खास खबरें मुंबई की मॉडल ने महाकाल मंदिर समिति से मांगी माफी विजय माल्‍या-नीरव मोदी के बाद एक और कारोबारी देश से फरार मुस्लिम महिलाओं के बुर्का पहनने पर रोक लगाने इस देश में हो रही तैयारी 'गोल्‍डन ग्‍लोब' रेस में हिस्‍सा ले रहे भारतीय नौसेना के अभिषेक भीषण तूफान में फंसे, बचाव दल रवाना पाकिस्‍तान के पूर्व गृह मंत्री रहमान मलिक ने राहुल गांधी को पीएम बनाने की तरफदारी सनी लियोन को मिला था 'गेम ऑफ थ्रोन्‍स' में काम करने का मौका, इसलिए कर दिया मना... सेंसेक्स 110 अंक , निफ्टी 11100 के नीचे मिंटो हॉल अन्तर्राष्ट्रीय कन्वेंशन सेंटर के रूप में तैयार पति-पत्नि के बीच हुआ झगड़ा, पति ने की किस करने की कोशिश, पत्‍नी ने काट दी जीभ आज से शुरू होगा, पितृों का पूजन-तर्पण, पूर्णिमा का होगा पहला श्राद्ध

दिगंबर जैन समाज के पर्वधिराज पर्युषण महापर्व 14 सितंबर से, आज रोट तीज पूजी जाएगी

Post By : Dastak Admin on 12-Sep-2018 21:44:07

पर्वधिराज पर्युषण महापर्व

 

उज्जैन। शांतिनाथ दिगंबर जैन मंदिर बोर्डिंग में विदक्षाश्री माताजी के सानिध्य में व पर्वाधिराज पर्युषण पर्व में 10 दिनों तक विधि विधान से पूजा एवं दोपहर में तत्व चर्चा शाम को आरती एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम होंगे व श्री महावीर तपोभूमि में मीना दीदी साधना दीदी इंदौर के सानिध्य में श्रावक संस्कार शिविर का आयोजन होगा जिसमें संपूर्ण शिविरार्थि 10 दिनों तक श्री महावीर तपोभूमि में रहेंगे।

समाज सचिव सचिन कासलीवाल के अनुसार दशलक्षण व्रत भाद्रपद शुक्ल पंचमी शुक्रवार 14 सितम्बर से प्रारंभ होगा जो भाद्रपद शुक्ल चतुर्दशी 23 सितम्बर तक रहेगा। आज 12 सितंबर को सभी घरों में रोट तीज पूजी जाएगी तत्पश्चात संपूर्ण दिगंबर जैन समाज में पर्वाधिराज पर्युषण महापर्व प्रारंभ होंगे। सर्वप्रथम 14 सितम्बर शुक्रवार पंचमी उत्तम क्षमा, 15 सितम्बर शनिवार षष्ठी उत्तम मार्दव, 16 सितम्बर रविवार  सप्तमी उत्तम आर्जव, 17 सितम्बर सोमवार अष्टमी उत्तम शौच, 18 सितम्बर मंगलवार नवमी उत्तम सत्य, 19 सितम्बर बुधवार   दशमी ’उत्तम संयम’ (सुगन्ध दशमी), 20 सितम्बर बृहस्पतिवार ग्यारस उत्तम तप, 21 सितम्बर शुक्रवार बारस उत्तम त्याग, 22 सितम्बर शनिवार तेरस उत्तम अकिंचन, 23 सितम्बर रविवार  चतुर्दशी उत्तम ब्रह्मचर्य (अनन्त चतुर्दशी, दशलक्षण व्रत पूर्ण, अनन्त व्रत पूर्ण, भ. वासुपूज्य का मोक्ष कल्याणक), 24 सितम्बर  सोमवार पूर्णिमा, व्रतियों का सामाजिक अभिनन्दन, पारणा एवं क्षमावाणी पर्व प्रारंभ होगा। कुछ मंदिरों में पूर्णिमा से व एकम से यह पर्व प्रारंभ होगा। सभी मंदिरों में क्षमावाणी पर्व बड़ी ही धूमधाम से मनाया जाएगा। समाज के प्रत्येक व्यक्ति एक दूसरे से क्षमा मांग कर क्षमा कर कर यह पर्व मनाते हैं।

