खास खबरें दर्शनार्थी द्वारा मन्दिर गार्ड के साथ मारपीट प्रकरण में एफआईआर दर्ज महाराष्‍ट्र : वर्धा के सैन्‍य डिपो में हुआ ब्‍लॉस्‍ट, 4 की मौत, 6 अन्‍य घायल इंडोनेशिया : मस्जिदों में नमाजियों को दिया जा रहा कट्टरता का पाठ -खुफिया एजेंसी महिला विश्व चैंपियनिशप में बॉक्सर मेरीकॉम ने पदक किया पक्‍का, सेमीफाइनल में किया प्रवेश उद्धव ठाकरे 50 हजार शिवसैनिकों के साथ करेंगे अयोध्‍या को कूच मेहंदी से लेकर शादी तक यहॉं देखें दीपवीर की तस्‍वीरें निफ्टी 10750 के नीचे, सेंसेक्स 100 अंक लुढ़का पीएम मोदी आज झाबुआ में करेंगे चुनावी सभा, ये चीजे ले जाना प्रतिबंधित गुरूग्राम : मासूम के साथ हैवानियत करने वाला दरिंदा पकड़ाया, दुष्‍कर्म के बाद प्राइवेट पाटर्स डाल दी लकड़ी कर्ज से दिलाता है मुक्ति भोम प्रदोष व्रत, जानें कथा .

ढोल - नाद - आज भारत के विभिन्न अंचलों से आए ढोल वादन की परंपरा पर केंद्रित सांगीतिक प्रस्तुति ।

Post By : Dastak Admin on 07-Sep-2018 15:01:56

विशाल सिंह कुशवाह,कला चौपाल ,उज्जैन

 भारतीय दर्शन में शब्द और नाद दोनो को ब्रम्ह से जोड़ा गया है । शब्द ब्रम्ह और नाद ब्रम्ह हमारी सनातन परंपरा का विशेष महत्वपूर्ण आधार । हमारा दर्शन ये भी कहता है कि ध्वनियाँ कभी विलुप्त नहीं होती और यह एक वैज्ञानिक तथ्य है । भारतीय संगीत में नाद उत्पन्न करने वाले यंत्रों में ढोल भी एक विशिष्ट स्थान रखता है । ढोल वादन से उत्पन्न नाद मन को चंचल प्रभाव से भर देता है ।

भारत में ढोल बजाने की परम्परा का विस्तृत वर्णन करना आवश्यक नहीं है क्योंकि ढोल की थाप में जन्म का उत्सव है, ढोलक की ताल से विवाह और समस्त मंगल कार्यो की शुरूआत होती है । ढोल की थाप मानव मन के आनंद और उत्साह का प्रतीक हैं ।

भारतवर्ष के विभिन्न हिस्सों में ढोल वादन की अनेक परम्परायें है। जिनमें शास्त्रीयता के साथ लोक एवं क्षेत्र विशेष की परम्पराओं का सामंजस भी देखने को मिलता है । कुछ कोस दूर जाने पर बोली और भाषा में परिवर्तन आ जाता है ठीक वैसे ही ढोल वादन की तालों] प्रकारों एवं तरीके में अंतर आ जाता है।

“कला चौपाल”एक ऐसी चौपाल जो लोक कला, नाटय कला के नवाचार के लिए दृढ संकल्पित है । हमने हमारी सामाजिक, सांस्कृतिक कर्त्तव्यों की प्रतिबद्धता को निभाते हुए संस्था कला चौपाल की व कला चौपाल में अपनी सांस्कृतिक यात्रा के अगले पड़ाव पर संस्कृति विभाग भारत सरकार के सहयोग से आज दिनांक 7 सितंबर 2018 को संध्या 7ः30 पर कालिदास अकादेमी संकुल हॉल में विशाल सिंह कुशवाह के निर्देशन में ढोल  नाद की प्रस्तुति करने जा रहे है ।

ढोल नाद, भारत के विभिन्न अंचलों में बजाए जाने वाली ढोल वादन परंपरा पर केंद्रित सांगीतिक प्रस्तुति है जिसके अंतर्गत विभिन्न अंचलों में ढोल पर बजाने वाली विभिन्न तालों और उनके तरीकों पर प्रदर्शन किया जाएगा एवं ढोल वादन की परंपरा पर ढोल नाद एक अनोखा प्रयोग होगा क्योंकि ये एक राष्ट्रीय स्तर की प्रस्तुति होगी जिसमें प्रस्तुति देने वाले कलाकार ढोल वादक पंजाब, राजस्थान, उड़ीसा, देहली, गुजरात व मध्यप्रदेश के अन्तराष्ट्रीय स्तर के होंगे जो अपने ढोल की परंपरा, वादन शैली, तरीकों पर चर्चा करेंगे और साथ ही एक ही मंच पर अपने ढोल वादन करेंगे एवं सवाल जवाब का आदान-प्रदान करें ।

कार्यक्रम पूर्णता निःशुल्क है ढोल नाद प्रसंग में आप सम्मिलित होकर इस ताल यज्ञ में आप अपनी आहुति दे ।

अपनी जानकारी दे

नाम
ई-मेल
मोबाइल
फोटो

आपके समाचार

शब्द प्रारूप और पाठ प्रारूप में समाचार फ़ाइल

Subscribe Newsletter




आपका वोट

म. प्र में विधानसभा के चुनाव होने जा रहे है। क्या भाजपा की सरकार वापस आयेगी ?
हां
47%
ujjain poll
नहीं
53%
पता नहीं
सर्वेक्षण

अपना राशिफल देखें

मेष वृषभ मिथुन कर्क सिंह कन्या तुला वृश्चिक धनु मकर कुंभ मीन
मेष

वरिष्‍ठ अधिका‍रियों के साथ अच्‍छा तालमेल बैठाकर रखेंगे। पति पत्‍नी के बीच मामूली नोकझोंक हो सकती है। ससुराल पक्ष के किसी कार्यक्रम में भाग लेंगे। नया वाहन क्रय करने की योजना बनेगी। यात्रा शुभ।

महाकाल आरती समय

dastak news ujjain

  महाकाल आरती समय

आरती

चैत्र से आश्विन तक

कार्तिक कृष्ण प्रतिपदा से फाल्गुन पूर्णिमा तक

भस्मार्ती

प्रात: 4 बजे श्रावण मास में प्रात: 3 बजे

प्रातः 4 से 6 बजे तक।

दध्योदन

प्रात: 7 से 7:45 तक

प्रात: 7:30 से 8:15 तक

महाभोग

प्रात: 10 से 10:45 तक

प्रात: 10:30 से 11:15 तक

सांध्य

संध्या 5 से 5:45 तक

संध्या 5 से 5:45 बजे तक

सांध्य

संध्या 7 से 7:45 तक

संध्या 6:30 से 7:15 तक

शयन

रात्रि 10:30 बजे

रात्रि 10:30 से 11 बजे तक

आज का विचार

    प्रसन्‍न रहना बहुत सरल है लेकिन सरल रहना बहुत कठिन । - अज्ञात

उज्जैन सिनेमा

 

उज्जैन मानचित्र

पंचक्रोशी यात्रा मानचित्र

विविध