खास खबरें बंगाल की खाड़ी में बने सिस्टम से 24-25 को बारिश के आसार जेट की फ्लाइट में कैबिन प्रेशर कम हुआ, यात्रियों के नाक-कान में आने लगा खून खाने से डर रहे है लोग, फलों में निकली रही है सुईयॉं एशिया कप : भारत ने पाकिस्‍तान को मात, 8 विकेट से रौंदा भोपाल में भाजपा कार्यकर्ता के महाकुंभ में आएंगे पीएम मोदी बेटी पूजा-आलिया के साथ महेश भट्ट फिर से बनाएंगे फिल्‍म 'सड़क' अब नौकरी जाने पर सरकार देगी पैसा, सीधे आऐगा आपके बैंक खाते में धान के समर्थन मूल्य पर इस वर्ष भी दिया जायेगा बोनस : मुख्यमंत्री श्री चौहान यूपी में दिमागी बुखार ने ली अब 71 जानें क्‍यों मनाया जाता है मोहर्रम, रमजान के बाद दूसरा सबसे पाक महीना

2004 और 2016 के सिंहस्थ महाकुंभ में बन रहा है 17 दिनों का अदभूत संयोग

Post By : Dastak Admin on 12-Mar-2016 11:06:28

सिंहस्थ 2004

उज्जैन। सिंहस्थ 2016 का प्रारम्भ 22 अप्रैल चैत्र शुक्ल 15 शुक्रवार के दिन से होगा और इसका समापन वैशाख शुक्ल 15 शनिवार 21 मई को प्रमुख स्नान से होगा। रोचक तथ्य यह है कि विगत सिंहस्थ की तिथियों से इस बार की तिथियों में 17 दिनों का अंतर आ रहा है। सिंहस्थ 2004 में पहला स्नान 5 अप्रैल को था इस बार प्रथम स्नान 22 अप्रैल को होगा। इसी तरह वर्ष 2004 में शाही स्नान 4 मई को सम्पन्न हुआ था जबकि इस बार 21 मई को 2016 को प्रमुख स्नान होना है।

अपनी जानकारी दे

नाम
ई-मेल
मोबाइल
फोटो

आपके समाचार

शब्द प्रारूप और पाठ प्रारूप में समाचार फ़ाइल

Subscribe Newsletter




आपका वोट

अपना राशिफल देखें

मेष वृषभ मिथुन कर्क सिंह कन्या तुला वृश्चिक धनु मकर कुंभ मीन
मेष

दैनिक कार्यक्रम सरलता से संपन्‍न होंगे। जीवनसाथी से सहयोग मिलेगा। दुर्घटना के प्रति सचेत रहने की आवश्‍यकता है। परिवार में सुखशांति का वातावरण रहेगा। व्‍यापार में साझेदारी से लाभ होगा। निवेश्‍ा न करें।

महाकाल आरती समय

dastak news ujjain

  महाकाल आरती समय

आरती

चैत्र से आश्विन तक

कार्तिक कृष्ण प्रतिपदा से फाल्गुन पूर्णिमा तक

भस्मार्ती

प्रात: 4 बजे श्रावण मास में प्रात: 3 बजे

प्रातः 4 से 6 बजे तक।

दध्योदन

प्रात: 7 से 7:45 तक

प्रात: 7:30 से 8:15 तक

महाभोग

प्रात: 10 से 10:45 तक

प्रात: 10:30 से 11:15 तक

सांध्य

संध्या 5 से 5:45 तक

संध्या 5 से 5:45 बजे तक

सांध्य

संध्या 7 से 7:45 तक

संध्या 6:30 से 7:15 तक

शयन

रात्रि 10:30 बजे

रात्रि 10:30 से 11 बजे तक

आज का विचार

    मनुष्य को हमेशा मौका नही ढूंढना चाहिये, क्योंकि जो आज है वही सबसे अच्छा मौका है। - अज्ञात

विविध