को सुनवाई (अपील) का आवेदन 45 दिन के भीतर देगा। उन्होंने बताया कि सीमांकन में सुनवाई तहसीलदार करेंगे और ’सीमांकन केवल राजस्व निरीक्षक द्वारा किया जाएगा’।
      श्री अग्रवाल ने बतााय कि ऑनलाइन रजिस्ट्री सब-रजिस्टार तहसीलदार को सीधे भेजेंगे, आवेदक नहीं लाएगा। उसके बाद ईश्तहार और क्रेता बिक्रेता आहूत होंगे। उन्होंने बताया कि पूरी कर्यवाही 30 दिन में होगी, 60 दिन के भीतर आदेश की कॉपी और अभिलेख सुधार का खसरा, किस्तबंदी (बी 1) प्रदाय करने बाद ही प्रकरण समाप्त किया जाएगा और दाखिल दफ्तर होगा। उन्होंने बताया कि सीमांकन की अपील और रिविजन की ब्यवस्था नहीं होगी। रेवेन्यू बोर्ड से सारे प्रकरण वापस अनुविभागीय अधिकारी को आयेंगे।

Tags: land diversion

Post your comment
Name
Email
Comment
 

टीकमगढ़

विविध