खास खबरें कलेक्टर ने दी डेड लाइन: सीएम हेल्पलाइन की पेंडिंग शिकायतें एक सप्ताह में हल करें आज भी दो महिलाओं ने की प्रवेश की कोशिश, तनाव सीरिया में पड़ रही मौसम की मार, कड़ाके की ठण्‍ड से 15 बच्‍चों की मौत मनु साहनी बने आईसीसी के नए सीईओ सांसद शत्रुघ्‍न सिन्‍हा के अपनी ही पार्टी के लिए बगावती बोल, कहा- पार्टी में अब 'तानाशाही' अंकिता लोखंडे ने इजहार, बोलीं- 'हां मैं प्यार में हूं' शीर्ष 100 ग्लोबल थिंकर्स की सूची में भारतीय मुकेश अंबानी का नाम मीजल्स की बीमारी को जड़ से खत्म करना जरूरी : जनसम्पर्क मंत्री श्री शर्मा कर्नाटक : दो निर्दलीय विधायकों ने लिया समर्थन वापस, सीएम कुमार स्‍वामी बोले- मेरी सरकार स्थिर संगम का पहला स्नान, उमड़ रहा जनसैलाब

आनंदगिरि महाराज को लंदन में मिला सम्मान, सिंहस्थ में लगाया था शिविर

Post By : Dastak Admin on 23-Sep-2016 12:52:39

simtasta

उज्जैन @  निरंजनी अखाड़े उज्जैन एवं अभा अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष श्रीमहंत नरेंद्र गिरि के इलाहाबाद त्रिवेणी बांध स्थित बड़े हनुमान मंदिर के व्यवस्थापक योग गुरु स्वामी आनंद गिरि महाराज को अंतरराष्ट्रीय योग गुरु सम्मान से लंदन में नवाजा गया है। सिंहस्थ 2016 में इन्होंने योग का बड़ा शिविर लगाया था, जिसमें करीब डेढ़ लाख युवाओं ने इनसे योग सीखा था।

 

हाउस ऑफ कॉमन्स में सम्मान

यह सम्मान उन्हें लंदन स्थित हाउस ऑफ कॉमन्स में संसद सदस्य बॉब ब्लेकमैन एवं लंदन के इंटरनेशनल सिद्धाश्रम के गुरु राजराजेश्वर की ओर से प्रदान किया गया। उनकी इस उपलब्धि पर नेशनल कौंसिल ऑफ हिंदुइज्म सहित इलफोर्ड मंदिर तथा रोमफोर्ड मंदिर की ओर से शुभकामनाएं दी गई। इसी क्रम में लंदन की हिंदू कम्युनिटी के सदस्यों ने भी भारतीय संस्कृति का परचम लहराने के लिए उन्हें बधाई दी। गंगा सेना के प्रवक्ता विजयकुमार द्विवेदी के अनुसार आनंद गिरि ने ब्रिटेन के प्रवासी भारतीयों और अपने गुरु तथा अभा अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि को यह सम्मान समर्पित करते हुए कहा कि विश्व पटल पर संगम नगरी और देश का मान बढ़ाने के लिए सतत प्रयास जारी रहेगा।

 

अपनी जानकारी दे

नाम
ई-मेल
मोबाइल
फोटो

आपके समाचार

शब्द प्रारूप और पाठ प्रारूप में समाचार फ़ाइल

Subscribe Newsletter




आपका वोट

अपना राशिफल देखें

मेष वृषभ मिथुन कर्क सिंह कन्या तुला वृश्चिक धनु मकर कुंभ मीन
मेष

सामाजिक कार्यों में सराहना मिल सकती है। ईश्वर भजन में समय व्यतित होगा। अतिरिक्त आय के साधन सुलभ होंगे। सांसरिक सुख साधन बढ़ेंगे। भवन निर्माण हो सकता है। निवेश से लाभ होगा।

महाकाल आरती समय

dastak news ujjain

  महाकाल आरती समय

आरती

चैत्र से आश्विन तक

कार्तिक कृष्ण प्रतिपदा से फाल्गुन पूर्णिमा तक

भस्मार्ती

प्रात: 4 बजे श्रावण मास में प्रात: 3 बजे

प्रातः 4 से 6 बजे तक।

दध्योदन

प्रात: 7 से 7:45 तक

प्रात: 7:30 से 8:15 तक

महाभोग

प्रात: 10 से 10:45 तक

प्रात: 10:30 से 11:15 तक

सांध्य

संध्या 5 से 5:45 तक

संध्या 5 से 5:45 बजे तक

सांध्य

संध्या 7 से 7:45 तक

संध्या 6:30 से 7:15 तक

शयन

रात्रि 10:30 बजे

रात्रि 10:30 से 11 बजे तक

आज का विचार

    आपकी अच्‍छाई आपके मार्ग में बाधक है, इसलिए अपनी ऑंखों को क्रोध से लाल होने दीजिये, और अन्‍याय का मजबूत हाथों से सामना कीजिये। - सरदार पटेल

विविध