खास खबरें मुंबई की मॉडल ने महाकाल मंदिर समिति से मांगी माफी विजय माल्‍या-नीरव मोदी के बाद एक और कारोबारी देश से फरार मुस्लिम महिलाओं के बुर्का पहनने पर रोक लगाने इस देश में हो रही तैयारी 'गोल्‍डन ग्‍लोब' रेस में हिस्‍सा ले रहे भारतीय नौसेना के अभिषेक भीषण तूफान में फंसे, बचाव दल रवाना पाकिस्‍तान के पूर्व गृह मंत्री रहमान मलिक ने राहुल गांधी को पीएम बनाने की तरफदारी सनी लियोन को मिला था 'गेम ऑफ थ्रोन्‍स' में काम करने का मौका, इसलिए कर दिया मना... सेंसेक्स 110 अंक , निफ्टी 11100 के नीचे मिंटो हॉल अन्तर्राष्ट्रीय कन्वेंशन सेंटर के रूप में तैयार पति-पत्नि के बीच हुआ झगड़ा, पति ने की किस करने की कोशिश, पत्‍नी ने काट दी जीभ आज से शुरू होगा, पितृों का पूजन-तर्पण, पूर्णिमा का होगा पहला श्राद्ध

मलेरिया एवं डेंगू की रोकथाम की दवाओं का व्यापक प्रचार-प्रसार करें

मलेरिया एवं डेंगू की रोकथाम की दवाओं का व्यापक प्रचार-प्रसार करें

Post By : Dastak Admin on 30-Aug-2018 23:12:02

samiksha meeting


आयुष राज्य मंत्री श्री पटेल के अधिकारियों को निर्देश 
जबलपुर | प्रदेश के आयुष राज्य मंत्री श्री जालम सिंह पटेल ने मलेरिया, डेंगू और चिकनगुनिया की रोकथाम के लिए होम्योपैथी चिकित्सा पद्धति में उपलब्ध दवाओं मलेरिया-200 ऑफ एवं यूपेटोरियम का आम नागरिकों के बीच व्यापक प्रचार-प्रसार करने के निर्देश दिये हैं। 
    श्री पटेल आज यहां आयुर्वेद महाविद्यालय में मलेरिया, डेंगू और चिकनगुनिया की रोकथाम हेतु किये जा रहे प्रयासों की समीक्षा के लिए आयोजित जबलपुर संभाग के सभी जिलों के आयुष अधिकारियों की बैठक को संबोधित कर रहे थे। बैठक में बालाघाट के सांसद श्री बोध सिंह भगत, जबलपुर केंट के विधायक श्री अशोक रोहाणी एवं अपर मुख्य सचिव श्रीमती शिखा दुबे भी मौजूद थीं। 
    आयुष राज्य मंत्री श्री पटेल ने बैठक के प्रारंभ में आयुष अधिकारियों से उनके जिले में मलेरिया, डेंगू और चिकनगुनिया की रोकथाम के लिए विभागीय स्तर पर किये जा रहे कार्यों की जानकारी ली। इस अवसर पर बताया गया कि होम्योपैथी चिकित्सा पद्धति में मलेरिया की रोकथाम के लिए उपलब्ध दवा मलेरिया-200 ऑफ के वितरण से मलेरिया प्रभावित गांवों को इस रोग से मुक्त करने में काफी हद तक कामयाबी मिली है। बैठक में स्पष्ट किया गया कि होम्योपैथी में उपलब्ध दवायें मलेरिया, डेंगू और चिकनगुनिया की रोकथाम में ही कारगर हैं। इन रोगों से पीडित इलाज के उपचार में इन दवाओं का उपयोग नहीं किया जाना चाहिए। 
    आयुष राज्य मंत्री ने बैठक में मौजूद आयुष अधिकारियों को अपने-अपने जिलों में इन दवाओं के इस्तेमाल के प्रति लोगों में जागरूकता पैदा करने की आवश्यकता बताई।  उन्होंने कहा कि आयुष अधिकारी स्थानीय जनप्रतिनिधियों के सहयोग से चिन्हित क्षेत्रों के नागरिकों को इन दवाओं के वितरण का एक्शन प्लान तैयार करें। उन्होंने इस मौके पर दवाओं की उपलब्धता की जानकारी भी आयुष अधिकारियों से ली। 
    बैठक में बालाघाट के सांसद श्री बोध सिंह भगत ने आम आदमी तक इन दवाओं की उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए चिन्हित क्षेत्रों में शिविरों के आयोजन की जरूरत बताई।  विधायक श्री अशोक रोहाणी ने इस अवसर पर कहा कि आम नागरिक इन दवाओं से अनभिज्ञ हैं। उन्होंने कहा कि मलेरिया, डेंगू और चिकनगुनिया की रोकथाम में ये दवायें कारगर है तो आम आदमी को इनका लाभ मिले यह सुनिश्चित किया जाना चाहिए। 
    अपर मुख्य सचिव आयुष श्रीमती शिखा दुबे ने इस अवसर पर सभी जिलों के आयुष अधिकारियों को स्थानीय जनप्रतिनिधियों के साथ मिलकर दवाओं के वितरण की कार्ययोजना तैयार करने के निर्देश दिये। उन्होंने आयुष अधिकारियों को दवाओं की अनुमानित आवश्यकता के आंकलन कर अग्रिम मांग पत्र भोपाल भेजने के निर्देश भी बैठक में दिये। 
    मलेरिया एवं डेंगू की रोकथाम के लिए किये जा रहे प्रयासों की समीक्षा बैठक में पहले आयुष, कुटीर एवं ग्रामोद्योग राज्य मंत्री श्री पटेल ने शासकीय आयुर्वेद महाविद्यालय की साधारण सभा की बैठक भी ली। बैठक में महाविद्यालय के वर्ष 2017-18 के आय-व्यय का अनुमोदन किया गया। इस अवसर पर महाविद्यालय में चल रहे विभिन्न पाठ¬क्रमों की जानकारी आयुष राज्य मंत्री को दी गई तथा महाविद्यालय के विस्तारीकरण की योजनाओं से उन्हें अवगत कराया गया। बैठक में बालाघाट के सांसद श्री बोध सिंह भगत, अपर मुख्य सचिव श्रीमती शिखा दुबे, अपर कलेक्टर वी.पी. द्विवेदी भी मौजूद थे। साधारण सभा की बैठक में महाविद्यालय में स्टाफ की कमी को बाह्र एजेंसी के माध्यम से पूरा करने का प्रस्ताव तैयार कर भोपाल भेजने की बात कही गई।

Tags: samiksha meeting

Post your comment
Name
Email
Comment
 

जबलपुर

विविध