खास खबरें आज होंगे बाबा बाल हनुमान के पालकी दर्शन, निकलेगा झांकियों का कारवां नीति आयोग के सीईओ ने कही बड़ी बात, बिना रोजगार संभव नहीं इतनी विकास दर किम जोंग करेंगे रूस के राष्‍ट्रपति पुतिन से मुलाकात, इस महीने करेंगे रूस की यात्रा विरोधी क्रिकेट टीम की दो महिला क्रिकेटरों ने रचाई शादी प्रियंका चतुर्वेदी हुई शिवसेना में शामिल, कांग्रेस में इस से थी नाराज 'सांड की ऑंख' की शूटिंग के दौरान बुरी तरह झुलसा भूमि पेडनेकर का चेहरा सुस्त होती अर्थव्यवस्था को देख RBI ने घटाई दरें, समीक्षा बैठक में बात कही गई हेमंत करकरे पर साध्‍वी प्रज्ञा के विवादित बयान पर बीजेपी ने दी सफाई कहा-ये उनका निजी बयान है । पोस्‍टमार्टम रिपोर्ट में हुआ खुलासा, गला दबाकर हुई रोहित शेखर की हत्‍या आज के दिन करें ये उपाय, बरसेगी हनुमान जी की कृपा

2004 में आए थे 3 करोड़ श्रद्धालु, इस बार 5 करोड़ के आने का अनुमान

Post By : Dastak Admin on 19-Mar-2016 09:51:07

श्रद्धालु

उज्जैन। 12 वर्ष बाद एक बार फिर शहर में धर्म के सबसे बड़े मेले सिंहस्थ का आयोजन होने वाला है। हजारों साधु-संत डेरा डालेंगे, रोज लाखों श्रद्धालु दर्शन को उमडेंग़े... हर घर, हर होटल भरे होंगे। शहर के न जागने का कोई समय होगा और न ही सोने का। इस सिंहस्थ का भी अंदाज पूर्व सिंहस्थ-2004 के समान ही होगा, लेकिन आगाज कई नए निर्माण और व्यवस्थाओं के कारण जुदा रहेगा। सिंहस्थ 2004 में प्रशासनिक आंकड़ों की बात की जाए तो 3 करोड़ श्रद्धालु आएं थे। जिसके लिए हर तरह की तैयारी प्रशासन ने की थीं, लेकिन इस बार सिंहस्थ महाकुंभ 2016 में 5 करोड़ से अधिक श्रद्धालुओं के आने का अनुमान है। ऐसे में प्रशासन क्राउड मैनेजमेंट के लिए हर संभव प्रयास करने में जुटा है। 

अपनी जानकारी दे

नाम
ई-मेल
मोबाइल
फोटो

आपके समाचार

शब्द प्रारूप और पाठ प्रारूप में समाचार फ़ाइल

Subscribe Newsletter




आपका वोट

अपना राशिफल देखें

मेष वृषभ मिथुन कर्क सिंह कन्या तुला वृश्चिक धनु मकर कुंभ मीन
मेष

व्‍यायाम के लिए थोड़ा समय निकालें। धन के मामलों में किसी प्रकार का जोखिम नहीं लें। नकारात्‍मकता को अपने ऊपर हावी न होने दें। किसी से उपहार मिल सकता है। प्रेम संबंधों में सफलता मिलेगी।

महाकाल आरती समय

dastak news ujjain

  महाकाल आरती समय

आरती

चैत्र से आश्विन तक

कार्तिक कृष्ण प्रतिपदा से फाल्गुन पूर्णिमा तक

भस्मार्ती

प्रात: 4 बजे श्रावण मास में प्रात: 3 बजे

प्रातः 4 से 6 बजे तक।

दध्योदन

प्रात: 7 से 7:45 तक

प्रात: 7:30 से 8:15 तक

महाभोग

प्रात: 10 से 10:45 तक

प्रात: 10:30 से 11:15 तक

सांध्य

संध्या 5 से 5:45 तक

संध्या 5 से 5:45 बजे तक

सांध्य

संध्या 7 से 7:45 तक

संध्या 6:30 से 7:15 तक

शयन

रात्रि 10:30 बजे

रात्रि 10:30 से 11 बजे तक

आज का विचार

    सभी मनुष्य अपने स्वयं के दोष की वजह से दुखी होते हैं, और वे खुद अपनी गलती सुधार कर प्रसन्न हो सकते हैं । - महावीर स्‍वामी

विविध