खास खबरें आज होंगे बाबा बाल हनुमान के पालकी दर्शन, निकलेगा झांकियों का कारवां LOC पर आज से नहीं होगा कारोबार, सरकार का अहम फैसला किम जोंग करेंगे रूस के राष्‍ट्रपति पुतिन से मुलाकात, इस महीने करेंगे रूस की यात्रा रोहित ने बनाया खास रिकॉर्ड, हुए विराट-रैना के ग्रुप में शामिल मैनपुरी में महाबंधन की महारैली, माया-मुलायम 24 साल बाद मंच करेंगे साझा सिद्धार्थ मल्‍होत्रा ने दी अपनी आने वाली फिल्‍म 'जबरिया जोड़ी' के बारे में ये खास जानकारी सुस्त होती अर्थव्यवस्था को देख RBI ने घटाई दरें, समीक्षा बैठक में बात कही गई पाँचवें चरण के लिये 142 अभ्यर्थियों के 198 नाम निर्देशन-पत्र प्राप्त युवक से गलती से दबा कमल का बटन तो काट दी अपनी ही उंगली आज के दिन करें ये उपाय, बरसेगी हनुमान जी की कृपा

नेपाली बाबा ने सिंहस्थ में खर्च किए 22 करोड़, बनवाई थी 11 मंजिला यज्ञशाला

Post By : Dastak Admin on 31-May-2016 13:00:36

उज्जैन सिंहस्थ

उज्जैन। सिंहस्थ में सबसे पहले आने वाले संत आत्मानंददास (नेपाली बाबा) मंगलवार को उज्जैन से रवाना हो गए। मंगलनाथ मंदिर के पीछे स्थित कमेड़ रोड पर बाबा की 11 मंजिला यज्ञशाला चर्चा का विषय थी। यहां हुए महायज्ञ में करीब 22 करोड़ रूपए खर्च हुए थे। यज्ञ के बाद बाबा ने यज्ञ के प्रभाव का अध्ययन भी किया है। 

       सिंहस्थ में नेपाली बाबा का पंडाल सबसे पहले लग गया था। उनके यहां 5 भोजनशाला बनी थी। जिसमें रोजाना 40 हजार लोगों को निःशुल्क भोजन की व्यवस्था थी। बाबा ने भंडारे में उपयोग आने वाली सामग्री की सूची पंडाल के बाहर चस्पा कर रखी थी। इसके मुताबिक़ सिंहस्थ में फलाहार में करीब 1 क्विंटल काजू, 1 क्विंटल किशमिश, 1 क्विंटल छुआरा (खारक) और 5 सौ किलो अखरोट का उपयोग किया गया। उनके शिष्य रामदास जी ने बताया कि भक्तों को विशेष पकवान खिलाने वाले बाबा रोज गिलकी, लौकी की सब्जी ही खाते थे। उनके मुताबिक़ सिंहस्थ की व्यवस्था में आश्रम के करीब 22 करोड़ रूपए खर्च हुए लेकिन ना तो बाबा ने सरकार से कुछ मांगा और ना भक्तों से।

घास-फूस की कुटिया, नारियल की खोल में पानी : शिविर में नेपाली बाबा ने 80 फ़ीट ऊंची 11 मंजिला यज्ञशाला बनवाई थी। इसे बनाने में करीब 1 लाख बांस लगे थे। 100 कारीगरों ने मिलकर इसे 21 दिन में पूरा किया था। इस विशाल यज्ञशाला के पास बाबा के लिए गोबर से लिपी घास-फूस की एक छोटी सी कुटिया बनाई गई थी। वे हमेशा कुश के आसन पर बैठते हैं और नारियल के खोल से बने बर्तन में पानी पीते है।दूसरे साधु-संतो के आश्रमों की भव्यता के बारे में पूछने पर उन्होंने कहा कि साधु को साधु की तरह रहना चाहिए, राजा की तरह नहीं।


पांच साल सामान्य बारिश : यज्ञ के प्रभाव का अध्ययन कर बाबा ने बताया पांच साल शहर और आसपास के क्षेत्रों में सामान्य बारिश होगी। न अतिवृष्टि होगी न अनावृष्टि।बाबा ने कहा उज्जैन सिंहस्थ में हुए अनुष्ठानों का शहर पर सकारात्मक असर पड़ेगा। बीमारियों का प्रकोप कम होगा।


कौन हैं नेपाली बाबा : 63 वर्षीय नेपाली बाबा का नाम है संत श्री आत्मानंददास महात्यागी। इनका बचपन अयोध्या में बीता है और आज भी इनका मुख्य निवास अयोध्या में ही है। बाबा के आश्रम का नाम नारायण धाम सीता राम नाम आश्रम है।

अपनी जानकारी दे

नाम
ई-मेल
मोबाइल
फोटो

आपके समाचार

शब्द प्रारूप और पाठ प्रारूप में समाचार फ़ाइल

Subscribe Newsletter




आपका वोट

अपना राशिफल देखें

मेष वृषभ मिथुन कर्क सिंह कन्या तुला वृश्चिक धनु मकर कुंभ मीन
मेष

व्‍यायाम के लिए थोड़ा समय निकालें। धन के मामलों में किसी प्रकार का जोखिम नहीं लें। नकारात्‍मकता को अपने ऊपर हावी न होने दें। किसी से उपहार मिल सकता है। प्रेम संबंधों में सफलता मिलेगी।

महाकाल आरती समय

dastak news ujjain

  महाकाल आरती समय

आरती

चैत्र से आश्विन तक

कार्तिक कृष्ण प्रतिपदा से फाल्गुन पूर्णिमा तक

भस्मार्ती

प्रात: 4 बजे श्रावण मास में प्रात: 3 बजे

प्रातः 4 से 6 बजे तक।

दध्योदन

प्रात: 7 से 7:45 तक

प्रात: 7:30 से 8:15 तक

महाभोग

प्रात: 10 से 10:45 तक

प्रात: 10:30 से 11:15 तक

सांध्य

संध्या 5 से 5:45 तक

संध्या 5 से 5:45 बजे तक

सांध्य

संध्या 7 से 7:45 तक

संध्या 6:30 से 7:15 तक

शयन

रात्रि 10:30 बजे

रात्रि 10:30 से 11 बजे तक

आज का विचार

    सभी मनुष्य अपने स्वयं के दोष की वजह से दुखी होते हैं, और वे खुद अपनी गलती सुधार कर प्रसन्न हो सकते हैं । - महावीर स्‍वामी

विविध