पर्यूषण पर्व के लिए सजने लगे मंदिर 

सचिन कासलीवाल बताया कि 14 से 23 सितंबर को दिगंबर जैन समाज में पर्वाधिराज पर्युषण पर्व में दसलक्षण अर्थात उत्तम क्षमा, मार्दव, आर्जव, सत्य, शौच, संयम, तप, त्याग, आकिंचन एवं ब्रम्हचर्य के अलावा चौबीसी तिर्थंकरों, पर्व पूजायें आदि होगी। मध्यांतर में धुप दशमी को सभी जैन मंदिरों की परिक्रमा करेंगे, दसलक्षण पर्व के रुप में मण्डलजी का सुंदर मांडना तथा उसके भावार्थाे से परिचित होंगे। मंदिरों में विशेष साथ सज्जा के साथ सभी मंदिरों की सफाई इत्यादि व्यवस्थाएं पूजन सामग्री की व्यवस्थाएं होती है।

सुबह अभिषेक शांतिधारा, शाम को भक्ति में आरती

दस दिनों में सभी मंदिरों में श्री जी की अभिषेक, शांतिधारा पूजा आराधना अर्चना 10 लक्षण धर्म की पूजा आदि अनेक पुजाएं होती हैं तो शाम को श्री जी के भक्ति मैं आरती के साथ मंदिरों में सांस्कृतिक कार्यक्रम भी आयोजित होते हैं समाज के प्रतिभाओं को भी मौका मिलता हैं। और मंदिरों में स्वाध्याय भी हो जाता हैं। समाज के कुछ लोग व्रतीयों में एक से दस दिनीतक कठोर उपवास से धर्मलाभ लेते हैं तो कुछ लोग संयम, तप, त्याग के साथ वर्जित भोज्य पदार्थाे का त्याग करते हैं रात्री में भोजन का त्याग करते हैं मन वचन काया से शुद्ध रहते हैं शुद्ध आहार करते हैं उसी का नाम पर्वाधिराज पर्युषण पर्व है। 

कलेक्टर, एसपी से व्यवस्थाओं पर चर्चा

पर्वाधिराज पर्युषण पर्व पर सभी मंदिरों में व्यवस्थाओं के संबंध में सामाजिक संसद के अध्यक्ष अशोक जैन चाय वाला एवं सचिव सचिन कासलीवाल ने संबंधित सभी विभागों के साथ-साथ जिला कलेक्टर एवं जिला पुलिस अधीक्षक से भी व्यवस्था के संबंध में चर्चा की संपूर्ण व्यवस्था पुलिस व्यवस्था यातायात सुरक्षा व्यवस्था व्यवस्था स्वास्थ्य संबंधित व्यवस्थाओं के लिए कहा है। 

अपनी जानकारी दे

नाम
ई-मेल
मोबाइल
फोटो

आपके समाचार

शब्द प्रारूप और पाठ प्रारूप में समाचार फ़ाइल

Subscribe Newsletter




आपका वोट

किसानों ने बैंको से ऋण ले रखा था किंतु अब वे उसे चुका नही पा रहे हैं। क्या किसानों के बैंक ऋण सरकार को माफ करना चाहिए ?
हां
88%
ujjain poll
नहीं
10%
पता नहीं
1%
सर्वेक्षण

अपना राशिफल देखें

मेष वृषभ मिथुन कर्क सिंह कन्या तुला वृश्चिक धनु मकर कुंभ मीन
मेष

आपकी सोच सकारात्‍मक रहेगीा जीवनसाथी से चली आ रही गलतफहमियां समाप्‍त होंगी। व्‍यापार में तरक्‍की हो सकती हैा अधिकारी आपसे प्रसन्‍न रहेंगेा मित्रों की सलाह काम आएगी। सेहत सामान्‍य।

महाकाल आरती समय

dastak news ujjain

  महाकाल आरती समय

आरती

चैत्र से आश्विन तक

कार्तिक कृष्ण प्रतिपदा से फाल्गुन पूर्णिमा तक

भस्मार्ती

प्रात: 4 बजे श्रावण मास में प्रात: 3 बजे

प्रातः 4 से 6 बजे तक।

दध्योदन

प्रात: 7 से 7:45 तक

प्रात: 7:30 से 8:15 तक

महाभोग

प्रात: 10 से 10:45 तक

प्रात: 10:30 से 11:15 तक

सांध्य

संध्या 5 से 5:45 तक

संध्या 5 से 5:45 बजे तक

सांध्य

संध्या 7 से 7:45 तक

संध्या 6:30 से 7:15 तक

शयन

रात्रि 10:30 बजे

रात्रि 10:30 से 11 बजे तक

आज का विचार

    किसी के प्रति मन में क्रोध लिये रहने की अपेक्षा उसे तुरंत प्रकट कर देना अधिक अच्छा है, जैसे क्षणभर में जल जाना देर तक सुलगने से अधिक अच्छा है | – वेदव्यास -

उज्जैन सिनेमा

     

उज्जैन मानचित्र

पंचक्रोशी यात्रा मानचित्र

विविध