खास खबरें मुंबई की मॉडल ने महाकाल मंदिर समिति से मांगी माफी विजय माल्‍या-नीरव मोदी के बाद एक और कारोबारी देश से फरार मुस्लिम महिलाओं के बुर्का पहनने पर रोक लगाने इस देश में हो रही तैयारी 'गोल्‍डन ग्‍लोब' रेस में हिस्‍सा ले रहे भारतीय नौसेना के अभिषेक भीषण तूफान में फंसे, बचाव दल रवाना पाकिस्‍तान के पूर्व गृह मंत्री रहमान मलिक ने राहुल गांधी को पीएम बनाने की तरफदारी सनी लियोन को मिला था 'गेम ऑफ थ्रोन्‍स' में काम करने का मौका, इसलिए कर दिया मना... सेंसेक्स 110 अंक , निफ्टी 11100 के नीचे मिंटो हॉल अन्तर्राष्ट्रीय कन्वेंशन सेंटर के रूप में तैयार पति-पत्नि के बीच हुआ झगड़ा, पति ने की किस करने की कोशिश, पत्‍नी ने काट दी जीभ आज से शुरू होगा, पितृों का पूजन-तर्पण, पूर्णिमा का होगा पहला श्राद्ध

बिजासन माता का मंदिर

Post By : Dastak Admin on 30-Dec-2015 15:14:57

बिजासन माता का मंदिर

 विंद्यवासिनी को बिजासन माता कहा जाता है । यह विंध्य पर्वत के आसपास के क्षेत्रो में या आर्यावत अथवा मध्य देश में विशेष पूजी जाती है । उज्जैन में इस प्रमुख देवी का मंदिर होना स्वाभाविक है । उज्जैन के देवास मार्ग पर नागझिरी के दक्षिण में और पुराने शहर के सिंहपुरी में बिजासन देवी का प्राचीन मंदिर है । इसी प्रकार गढ़कालिका के पास ओखलेश्वेर मार्ग पर भी बिजासन माता का प्राचीन स्थान है। यह उत्तर भारत की ऐसी सिद्ध देवी है जिनकी लोग बड़ी आस्था से पूजा करते है ।

 

अपनी जानकारी दे

नाम
ई-मेल
मोबाइल
फोटो

आपके समाचार

शब्द प्रारूप और पाठ प्रारूप में समाचार फ़ाइल

Subscribe Newsletter




आपका वोट

किसानों ने बैंको से ऋण ले रखा था किंतु अब वे उसे चुका नही पा रहे हैं। क्या किसानों के बैंक ऋण सरकार को माफ करना चाहिए ?
हां
88%
ujjain poll
नहीं
10%
पता नहीं
1%
सर्वेक्षण

अपना राशिफल देखें

मेष वृषभ मिथुन कर्क सिंह कन्या तुला वृश्चिक धनु मकर कुंभ मीन
मेष

आपकी सोच सकारात्‍मक रहेगीा जीवनसाथी से चली आ रही गलतफहमियां समाप्‍त होंगी। व्‍यापार में तरक्‍की हो सकती हैा अधिकारी आपसे प्रसन्‍न रहेंगेा मित्रों की सलाह काम आएगी। सेहत सामान्‍य।

महाकाल आरती समय

dastak news ujjain

  महाकाल आरती समय

आरती

चैत्र से आश्विन तक

कार्तिक कृष्ण प्रतिपदा से फाल्गुन पूर्णिमा तक

भस्मार्ती

प्रात: 4 बजे श्रावण मास में प्रात: 3 बजे

प्रातः 4 से 6 बजे तक।

दध्योदन

प्रात: 7 से 7:45 तक

प्रात: 7:30 से 8:15 तक

महाभोग

प्रात: 10 से 10:45 तक

प्रात: 10:30 से 11:15 तक

सांध्य

संध्या 5 से 5:45 तक

संध्या 5 से 5:45 बजे तक

सांध्य

संध्या 7 से 7:45 तक

संध्या 6:30 से 7:15 तक

शयन

रात्रि 10:30 बजे

रात्रि 10:30 से 11 बजे तक

आज का विचार

    किसी के प्रति मन में क्रोध लिये रहने की अपेक्षा उसे तुरंत प्रकट कर देना अधिक अच्छा है, जैसे क्षणभर में जल जाना देर तक सुलगने से अधिक अच्छा है | – वेदव्यास -

उज्जैन सिनेमा

     

उज्जैन मानचित्र

पंचक्रोशी यात्रा मानचित्र

विविध