खास खबरें महाकाल में तैनात सुरक्षा गार्ड अब कुत्तों से भी श्रद्धालुओं की सुरक्षा करेंगे प्रदेश की पहली कैबिनेट बैठक अमेरिकी NSA ने अजीत डोभाल को किया फोन, कहा- भारत को आत्मरक्षा का अधिकार पीवी सिंधू दो शानदार प्रदर्शन के साथ सेमीफाइनल में पुलवामा हमले पर अपने बयान को लेकर नवजोत सिंह सिद्धू हुए ट्रोल सदी के महानायक अमिताभा बच्‍चन ने बालीवुड में पूरे किये 50 साल, बेटे अभिषेक ने यूं किया सेलिब्रेट पीएम मोदी ने दिखाई 'वंदे भारत एक्‍सप्रेस' को हरी झण्‍डी, पहली यात्रा के लिए बिक गई सारी टिकट प्रदेश में सूचना प्रौद्योगिकी संचालनालय का गठन होगा कश्‍मीर के पुलवामा में अब तक का सबसे दिल दहला देने वाला आतंकी हमला, टुकड़े बन फैले सैनिकों के शव इस तरह करें जया एकादशी पर पूजन-विधि

2004 सिंहस्थ के मुकाबले 60 प्रतिशत ज्यादा आए इस बार संतों के आवेदन

Post By : Dastak Admin on 04-Apr-2016 16:10:08

simtasta 2004

उज्जैन। सिंहस्थ 2016 में पड़ाव लगाने के लिए साधु संतों और संस्थाओं के तीन हजार से ज्यादा आवेदन आ चुके हैं। यह पिछले सिंहस्थ 2004 के मुकाबले करीब 60 प्रतिशत ज्यादा हैं। 2004 में मेले के लिए करीब 2200 हेक्टेयर जमीन ली थी, 2016 के लिए 3061 हैक्टेयर जमीन अधिगृहीत की गई है। मेला कार्यालय ने पहले दौर में 13 प्रमुख अखाड़ों के 64 महंतों, महामंडलेश्वरों को जमीन का आवंटन कर दिया है। अखाड़ों को आवंटन के बाद ही अन्य संस्थाओं व प्रवचनकारों आदि को जमीन मिलेगी। मेला प्रशासन ने पहली बार ऑनलाइन आ‌वेदन भी बुलाए लेकिन मेले की वेबसाइट पर अब तक केवल 400  ही आवेदन आए हैं। मेला क्षैत्र में अब साधू के पड़ाव स्थलों पर पेयजल, बिजली, सीवर और अन्य सुविधाओं के काम तेजी से किए जा रहे है। सिंहस्थ मेला 22 अप्रैल 2016 से शुरू होगा। मेला क्षेत्र में प्रशासन की तैयारियां चल रही हैं।

अपनी जानकारी दे

नाम
ई-मेल
मोबाइल
फोटो

आपके समाचार

शब्द प्रारूप और पाठ प्रारूप में समाचार फ़ाइल

Subscribe Newsletter




आपका वोट

अपना राशिफल देखें

मेष वृषभ मिथुन कर्क सिंह कन्या तुला वृश्चिक धनु मकर कुंभ मीन
मेष

मन में तरह तरह की शंकाएं व्‍याप्‍त होंगी। प्रेम संबंधों के उजागर होने का भय है। व्‍यापार में कुछ परेशानियों का सामना करना पड़ता है। भूमि भवन के काम बनेंगे। अधिकारी आपके काम से संतुष्‍ट रहेंगे।

महाकाल आरती समय

dastak news ujjain

  महाकाल आरती समय

आरती

चैत्र से आश्विन तक

कार्तिक कृष्ण प्रतिपदा से फाल्गुन पूर्णिमा तक

भस्मार्ती

प्रात: 4 बजे श्रावण मास में प्रात: 3 बजे

प्रातः 4 से 6 बजे तक।

दध्योदन

प्रात: 7 से 7:45 तक

प्रात: 7:30 से 8:15 तक

महाभोग

प्रात: 10 से 10:45 तक

प्रात: 10:30 से 11:15 तक

सांध्य

संध्या 5 से 5:45 तक

संध्या 5 से 5:45 बजे तक

सांध्य

संध्या 7 से 7:45 तक

संध्या 6:30 से 7:15 तक

शयन

रात्रि 10:30 बजे

रात्रि 10:30 से 11 बजे तक

आज का विचार

    कर्म वो आईना है, जो हमारा स्वरूप हमें दिखा देता है। अत: हमें कर्म का एहसानमंद होना चाहिए। - विनोबा भावे

विविध