खास खबरें महाकाल में तैनात सुरक्षा गार्ड अब कुत्तों से भी श्रद्धालुओं की सुरक्षा करेंगे प्रदेश की पहली कैबिनेट बैठक अमेरिकी NSA ने अजीत डोभाल को किया फोन, कहा- भारत को आत्मरक्षा का अधिकार पीवी सिंधू दो शानदार प्रदर्शन के साथ सेमीफाइनल में पुलवामा हमले पर अपने बयान को लेकर नवजोत सिंह सिद्धू हुए ट्रोल सदी के महानायक अमिताभा बच्‍चन ने बालीवुड में पूरे किये 50 साल, बेटे अभिषेक ने यूं किया सेलिब्रेट पीएम मोदी ने दिखाई 'वंदे भारत एक्‍सप्रेस' को हरी झण्‍डी, पहली यात्रा के लिए बिक गई सारी टिकट प्रदेश में सूचना प्रौद्योगिकी संचालनालय का गठन होगा कश्‍मीर के पुलवामा में अब तक का सबसे दिल दहला देने वाला आतंकी हमला, टुकड़े बन फैले सैनिकों के शव इस तरह करें जया एकादशी पर पूजन-विधि

नौ नारायणों के मंदिर

Post By : Dastak Admin on 30-Dec-2015 15:25:41

 नौ नारायणों के  मंदिर

 पुरुषोत्तम मास में जहाँ दान धर्म आदि करने का उल्लेख पुराणों में किया गया है वहीं विभिन्न यात्राएँ भी इसी माह में होती है। नौ नारायण यात्रा प्रमुख है। नौ नारायणों के दर्शन करने से नौ ग्रहों की शांति हो जाती है। इनकी पंचोपचार पूजा करना चाहिए। पूजा या यात्रा के साथ दान का भी महत्व शास्त्रों में बताया गया है। नौ नारायण भगवान विष्णु के दशावतारों के विभिन्न स्वरूप हैं। ये नौ स्वरूप उज्जैन में ही विराजित है।

1.अनंतनारायण: अनंतपेठ स्थित अनंतनारायण मंदिर 300 वर्ष से अधिक पुराना है। यहाँ अधिक मास के अलावा हरियाली अमावस्या तथा अनंत चतुर्दशी पर पूजा-पाठ का विशेष महत्व है। इनकी पूजा करने से अनंत सुख मिलता है।
2.सत्यनारायण:सत्यनारायण मंदिर ढाबा रोड पर है। लगभग 200 साल पुराने इस मंदिर में प्रतिदिन ही श्रद्घालु दर्शनों के लिए पहुँचते हैं। सत्यनारायण के दर्शन करने या यहाँ कथा श्रवण करने से सुख समृद्घि की कामना पूर्ण होती है।
3.पुरुषोत्तमनारायण: पुरुषोत्तमनारायण मंदिर हरसिद्धि मंदिर के पास लीला पुरुषोत्तम, गोला मंडी में अग्रवाल धर्मषाला के सामने और क्षीरसागर के घाट पर स्थित है। करीब 200 वर्ष इस पुराने मंदिर में पुरुषोत्तममास के दौरान श्रद्घालुओं का ताँता लगा रहेगा। यहाँ के दर्शन व पूजा करने से हर प्रकार की मनोकामनाओं की प्राप्ति होती है।
4.आदिनारायण:सेंट्रल कोतवाली के समक्ष स्थित आदिनारायण मंदिर में दर्शन या पूजा करने से समस्त दुःखों का नाश होता है। मंदिर काफी पुराना है।
5.शेषनारायण:शेषनारायण मंदिर क्षीरसागर परिक्षेत्र में स्थित है । लगभग पाँच सौ वर्ष पुराने इस मंदिर में भगवान विष्णु शेषनाग पर विश्राम कर रहे हैं। सामने बैठी माता लक्ष्मी उनके चरण दबा रही है। यहाँ अद्भुत स्वरूप के दर्शन होते हैं।
6.पद्मनारायण:पद्मनारायण मंदिर भी क्षीरसागर पर ही है। इस प्राचीन मंदिर में भगवान विष्णु का स्वरूप निराला है। यहाँ की यात्रा करने से अक्षय फल की प्राप्ति होती है।
7.लक्ष्मीनारायण: लक्ष्मीनारायण मंदिर गुदरी चौराहा में स्थित है । कहा जाता है कि यहाँ नियमित दर्शन या आराधना करने वाले व्यक्ति को किसी बात की कमी नहीं रहती है। मूर्ति चमत्कारी है।
8.बद्रीनारायण: बक्षी बाजार में बद्रीनारायण मंदिर है। यह मंदिर भी काफी पुराना है। नौ नारायण की यात्रा करने वाले यात्री यहाँ पूजा-अर्चना कर आशीर्वाद ग्रहण करते हैं।
9.चतुर्भुजनारायण: चतुर्भुजनारायण मंदिर भी ढाबा रोड (हाड़ा गुरू के मकान व मुंषी राजा के बाड़े में गोलामंडी) पर ही है। इस प्राचीन मंदिर में भी नौ नारायण करने वाले यात्रियों की संख्या कम नहीं होगी। इनके दर्शन करने से चारों तरफ ख्याति मिलती है।
 

 

अपनी जानकारी दे

नाम
ई-मेल
मोबाइल
फोटो

आपके समाचार

शब्द प्रारूप और पाठ प्रारूप में समाचार फ़ाइल

Subscribe Newsletter




आपका वोट

देश में लोक सभा के चुनाव होने वाले है। क्या केन्द्र में भाजपा की सरकार फिर से आयेगी ?
हां
54%
ujjain poll
नहीं
43%
पता नहीं
3%
सर्वेक्षण

अपना राशिफल देखें

मेष वृषभ मिथुन कर्क सिंह कन्या तुला वृश्चिक धनु मकर कुंभ मीन
मेष

मन में तरह तरह की शंकाएं व्‍याप्‍त होंगी। प्रेम संबंधों के उजागर होने का भय है। व्‍यापार में कुछ परेशानियों का सामना करना पड़ता है। भूमि भवन के काम बनेंगे। अधिकारी आपके काम से संतुष्‍ट रहेंगे।

महाकाल आरती समय

dastak news ujjain

  महाकाल आरती समय

आरती

चैत्र से आश्विन तक

कार्तिक कृष्ण प्रतिपदा से फाल्गुन पूर्णिमा तक

भस्मार्ती

प्रात: 4 बजे श्रावण मास में प्रात: 3 बजे

प्रातः 4 से 6 बजे तक।

दध्योदन

प्रात: 7 से 7:45 तक

प्रात: 7:30 से 8:15 तक

महाभोग

प्रात: 10 से 10:45 तक

प्रात: 10:30 से 11:15 तक

सांध्य

संध्या 5 से 5:45 तक

संध्या 5 से 5:45 बजे तक

सांध्य

संध्या 7 से 7:45 तक

संध्या 6:30 से 7:15 तक

शयन

रात्रि 10:30 बजे

रात्रि 10:30 से 11 बजे तक

आज का विचार

    कर्म वो आईना है, जो हमारा स्वरूप हमें दिखा देता है। अत: हमें कर्म का एहसानमंद होना चाहिए। - विनोबा भावे

उज्जैन सिनेमा

 

उज्जैन मानचित्र

पंचक्रोशी यात्रा मानचित्र

विविध