खास खबरें वाट्सएप पर पोस्ट करने पर पटवारी की शिकायत, कलेक्टर ने उज्जैन किया अटैच पंडित नेहरू की जयंती पर सोनिया गांधी और मनमोहन समेत कई नेताओं ने दी श्रद्धांजलि अमेरिका : कैलिफोर्निया में लगी भीषण आग में अब तक हुई 44 की मौत, कई सेलिब्रिटीज के घर भी जले विराट कोहली खो बैठे थे अपना संयम - विश्‍वनाथन आनंद राहुल गांधी की मौजूदगी में टिकट बंटवारे को लेकर पायलट और डूडी में कहासुनी दीपिका के परिवार ने नारियल दे किया रणवीर का स्‍वागत, कोंकणी रिवाज से हुई सगाई आज से दिल्‍ली में शुरू होगा ट्रेड फेयर, 18 से मिलेगी आम लोगों को एंट्री पीएम मोदी-राहुल गांधी 16 नवम्‍बर को मध्‍यप्रदेश के एक ही जिले करेगें रैलियां केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार का आज बेंगलुरू में राजकीय सम्‍मान के साथ अंतिम संस्‍कार छठ पूजा : संतान प्राप्ति और उनकी मंगल कामना के लिए करते है सूर्य की उपासना

धार्मिक भावना भड़काने के आरोप साबित हुए सिमी के दो सदस्यों को कोर्ट ने दी तीन-तीन साल की सजा

Post By : Dastak Admin on 08-Sep-2018 09:56:53 crime news

Ujjain @ प्रतिबंधित संगठन सिमी (स्टूडेंट इस्लामिक मूवमेंट ऑफ इंडिया) के दो सदस्यों को उज्जैन में कोर्ट ने 3-3 साल की सजा और 7 हजार रूपए का जुर्माना लगाया है। दोनों पर धार्मिक भावना भड़काने के आरोप सिद्ध हुए हैं। इनमें से एक आरोपी शफी अंसारी निवासी फाजलपुरा गुजरात बम ब्लास्ट मामले में अहमदाबाद की साबरमती जेल में बंद है।

उज्जैन में धार्मिक भावना भड़काने वाले दो सिमी सदस्यों को न्यायालय ने 3-3 साल के कठोर कारावास और 7 हजार रुपए के अर्थदण्ड की सजा सुनाई है। सजा के दौरान प्रथम श्रेणी न्यायाधीश विवेक जैन ने कहा ऐसे व्यक्ति देश में घुन के रूप में संस्कृति को खत्म कर रहे हैं, इनके लिए कानून दवाई के रूप में कार्य करता है।

       दरअसल, खाराकुंआ पुलिस ने साल 2006 में अकील और शफी को मदार गेट क्षेत्र से लोगों को किताबें दिखाकर धार्मिक भावना भड़काने के आरोप में गिरफ्तार किया था। इसके बाद गुजरात पुलिस ने अहमदाबाद बमकांड के आरोपी के तौर पर उज्जैन से शफी को गिरफ्तार किया था। न्यायिक मजिस्ट्रेट प्रथम श्रेणी विवेक जैन ने इस मामले में शफी को आईपीसी की धारा 153-ए में दोषी मानते हुए 3 साल की सजा तथा विधि विरुद्ध क्रियाकलाप निवारण अधिनियम की धारा 10 में 02 साल की सजा व अकील कुरैशी को धारा 153- ए, 467, 468, 471 में 3 साल एवं विधि विरुद्ध क्रिया कलाप करने पर 2 साल की सजा सुनाई। दोनों पर 7 हजार रुपए का जुर्माना लगाया। जबकि दो अन्य आरोपी नईम निवासी कोटा एवं इमरान निवासी इंदौर को सबूतों के अभाव में बरी कर दिया है।

Post your comment

  • Post your comment
    Name
    Email
    Comment
     

विविध