खास खबरें गया कोठा तीर्थ के विकास के लिए भूमिपूजन किया रेवाड़ी गैंगरेप काण्‍ड के दो अन्‍य आरोपी SIT की गिरफ्त में राफेड विवाद में पाक ने अड़ाई अपनी टांग, कहा- सरकार कर रही पीएम मोदी को बचाने की कोशिश खेल मंत्रालय ने दी सफाई, विराट कोहली को क्‍यों चुना गया 'खेल रत्‍न' के लिए समाजवादी पार्टी की ‘सामाजिक न्याय व लोकतंत्र बचाओ’ यात्रा पहुँची जंतर-मंतर, पार्टी संस्थापक और यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव ने भरी हुंकार सनी देओल-साक्षी तंवर स्‍टॉरर 'मोहल्‍ला अस्‍सी' आखिरकार इस दिन होगी रिलीज मुंबई में पेट्रोल के दाम पहुँचे 90 रूपये के करीब राष्ट्रीय स्कॉलरशिप परीक्षाओं के आवेदन की अंतिम तिथि 25 सितम्बर आंध्रप्रदेश : नक्‍सलियों ने की टीडीपी के विधायक और पूर्व विधायक की हत्‍या क्‍यों मनाई जाती है अनंत चतुदर्शी, क्‍या है अंनतसूत्र का महत्‍व

धरने, रैली, जुलूस या अन्य आयोजनों की आवेदन प्रक्रिया होगी ऑनलाईन, वीडियोग्राफी होगी अनिवार्य, डीजे पूर्णंतः प्रतिबंधित रहेंगे

धरने, रैली, जुलूस या अन्य आयोजनों की आवेदन प्रक्रिया होगी ऑनलाईन, वीडियोग्राफी होगी अनिवार्य, डीजे पूर्णंतः प्रतिबंधित रहेंगे

Post By : Dastak Admin on 05-Sep-2018 22:13:08

section 133

कलेक्टर ने धारा 133 के तहत् जारी किये दिशा-निर्देश 

मण्डला | जिला दण्डाधिकारी अनय द्विवेदी ने दण्ड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 133 के तहत् जिले में विभिन्न आयोजनों के लिए विस्तृत दिशा निर्देश जारी कर दिये हैं। उन्होंने कहा कि बिना किसी पूर्व सूचना एवं अनुमति के विभिन्न राजनैतिक दल, धार्मिक संगठन, किसान संगठन, सामाजिक संगठनों एवं व्यक्तियों द्वारा धरना प्रदर्शन, रैली, जुलूस या सभाऐं शासकीय एवं अर्द्धशासकीय कार्यालय एवं सार्वजनिक स्थानों पर आयोजित की जाती है। इन आयोजनों के दौरान आयोजकों द्वारा सक्षम अनुमति उपरांत भी शर्तों का पालन नहीं किया जाता जिससे लोक स्थान, सार्वजनिक सड़क मार्ग तथा शासकीय या अर्द्धशासकीय कार्यालयों में विधि विरूद्ध बाधाऐं एवं खतरा उत्पन्न हो रहा है। श्री द्विवेदी ने माननीय सर्वोच्च न्यायालय के केके रोड मर्चेन्ट विरूद्ध जिला कलेक्टर तमिलनाडू (2003) का मामला एवं उच्च न्यायालय मध्यप्रदेश के न्याय दृष्टांत सतीष वर्मा विरूद्ध डीएम जबलपुर को उद्धृत करते हुए उक्त आयोजनों के लिए निर्देश जारी किये है। 
   जिला दण्डाधिकारी ने अपने निर्देश में कहा है कि जिले की सीमा के अंतर्गत किसी भी सार्वजनिक सड़क मार्ग या लोक स्थान पर बिना किसी अनुमति के धरना प्रदर्शन, रैली, जुलूस या सभाऐं आयोजित किया जाना पूर्णंतः प्रतिबंधित किया जाता है। ऐसे आयोजनों में अस्त्र-शस्त्र धारण करना तथा उनका प्रदर्शन पूर्णंतः वर्जित रहेगा। आयोजनों में किसी भी प्रकार के कट आऊट, बैनर, पोस्टर, फ्लेक्स, होर्डिंग या झण्डे आदि पर भड़काऊ भाषा या नारों को लिखने या प्रदर्शन करने के कारण शांति भंग होने की स्थिति में उनका सार्वजनिक या निजी स्थानों पर प्रदर्शन पूर्णंतः प्रतिबंधित रहेगा।
   श्री द्विवेदी ने कहा है कि इस प्रकार के आयोजनों में ध्वनि विस्तारक यंत्रों का प्रयोग माननीय सर्वोच्च न्यायालय एवं एनजीटी द्वारा जारी दिशा निर्देशों के आधार पर सुनिश्चित होगा। आतिशबाजी तथा डीजे पूर्णंतः प्रतिबंधित होंगे। ऐसे आयोजनों में किसी भी प्रकार की निजी संपत्ति की क्षति के लिए आयोजक जिम्मेदार होंगे तथा क्षतिपूर्ति आयोजक ही करेंगे। शासकीय कार्यालय, न्यायालय, चिकित्सालय तथा विद्यालय के 200 मीटर की परिधि तक धरना प्रदर्शन प्रतिबंधित रहेगा है। 
   जिला दण्डाधिकारी ने कहा है कि इस प्रकार के आयोजन के लिए क्षेत्र के एसडीएम के समक्ष आवेदन प्रस्तुत करना होगा। ऐसे आयोजन स्थल जो एक से अधिक एसडीएम के क्षेत्र में आते हैं या उसमें 3000 से अधिक की संख्या में भीड़ के एकत्रित होने की संभावना है, के लिए आवेदन अपर जिला दण्डाधिकारी को प्रस्तुत किया जायेगा। सभी कार्यक्रम के लिए आवेदन सक्षम पुलिस अधिकारी के अभिमत के साथ कम से कम 48 घण्टे पूर्व किया जाना तथा पुलिस अधिकारी के अभिमत के बिना आवेदन कम से कम 72 घण्टे के पूर्व प्रस्तुत किया जाना अनिवार्य होगा। सभी आयोजक अनुमति प्राप्त करने वाले अधिकारी को  कार्यक्रम की वीडियोग्राफी कर 48 घण्टे के भीतर उपलब्ध कराऐंगे। 
   जिला दण्डाधिकारी ने कहा है कि उक्त आदेश का पालन पूरी गम्भीरता से किया जाए। आदेश के उल्लंघन पर भारतीय दण्ड संहिता के धारा 188 एवं अन्य दण्डात्मक प्रावधानो के तहत् कार्यवाही की जाएगी। प्रत्येक आयोजनों के लिए आवेदन जिला प्रशासन की वेबसाईट www.mandla.nic.in पर दर्ज किया जाना आवश्यक है तत्पश्चात ही सक्षम अधिकारी द्वारा उपयुक्त निर्णय लिया जायेगा। कलेक्टर कार्यालय, अनुविभागीय कार्यालय, तहसील कार्यालय अथवा थाने में दिए गए आवेदन मान्य नहीं होंगे। श्री द्विवेदी ने समस्त थाना प्रभारियों को अपने क्षेत्र में सतत् निगरानी करने के निर्देश दिये तथा उल्लंघन पर स्वतः संज्ञान लेकर आवश्यक कार्यवाही करने के आदेश दिए हैं।

 

Tags: section 133

Post your comment
Name
Email
Comment
 

मंडला

विविध