खास खबरें गया कोठा तीर्थ के विकास के लिए भूमिपूजन किया रेवाड़ी गैंगरेप काण्‍ड के दो अन्‍य आरोपी SIT की गिरफ्त में राफेड विवाद में पाक ने अड़ाई अपनी टांग, कहा- सरकार कर रही पीएम मोदी को बचाने की कोशिश खेल मंत्रालय ने दी सफाई, विराट कोहली को क्‍यों चुना गया 'खेल रत्‍न' के लिए समाजवादी पार्टी की ‘सामाजिक न्याय व लोकतंत्र बचाओ’ यात्रा पहुँची जंतर-मंतर, पार्टी संस्थापक और यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव ने भरी हुंकार सनी देओल-साक्षी तंवर स्‍टॉरर 'मोहल्‍ला अस्‍सी' आखिरकार इस दिन होगी रिलीज मुंबई में पेट्रोल के दाम पहुँचे 90 रूपये के करीब राष्ट्रीय स्कॉलरशिप परीक्षाओं के आवेदन की अंतिम तिथि 25 सितम्बर आंध्रप्रदेश : नक्‍सलियों ने की टीडीपी के विधायक और पूर्व विधायक की हत्‍या क्‍यों मनाई जाती है अनंत चतुदर्शी, क्‍या है अंनतसूत्र का महत्‍व

2004 में आए थे 3 करोड़ श्रद्धालु, इस बार 5 करोड़ के आने का अनुमान

Post By : Dastak Admin on 19-Mar-2016 09:51:07

श्रद्धालु

उज्जैन। 12 वर्ष बाद एक बार फिर शहर में धर्म के सबसे बड़े मेले सिंहस्थ का आयोजन होने वाला है। हजारों साधु-संत डेरा डालेंगे, रोज लाखों श्रद्धालु दर्शन को उमडेंग़े... हर घर, हर होटल भरे होंगे। शहर के न जागने का कोई समय होगा और न ही सोने का। इस सिंहस्थ का भी अंदाज पूर्व सिंहस्थ-2004 के समान ही होगा, लेकिन आगाज कई नए निर्माण और व्यवस्थाओं के कारण जुदा रहेगा। सिंहस्थ 2004 में प्रशासनिक आंकड़ों की बात की जाए तो 3 करोड़ श्रद्धालु आएं थे। जिसके लिए हर तरह की तैयारी प्रशासन ने की थीं, लेकिन इस बार सिंहस्थ महाकुंभ 2016 में 5 करोड़ से अधिक श्रद्धालुओं के आने का अनुमान है। ऐसे में प्रशासन क्राउड मैनेजमेंट के लिए हर संभव प्रयास करने में जुटा है। 

अपनी जानकारी दे

नाम
ई-मेल
मोबाइल
फोटो

आपके समाचार

शब्द प्रारूप और पाठ प्रारूप में समाचार फ़ाइल

Subscribe Newsletter




आपका वोट

अपना राशिफल देखें

मेष वृषभ मिथुन कर्क सिंह कन्या तुला वृश्चिक धनु मकर कुंभ मीन
मेष

व्यापार में कुछ नुकसान हो सकता है। वाद-विवाद की स्थिति ना बनने दें। नौकरी में सहयोगी परेशान कर सकते हैं। धर्म कर्म में रुचि बढ़ेगी। यात्रा शुभ।

महाकाल आरती समय

dastak news ujjain

  महाकाल आरती समय

आरती

चैत्र से आश्विन तक

कार्तिक कृष्ण प्रतिपदा से फाल्गुन पूर्णिमा तक

भस्मार्ती

प्रात: 4 बजे श्रावण मास में प्रात: 3 बजे

प्रातः 4 से 6 बजे तक।

दध्योदन

प्रात: 7 से 7:45 तक

प्रात: 7:30 से 8:15 तक

महाभोग

प्रात: 10 से 10:45 तक

प्रात: 10:30 से 11:15 तक

सांध्य

संध्या 5 से 5:45 तक

संध्या 5 से 5:45 बजे तक

सांध्य

संध्या 7 से 7:45 तक

संध्या 6:30 से 7:15 तक

शयन

रात्रि 10:30 बजे

रात्रि 10:30 से 11 बजे तक

आज का विचार

    उस मनुष्य की ताकत का कोई मुकाबला नही कर सकता जिसके पास सब्र की ताकत है। - अज्ञात

विविध