खास खबरें दर्शनार्थी द्वारा मन्दिर गार्ड के साथ मारपीट प्रकरण में एफआईआर दर्ज महाराष्‍ट्र : वर्धा के सैन्‍य डिपो में हुआ ब्‍लॉस्‍ट, 4 की मौत, 6 अन्‍य घायल इंडोनेशिया : मस्जिदों में नमाजियों को दिया जा रहा कट्टरता का पाठ -खुफिया एजेंसी महिला विश्व चैंपियनिशप में बॉक्सर मेरीकॉम ने पदक किया पक्‍का, सेमीफाइनल में किया प्रवेश उद्धव ठाकरे 50 हजार शिवसैनिकों के साथ करेंगे अयोध्‍या को कूच मेहंदी से लेकर शादी तक यहॉं देखें दीपवीर की तस्‍वीरें निफ्टी 10750 के नीचे, सेंसेक्स 100 अंक लुढ़का पीएम मोदी आज झाबुआ में करेंगे चुनावी सभा, ये चीजे ले जाना प्रतिबंधित गुरूग्राम : मासूम के साथ हैवानियत करने वाला दरिंदा पकड़ाया, दुष्‍कर्म के बाद प्राइवेट पाटर्स डाल दी लकड़ी कर्ज से दिलाता है मुक्ति भोम प्रदोष व्रत, जानें कथा .

2004 के सिंहस्थ के बाद इस बार भी महाकाल के गर्भगृह में नहीं रहेगा प्रवेश

Post By : Dastak Admin on 16-Mar-2016 11:57:43

सिंहस्थ 2004

उज्जैन। पूरे सिंहस्थ पर्व के दौरान महाकाल मंदिर गर्भगृह में श्रद्धालुओं को प्रवेश नहीं दिया जायेगा। इसके अलावा तीनों शाही स्नान की तिथियों को तो 151 रुपये शुल्क पर विशेष दर्शन भी बंद रखे जायेंगे। महाकाल मंदिर प्रबंध समिति की महत्वपूर्ण बैठक में सिंहस्थ के दौरान दर्शन व्यवस्था को लेकर महत्वपूर्ण चर्चा की गई। कलेक्टर कवीन्द्र कियावत एएसपी अमरेन्द्रसिंह सहित महंत डॉ. रामेश्वरदास महाराज, सहायक प्रशासक प्रीति चौहान, सुदीप मीणा सहित अधिकारीगण मौजूद थे। निर्णय लिया गया कि सिंहस्थ अवधि के दौरान जनसामान्य को सुलभ दर्शन कराने के लिये गर्भगृह में प्रवेश पूरी तरह प्रतिबंधित रखा जाये। गौरतलब है कि सिंहस्थ 2004 में भी महाकाल मंदिर में गर्भगृह में दर्शन करने के लिए प्रतिबंध रहा था। 

अपनी जानकारी दे

नाम
ई-मेल
मोबाइल
फोटो

आपके समाचार

शब्द प्रारूप और पाठ प्रारूप में समाचार फ़ाइल

Subscribe Newsletter




आपका वोट

अपना राशिफल देखें

मेष वृषभ मिथुन कर्क सिंह कन्या तुला वृश्चिक धनु मकर कुंभ मीन
मेष

वरिष्‍ठ अधिका‍रियों के साथ अच्‍छा तालमेल बैठाकर रखेंगे। पति पत्‍नी के बीच मामूली नोकझोंक हो सकती है। ससुराल पक्ष के किसी कार्यक्रम में भाग लेंगे। नया वाहन क्रय करने की योजना बनेगी। यात्रा शुभ।

महाकाल आरती समय

dastak news ujjain

  महाकाल आरती समय

आरती

चैत्र से आश्विन तक

कार्तिक कृष्ण प्रतिपदा से फाल्गुन पूर्णिमा तक

भस्मार्ती

प्रात: 4 बजे श्रावण मास में प्रात: 3 बजे

प्रातः 4 से 6 बजे तक।

दध्योदन

प्रात: 7 से 7:45 तक

प्रात: 7:30 से 8:15 तक

महाभोग

प्रात: 10 से 10:45 तक

प्रात: 10:30 से 11:15 तक

सांध्य

संध्या 5 से 5:45 तक

संध्या 5 से 5:45 बजे तक

सांध्य

संध्या 7 से 7:45 तक

संध्या 6:30 से 7:15 तक

शयन

रात्रि 10:30 बजे

रात्रि 10:30 से 11 बजे तक

आज का विचार

    प्रसन्‍न रहना बहुत सरल है लेकिन सरल रहना बहुत कठिन । - अज्ञात

विविध