खास खबरें वाट्सएप पर पोस्ट करने पर पटवारी की शिकायत, कलेक्टर ने उज्जैन किया अटैच पीएम मोदी ने की ट्विटर के सीईओ से मुलाकात, ट्विटर की तारीफ में बोले ये... अफरीदी ने इमरान को दी सलाह, कश्‍मीर को छोड़ पहले अपने 4 राज्‍य संभालें मिताली ने टी-20 में बनाया रिकॉर्ड, रोहित-विराट को भी पीछे छोड़ा राहुल गांधी की मौजूदगी में टिकट बंटवारे को लेकर पायलट और डूडी में कहासुनी लेक कोमो में सात जन्‍मों के बंधन में बंधे रणवीर-दीपिका, करण जौहर ने दी बधाई आज से दिल्‍ली में शुरू होगा ट्रेड फेयर, 18 से मिलेगी आम लोगों को एंट्री पीएम मोदी-राहुल गांधी 16 नवम्‍बर को मध्‍यप्रदेश के एक ही जिले करेगें रैलियां बहू और उसके परिजनों की प्रताड़ना से तंग आ ससुर खुद को गोली मार की आत्‍महत्‍या छठ पूजा : संतान प्राप्ति और उनकी मंगल कामना के लिए करते है सूर्य की उपासना

परसवाड़ा में सेनेटरी नैपकिन के उपयोग के लिए निकाली गई जागरूकता रैली

परसवाड़ा में सेनेटरी नैपकिन के उपयोग के लिए निकाली गई जागरूकता रैली

Post By : Dastak Admin on 25-Aug-2018 20:53:54

jagrukta yatra

 

बालाघाट | राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन से जुड़ी महिलाओं द्वारा 24 अगस्त को विकासखंड मुख्यालय परसवाड़ा में सेनेटरी नैपकिन के उपयोग के प्रति जागरूकता के लिए रैली निकाली गई। इस रैली में विधायक श्री मधु भगत भी शामिल हुए। इस अवसर पर परसवाड़ा में जिले के एक और नवीन सामुदायिक प्रशिक्षण संस्थान (समुदाय द्वारा संचालित) का शुभारंभ किया गया। इस अवसर पर जनपद पंचायत परसवाड़ा की अध्यक्ष श्रीमती सुशीला सरोते, अन्य सदस्य एवं आजीविका मिशन के जिला प्रबंधक श्री ओमप्रकाश बेदुआ भी मौजूद थे। 
    रैली के पश्चात आजीविका मिशन से जुड़ी महिलाओं को संबोधित करते हुए विधायक श्री मधु भगत ने महिलाओं के स्वयं सहायता समूहों द्वारा सेनेटरी नैपकिन तैयार करना एक अच्छी पहल है। इससे महिलाओं को रोजगार के अवसर मिल रहे है। उन्होंने कहा कि सेनेटरी नैपकिन के उपयोग को प्रोत्साहित करने की आवश्यकता है। गांवों में किशोरी बालिकाओं एवं माताओं को सेनेटरी नैपकिन के उपयोग के प्रति जागरूक बनाने की आवश्यकता है। 
    आजीविका मिशन के जिला प्रबंधक श्री ओमप्रकाश बेदुआ ने इस अवसर पर बताया कि जिले के प्रत्येक विकासखंड में महिलाओं के समूहों द्वारा आजीविका ब्रांड की सेनेटरी नैपकिन तैयार की जा रही है। महिलाओं के समूहों द्वारा तैयार सेनेटरी नैपकिन सस्ती होने के कारण गांवों में इसकी खपत बढ़ रही है। इसके उपयोग को प्रोत्साहित करने के साथ ही उपयोग के बाद इसे नष्ट करने के तरीके भी बताये जा रहे है। सेनेटरी नैपकिन तैयार करने के कार्य से जुड़े महिलाओं के समूहों को अच्छा रोजगार मिल रहा है।

Tags: jagrukta yatra

Post your comment
Name
Email
Comment
 

बालाघाट

विविध