खास खबरें आज होंगे बाबा बाल हनुमान के पालकी दर्शन, निकलेगा झांकियों का कारवां नीति आयोग के सीईओ ने कही बड़ी बात, बिना रोजगार संभव नहीं इतनी विकास दर किम जोंग करेंगे रूस के राष्‍ट्रपति पुतिन से मुलाकात, इस महीने करेंगे रूस की यात्रा रोहित ने बनाया खास रिकॉर्ड, हुए विराट-रैना के ग्रुप में शामिल मैनपुरी में महाबंधन की महारैली, माया-मुलायम 24 साल बाद मंच करेंगे साझा चीन में 'जीरो' चुने जाने पर भावुक हुए शाहरूख खान सुस्त होती अर्थव्यवस्था को देख RBI ने घटाई दरें, समीक्षा बैठक में बात कही गई पाँचवें चरण के लिये 142 अभ्यर्थियों के 198 नाम निर्देशन-पत्र प्राप्त युवक से गलती से दबा कमल का बटन तो काट दी अपनी ही उंगली आज के दिन करें ये उपाय, बरसेगी हनुमान जी की कृपा

नागचंद्रेश्वर मंदिर

Post By : Dastak Admin on 30-Dec-2015 15:19:17

नागचंद्रेश्वर मंदिर

 हिंदू धर्म में सदियों से नागों की पूजा करने की परंपरा रही है। हिंदू परंपरा में नागों को भगवान का आभूषण भी माना गया है। भारत में नागों के अनेक मंदिर हैं, इन्हीं में से एक मंदिर है उज्जैन स्थित नागचंद्रेश्वर का,जो की उज्जैन के प्रसिद्ध महाकाल मंदिर की तीसरी मंजिल पर स्तिथ है। इसकी खास बात यह है कि यह मंदिर साल में सिर्फ एक दिन नागपंचमी (श्रावण शुक्ल पंचमी) पर ही दर्शनों के लिए खोला जाता है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन नागराज तक्षक स्वयं मंदिर में मौजूद रहते हैं।

नागचंद्रेश्वर मंदिर में 11वीं शताब्दी की एक अद्भुत प्रतिमा है , इसमें फन फैलाए नाग के आसन पर शिव-पार्वती बैठे हैं। कहते हैं यह प्रतिमा नेपाल से यहां लाई गई थी। उज्जैन के अलावा दुनिया में कहीं भी ऐसी प्रतिमा नहीं है। माना जाता है कि पूरी दुनिया में यह एकमात्र ऐसा मंदिर है, जिसमें विष्णु भगवान की जगह भगवान भोलेनाथ सर्प शय्या पर विराजमान हैं। मंदिर में स्थापित प्राचीन मूर्ति में शिवजी, गणेशजी और माँ पार्वती के साथ दशमुखी सर्प शय्या पर विराजित हैं। शिवशंभु के गले और भुजाओं में भुजंग लिपटे हुए हैं।

पौराणिक मान्यता सर्पराज तक्षक ने शिवशंकर को मनाने के लिए घोर तपस्या की थी। तपस्या से भोलेनाथ प्रसन्न हुए और उन्होंने सर्पों के राजा तक्षक नाग को अमरत्व का वरदान दिया। मान्यता है कि उसके बाद से तक्षक राजा ने प्रभु के सा‍‍‍न्निध्य में ही वास करना शुरू कर दिया |

 

अपनी जानकारी दे

नाम
ई-मेल
मोबाइल
फोटो

आपके समाचार

शब्द प्रारूप और पाठ प्रारूप में समाचार फ़ाइल

Subscribe Newsletter




आपका वोट

देश में लोक सभा के चुनाव होने वाले है। क्या केन्द्र में भाजपा की सरकार फिर से आयेगी ?
हां
49%
ujjain poll
नहीं
49%
पता नहीं
1%
सर्वेक्षण

अपना राशिफल देखें

मेष वृषभ मिथुन कर्क सिंह कन्या तुला वृश्चिक धनु मकर कुंभ मीन
मेष

व्‍यायाम के लिए थोड़ा समय निकालें। धन के मामलों में किसी प्रकार का जोखिम नहीं लें। नकारात्‍मकता को अपने ऊपर हावी न होने दें। किसी से उपहार मिल सकता है। प्रेम संबंधों में सफलता मिलेगी।

महाकाल आरती समय

dastak news ujjain

  महाकाल आरती समय

आरती

चैत्र से आश्विन तक

कार्तिक कृष्ण प्रतिपदा से फाल्गुन पूर्णिमा तक

भस्मार्ती

प्रात: 4 बजे श्रावण मास में प्रात: 3 बजे

प्रातः 4 से 6 बजे तक।

दध्योदन

प्रात: 7 से 7:45 तक

प्रात: 7:30 से 8:15 तक

महाभोग

प्रात: 10 से 10:45 तक

प्रात: 10:30 से 11:15 तक

सांध्य

संध्या 5 से 5:45 तक

संध्या 5 से 5:45 बजे तक

सांध्य

संध्या 7 से 7:45 तक

संध्या 6:30 से 7:15 तक

शयन

रात्रि 10:30 बजे

रात्रि 10:30 से 11 बजे तक

आज का विचार

    सभी मनुष्य अपने स्वयं के दोष की वजह से दुखी होते हैं, और वे खुद अपनी गलती सुधार कर प्रसन्न हो सकते हैं । - महावीर स्‍वामी

उज्जैन सिनेमा

उज्जैन मानचित्र

पंचक्रोशी यात्रा मानचित्र

विविध