खास खबरें ग्रुप डिस्कशन और सेमिनार से बता रहे भोजन में सब्जियां लें, जंकफूड न खाए 2025 तक इंसानों से ज्यादा काम करेंगी मशीनें : वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम माता-पिता की इस लत के खिलाफ बच्‍चों ने सड़कों पर किया विरोध प्रदर्शन क्रिकेट टीम कप्तान विराट कोहली और वेटलिफ्टर मीराबाई चानू को राजीव गांधी खेल रत्न देने की सिफारिश अजय माकन ने दिया दिल्‍ली कांग्रेस के अध्‍यक्ष पद से इस्‍तीफा कैंसर के मुश्किल जंग जीतने के बाद 46 की उम्र में लीजा बनी जुड़वा बेटियों की मॉं सेंसेक्स 37650 के करीब, निफ्टी 11400 के ऊपर कर्तव्यों का निर्वहन सिखाते हैं विश्वविद्यालय : राज्यपाल श्रीमती पटेल रेवाड़ी गैंगरेप : मुख्‍य आरोपी निशु पहले भी कर चुका है ऐसी वारदात चौथे दिन उत्तम शौच धर्म की पूजा के साथ, अपनी वाणी को अपने मन को अपने कर्मों को उत्तम बनाना ही शौच धर्म है

खबर जरा हटके

इस देश में सरकार ने बिल्लियों पर लगा दिया प्रतिबंध

Post By : Dastak Admin on 05-Sep-2018 09:42:08


cats are banned in newziland


अक्सर लोग अपने घरों में कुत्ते और बिल्ली और भी कई प्रकार के जानवरों को पालते है। लेकिन न्यूजीलैंड में अब बिल्लियों पर प्रतिबंद लगने वाला है। जी हां, न्यूजीलैंड के एक गांव में दिलचस्प मामला बताते हुए बिल्लियों पर जल्द ही बैन लगने वाला हैं। 

दरअसल, बिल्लियां पक्षियां को खा जाती हैं इसलिए सरकार ने फैसला किया है कि अब न्यूजीलैंड में लोग बिल्लियां नहीं पालेंगे। लगातार पक्षियों की कम होती तादाद के कारण यह बिल्लियां पर बैन लग रहा है। बिल्लियां के कारण पक्षियों की वो प्रजाति हैं जो कही और नहीं पाई जाती हैं, लुप्त होने की कगार पर हैं। 

न्यूजीलैंड के ओमायु गांव में जिनके पास फिलहाल बिल्ली है, वो उनके पास ही रहेंगी। मगर उन बिल्लियां के मरने के बाद वह दुबारा बिल्ली नहीं पाल सकेंगे। अभी तक गांव में करीब 35 लोगों ने 7 से 8 बिल्लियां पाली हैं। आपको बता दें, न्यूजीलैंड में कापफी तादाद में पक्षी हैं। यहां 4 हजार से ज्यादा नुकसान न पहुंचाने वाले क्रिएचर्स हैं। 

नेशनल आइकन भी किवी है। सरकार ने एक रिपोर्ट पेश किया था जिसमें बताया गया था कि हर साल ढाई करोड़ पक्षियों की मौत होती है। जिसके बाद सरकार ने बिल्लियां को दूर करने का जिम्मा उठाया था। यहां बिल्लियों को सीरियल किलर माना जाता है, 2013 में एक मूवमेंट शुरू किया गया था। जिसका नाम कैट टू गो दिया गया। न्यूजीलैंड का पूरा फोकस नेचर और पक्षियों को बचाना है इसलिए उन्होंने ये कदम उठाने का फैसला लिया है। हालात आउट ऑफ कंट्रोल होने की वजह से ये फैसला लिया गया। 

अपनी जानकारी दे

नाम
ई-मेल
मोबाइल
फोटो

आपके समाचार

शब्द प्रारूप और पाठ प्रारूप में समाचार फ़ाइल

Subscribe Newsletter




आपका वोट

अपना राशिफल देखें

मेष वृषभ मिथुन कर्क सिंह कन्या तुला वृश्चिक धनु मकर कुंभ मीन
मेष

ज्ञान विज्ञान के क्षेत्र में बढ़ोतरी होगी। विद्यार्थियों को अधिक परिश्रम की आवश्‍यकता रहेगी। मित्र मददगार साबित होंगे। सामाजिक क्षेत्र में वर्चस्‍व बढ़ेगा। ईश्‍वर के प्रति आस्‍था बढ़ेगी।

महाकाल आरती समय

dastak news ujjain

  महाकाल आरती समय

आरती

चैत्र से आश्विन तक

कार्तिक कृष्ण प्रतिपदा से फाल्गुन पूर्णिमा तक

भस्मार्ती

प्रात: 4 बजे श्रावण मास में प्रात: 3 बजे

प्रातः 4 से 6 बजे तक।

दध्योदन

प्रात: 7 से 7:45 तक

प्रात: 7:30 से 8:15 तक

महाभोग

प्रात: 10 से 10:45 तक

प्रात: 10:30 से 11:15 तक

सांध्य

संध्या 5 से 5:45 तक

संध्या 5 से 5:45 बजे तक

सांध्य

संध्या 7 से 7:45 तक

संध्या 6:30 से 7:15 तक

शयन

रात्रि 10:30 बजे

रात्रि 10:30 से 11 बजे तक

आज का विचार

    “सामने पर कड़वा बोलने वाले लोग कभी धोखा नहीं देते। डरना तो मीठा बोलने वालों से चाहिए जो दिल में नफरत पालते है और समय के साथ बदल जाते है।” - अज्ञात

Games