खास खबरें कलेक्टर ने 5 व्यक्तियों को जिला बदर किया पत्नी को शॉपिंग के लिए बताया एटीएम का पिन, क्या आप बता सकते हैं वो 4 नंबर प्‍ले स्‍टोर पर गेम की जगह लोगों ने डाउनलोड कर लिया वायरस INDvsAUS पहला टी20: ये 12 खिलाड़ी बने टीम का हिस्‍सा, BCCI ने घोषित किया नाम सुषमा स्‍वराज के चुनाव नहीं लड़ने की बात पर बोले चिदंबरम 'बीजेपी की हालत देख छोड़ रही मैदान' प्रियंका ने दोस्‍तों को भेजी शादी की मिठाई, सामने आया वेडिंग कॉर्ड मार्क जुकरबर्ग नहीं देंगे फेसबुक के चेयरमैन पद से इस्‍तीफा मंच से बोली हेमा मालिनी 'ये बसंती की इज्‍जत का सवाल है' ओडिशा : भैंस बचाने में पुल से नीचे गिरी यात्रियों से भरी बस, 12 की हुई मौत हरि-हर मिलन: श्रीहरी को राजपाठ सौंपकर महादेव करते हैं तपस्या के लिए प्रस्थान

2004 सिंहस्थ के मुकाबले 60 प्रतिशत ज्यादा आए इस बार संतों के आवेदन

Post By : Dastak Admin on 04-Apr-2016 16:10:08

simtasta 2004

उज्जैन। सिंहस्थ 2016 में पड़ाव लगाने के लिए साधु संतों और संस्थाओं के तीन हजार से ज्यादा आवेदन आ चुके हैं। यह पिछले सिंहस्थ 2004 के मुकाबले करीब 60 प्रतिशत ज्यादा हैं। 2004 में मेले के लिए करीब 2200 हेक्टेयर जमीन ली थी, 2016 के लिए 3061 हैक्टेयर जमीन अधिगृहीत की गई है। मेला कार्यालय ने पहले दौर में 13 प्रमुख अखाड़ों के 64 महंतों, महामंडलेश्वरों को जमीन का आवंटन कर दिया है। अखाड़ों को आवंटन के बाद ही अन्य संस्थाओं व प्रवचनकारों आदि को जमीन मिलेगी। मेला प्रशासन ने पहली बार ऑनलाइन आ‌वेदन भी बुलाए लेकिन मेले की वेबसाइट पर अब तक केवल 400  ही आवेदन आए हैं। मेला क्षैत्र में अब साधू के पड़ाव स्थलों पर पेयजल, बिजली, सीवर और अन्य सुविधाओं के काम तेजी से किए जा रहे है। सिंहस्थ मेला 22 अप्रैल 2016 से शुरू होगा। मेला क्षेत्र में प्रशासन की तैयारियां चल रही हैं।

अपनी जानकारी दे

नाम
ई-मेल
मोबाइल
फोटो

आपके समाचार

शब्द प्रारूप और पाठ प्रारूप में समाचार फ़ाइल

Subscribe Newsletter




आपका वोट

अपना राशिफल देखें

मेष वृषभ मिथुन कर्क सिंह कन्या तुला वृश्चिक धनु मकर कुंभ मीन
मेष

कामकाज की योजना कार्यरुप में परिणित होगी। व्‍यापार को लेकर किसी सरकारी मुसीबत का सामना करना पड़ सकता है। दूसरों की मदद के लिए तत्‍पर रहेंगे। किसी से उपहार‍ मिल सकता है। यात्रा टालें।

महाकाल आरती समय

dastak news ujjain

  महाकाल आरती समय

आरती

चैत्र से आश्विन तक

कार्तिक कृष्ण प्रतिपदा से फाल्गुन पूर्णिमा तक

भस्मार्ती

प्रात: 4 बजे श्रावण मास में प्रात: 3 बजे

प्रातः 4 से 6 बजे तक।

दध्योदन

प्रात: 7 से 7:45 तक

प्रात: 7:30 से 8:15 तक

महाभोग

प्रात: 10 से 10:45 तक

प्रात: 10:30 से 11:15 तक

सांध्य

संध्या 5 से 5:45 तक

संध्या 5 से 5:45 बजे तक

सांध्य

संध्या 7 से 7:45 तक

संध्या 6:30 से 7:15 तक

शयन

रात्रि 10:30 बजे

रात्रि 10:30 से 11 बजे तक

आज का विचार

    जिसके पास एक दिन और एक रात का भी खाना है, उसके लिए भीख मांगना मना है - पैगंबर मोहम्मद

विविध